आदिवासी स्टार्टअप का कमाल, चार महीने में बेचे 12 लाख रु. के प्रोडक्ट

जवाधु हिल्स जनजातीय कृषि उत्पादक कंपनी ने मात्र 4 महीने में 12 लाख रुपये का कारोबार कर डाला है। कंपनी ने 4 मैन्युफैैक्चरिंग इकाई भी स्थापित कर ली हैं।

Trifed India
ट्राइफेड इंडिया के सहयोग आदिवासी स्टार्टअप को बढ़ावा मिल रहा है 

मुख्य बातें

  • तमिलनाडु के तिरुवन्नामलाई जिले में जवाधु पहाड़ियां स्थित हैं। और इस क्षेत्र में 92.60 फीसदी मलयाली आदिवासी हैं।
  • जवाधु हिल्स जनजातीय कृषि उत्पादक कंपनी का गठन 2020 में किया गया था।
  • इमली, बाजरा, शहद और काली मिर्च की प्रोसेसिंग और पैकेजिंग के लिए 4 मैन्यूफैक्चरिंग इकाइयां स्थापित की गई हैं।

नई दिल्ली: आम तौर आदिवासियों को यह माना जाता है कि वह पारंपरिक तरीके से ही जीवनयापन करते हैं। लेकिन तमिलनाडु के तिरूवन्नामलाई जिले के आदिवासियों ने इस धारणा को तोड़ दिया है। जवाधु हिल्स जनजातीय कृषि उत्पादक कंपनी ने मात्र 4 महीने में ही सफलता की  ऐसी सीढ़ी चढ़ी है कि वह लोगों के लिए नजीर बन गई है। जनजातीय कार्य मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार कंपनी ने केवल 4 महीने में  12 लाख रुपये के प्रोसेस्ड प्रोडक्ट की बिक्री की है।

कौन हैं जवाधु पहाड़ी के आदिवासी 

तमिलनाडु के तिरुवन्नामलाई जिले में जवाधु पहाड़ियां स्थित हैं। इस ब्लॉक में 92.60 फीसदी मलयाली आदिवासी  हैं और उनके जीवन का मुख्य आधार गैर-लकड़ी वन उपज और पट्टा भूमि पर उगाए जाने वाले विभिन्न प्रकार के पेड़ जैसे इमली, कटहल, नारियल, नींबू और केला और आंवला आदि शामिल हैं। इस क्षेत्र के आदिवासियों को सशक्त बनाने के लिए ट्राइफेड के सहयोग से जवाधु हिल्स जनजातीय कृषि उत्पादक कंपनी का गठन 2020 में किया गया था। इसमें किसान हित समूहों, उत्पादक समूहों और स्वयं सहायता समूहों के सदस्य शामिल हैं। जिनका सामुदायिक स्तर पर गठन किया गया है। एफपीओ के निदेशकों और प्रमुख मैनेंजमेंट टीम में सभी आदिवासी हैं।

एक साल के अंदर 4 मैन्यूफैक्चरिंग इकाइयां स्थापित

जवाधु हिल्स जनजातीय कृषि उत्पादक कंपनी द्वारा एक साल से भी कम समय में इमली, बाजरा, शहद और काली मिर्च के प्रसंस्करण और पैकेजिंग के लिए चार मैन्यूफैक्चरिंग इकाइयां स्थापित की गई हैं। पूरी तरह से आदिवासियों द्वारा चलाई जा रही इन इकाइयों ने नवंबर 2020 से उत्पादन शुरू किया है। इनकी प्रतिदिन उत्पादन क्षमता 1 टन है। अब तक 4 महीने से भी कम समय में कंपनी ने 12 लाख रुपये तक के प्रसंस्कृत उत्पाद बेचे हैं। इसके अलावा एफपीओ को ट्राइब्स इंडिया मार्केटप्लेस पर सेलर  के रूप में  पंजीकृत भी किया गया और यह अपने 9 उत्पादों को प्लेटफॉर्म के माध्यम से बेच रहा है। जवाधु वीडीवीके, जमुनामारथुर वीडीवीके और कूटथुर वीडीवीके केंद्र हैं जो एफपीओ के तहत काम कर रहे हैं। आदिवासी इन वीडीवीके के माध्यम से गैर-लकड़ी वन उत्पादों या लघु वन उत्पादों के जरिए अपनी आजीविका अर्जित कर रहे हैं।


बड़े पैमाने पर पहुंचा लाभ

जनजातीय कार्य मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार एक साल के भीतर 124 टन बाजरा का उत्पादन किया गया है, जिसमें कुