UPSC Aspirants: जंतर मंतर पर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे यूपीएससी के अभ्यर्थी, एक और मौके की मांग

सिविल सेवा की तैयारी करने वाले जिन अभ्यर्थियों की हाथों में किताब होनी चाहिए वो धरने पर बैठे हैं। अभ्यर्थियों का कहना है कि उन्हें एक और मौका मिलना चाहिए।

UPSC exam, civil service exam, candidates sitting on dharna, Kovid 19, students' dharna at Jantar Mantar
जंतर मंतर पर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे यूपीएससी के अभ्यर्थी, एक और मौके की मांग 
मुख्य बातें
  • अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे यूपीएससी के अभ्यर्थी
  • कोविड की वजह से 2020 एग्जाम ना दे पाने का मुद्दा
  • अभ्यर्थियों ने एक और मौका दिए जाने की मांग की

सिविल सेवा, देश की सबसे प्रतिष्ठित सरकारी सेवाओं में से एक है। हर वर्ष करीब लाखों की संख्या में अभ्यर्थी अपनी किस्मत आजमाने के लिए परीक्षा के तीन चरणों से होकर गुजरते हैं। लेकिन जिन हाथों में किताब होनी चाहिए आज वो जंतर मंतर पर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं और एक अतिरिक्त मौके की मांग कर रहे हैं। ज्यादातर अभ्यर्थियों का कहना है कि कोविड-19 की वजह से वो परीक्षा में शामिल नहीं हो सके। 

कोविड की वजह से परीक्षा ना दे पाने का हवाला
याचिकाकर्ता अभिषेक सिन्हा ने कहा कि यूपीएससी के उम्मीदवार अतिरिक्त प्रयास की मांग को लेकर जंतर-मंतर पर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे हैं। हम 2020 के अंतिम प्रयासकर्ता हैं और उन लोगों की श्रेणी में आते हैं जो COVID और डिजिटल डिवाइड जैसे कारकों के कारण तैयारी की कमी के कारण परीक्षा नहीं दे सके।

बिहार के एक अन्य अभ्यर्थी न गौरव ने कहा कि वो यूपीएससी परीक्षा की तैयारी कर रहे था और 2020 उनका आखिरी प्रयास था। उनके पिता का निधन COVID के दौरान हुआ था और वो परीक्षा के लिए मानसिक रूप से तैयार नहीं था। जब परिणाम घोषित किया गया था, तो वो योग्य नहीं पाए गए। सरकार को हमें एक और मौका देना चाहिए।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर