बिहार में शराबबंदी पर समीक्षा बैठक, तेजस्वी यादव ने दागे 15 सवाल तो मंत्री के घर के पास मिली शराब की बोतलें

बिहार में शराबबंदी के खिलाफ सीएम नीतीश कुमार की अध्यक्षता में उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक चल रही है। लेकिन कुछ ऐसी तस्वीरें भी सामने आईं हैं दो शराबबंदी के दावे को चिढ़ा रही हैं।

Prohibition of liquor in Bihar, Tejashwi Yadav, death due to poisonous liquor in Bihar, Nitish Kumar RJD, JDU
बिहार में शराबबंदी पर समीक्षा बैठक, तेजस्वी के तीखे सवाल 
मुख्य बातें
  • बिहार में शराबबंदी पर समीक्षा बैठक
  • समीक्षा बैठक से पहले तेजस्वी यादव ने किए थे सवाल
  • तेजस्वी बोले- जेडीयू नेताओं पर कार्रवाई नहीं होती

शराबबंदी पर इस समय बिहार में होहल्ला है। दरअसल बिहार के सीएम नीतीश कुमार कहते हैं कि वो शराबबंदी को लेकर गंभीर हैं, शराबबंदी की राह में तरह तरह की अड़चनें हैं लेकिन वो इस मुद्दे पर समझौता करने वाले नहीं हैं। लेकिन बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने समीक्षा बैठक से पहले नीतीश कुमार से सवाल पूछे हैं। उन्होंने कहा कि अगर उन्हें 15 सवालों का जवाब नहीं मिलता तो समीक्षा बैठक विशुद्ध नौटंकी होगी।

शराबबंदी पर समीक्षा बैठक
एक तरफ शराबबंदी पर समीक्षा बैठक जारी है तो दूसरी तरफ स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे के घर के करीब शरीब की बोतलें मिलीं जो सरकार के दावें को खुद बयां कर रही हैं। तेजस्वी यादव ने कहा कि  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी बताए कि वो शराबबंदी पर आज कौन से नंबर की समीक्षा बैठक कर रहे है? क्या यह 1100वीं समीक्षा बैठक है?
 


समीक्षा बैठक से पहले तेजस्वी यादव ने दागे थे सवाल

  1.  विगत 6 वर्ष में शराबबंदी पर की गयी पूर्व की हजारों समीक्षा बैठकों का क्या परिणाम निकला? अगर प्रदेश के मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक के बाद भी वांछित परिणाम नहीं मिले तो यह प्रशासन की नहीं, सरासर मुख्यमंत्री की घोर विफलता है?
  2. मुख्यमंत्री शराबबंदी के नाम पर लाखों ग़रीबों-दलितों को जेल में डाल चुके है लेकिन वो बताएँ कि अब तक उन्होंने शराब की पूर्ति करने वाले कितने माफिया, कारोबारी, तस्करों और अधिकारियों को जेल भिजवाया है? अगर नहीं तो क्यों? क्या यह क़ानून गरीब पर ही लागू होता है?
  3. नीतीश सरकार शराब माफिया के साथ मिलीभगत के चलते न्यायालय में साक्ष्य प्रस्तुत नहीं करती जिससे एक-आध माफिया जो पकड़ाया जाता है उसे बरी होने में आसानी होती है। मुख्यमंत्री अगर शराबबंदी को लेकर गंभीर है तो वो बताएँ शराबबंदी के कितने मामलों में हारने के बाद बिहार सरकार ने उच्चतम न्यायालय में अपील की है?
  4. मुख्यमंत्री जी, बताएँ शराबबंदी के नाम पर आज तक कितने डीएसपी और एसपी स्तर के अधिकारी बर्खास्त हुए है? क्या शीर्ष पुलिस अधिकारी शराबबंदी के प्रति जवाबदेह नहीं है?
  5.  मुख्यमंत्री जी, बताएँ शराबबंदी के नाम पर वो सिर्फ़ सिपाहियों को ही क्यों निलंबित करते है? निलंबित करने बाद उन्हीं 80% सिपाहियों को दुबारा बहाल क्यों करते है? अगर उन अधिकांश सिपाहियों की कोई गलती नहीं होती तो फिर आप उनके निलंबन का नाटक क्यों रचते है? क्या इसलिए कि शीर्ष अधिकारी बच जाए और सिपाहियों को निलंबित कर कुछ समय तक मामला ठंडा कर दिया जाए?
  6. मुख्यमंत्री जी बताए, शपथ लेने वाले अधिकांश पुलिसकर्मी और जेडीयू नेता शराब क्यों पीते है?
  7.  मुख्यमंत्री जी अगर शराबबंदी की लेकर गंभीर है तो हमारे द्वारा सदन में साक्ष्य प्रस्तुत करने के बाद मंत्री रामसूरत राय और उनके भाई के ख़िलाफ कारवाई करने में आपके हाथ क्यों काँप गए? आप Biased और Selective Approach के साथ शराबबंदी करने की सोच भी कैसे सकते है?
  8.  हम शराबबंदी में सहयोग करते है, साक्ष्य प्रस्तुत करते है तो आप कारवाई करने की बजाय सदन में बैठे-बैठे मास्क के अंदर मुस्कुराते है। आपके लिए शराबबंदी नहीं कुर्सी महत्वपूर्ण है। है कि नहीं??
  9.  आपके राष्ट्रीय अध्यक्ष के करीबी, जेडीयू के वरिष्ठ नेतागण, सीतामढ़ी के उपाध्यक्ष, नालंदा के प्रखंड अध्यक्ष, सहित श्याम बहादुर सिंह जैसे अनेक विधायकों और आपके करीबी नेताओं के हमने साक्ष्य और video आपके सामने रखे। जनता को प्रवचन देने से पूर्व आप यह बताए उनके विरुद्ध आपने क्या कारवाई की? कई ईमानदार अधिकारियों द्वारा आपके नेताओं के विरुद्ध कारवाई करने पर आपने उन अधिकारियों को ही हटा दिया। यही आपकी शराबबंदी को लेकर प्रतिबद्दता है।
  10.  मुख्यमंत्री जी, आप विपक्ष के किसी भी सकारात्मक फ़ीड्बैक, सुझाव और ज़मीनी हक़ीक़त को हमेशा राजनीतिक चश्मे से देखते है इसलिए हर बात में आपको राजनीति ही नज़र आती है। हमारी नहीं तो अहंकार त्याग कम से कम आपके वरिष्ठ सहयोगी और पूर्व मुख्यमंत्री आदरणीय जीतनराम माँझी जी और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सहित अनेक सांसद जो इसकी ख़ामियाँ गिनाते है, उन पर तो गौर कीजिए।
  11.  वह शराब माफिया जिसकी वजह से अनेक मौतें हो जाती है वह आपके बेडरूम तक कैसे पहुँचता है? उसके चुनाव जीतने पर आपकी पूरी पार्टी उसे बधाई देने पहुँचती है? यह संबंध क्या कहलाता है?
  12.  विगत 15 दिनों में विभिन्न जिलों में ज़हरीली शराब से हुई 65 मौतों का दोषी कौन है?
  13.  शराबबंदी के बावजूद प्रदेश की सीमा के अलावा 4-5 जिलों की सीमा पार कर करोड़ों लीटर शराब गंतव्य स्थल तक कैसे पहुँचती है? क्या आपके कथन अनुसार शासन-प्रशासन में सिवाय आपको छोड़ “सब लोग ही गड़बड़” है?
  14. अगर बिहार में कथित लाखों लीटर शराब ज़ब्त हुई है, तो वह प्रदेश के अंदर कब, कैसे और क्यों पहुँची? इसमें किसका दोष है? यह किसकी विफलता है? अगर सरकार में बैठे माफिया, तस्कर, सत्तारूढ़ नेता और अधिकारी बिहार में प्रति माह करोड़ों लीटर शराब की पूर्ति नहीं कराते तो क्या अदृश्य “सुशासनी भूत” यह सप्लाई करता-कराता है?

बता दें कि कि हाल ही में बेतिया, गोपालगंज और सीतामढ़ी में जहरीली शराब की वजह से 32 लोगों की मौत हो गई थी और इस विषय पर विपक्ष नीतीश कुमार सरकार की घेरेबंदी कर रहा था। विपक्ष का आरोप है कि सरकारी पक्ष से जुड़े लोग खुद शराब की तस्करी में शामिल हैं। उन लोगों के खिलाफ कई तरह के साक्ष्य मुहैया कराए गए हैं लेकिन सरकार ने ध्यान नहीं दिया।

पढ़िए Patna के सभी अपडेट Times Now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर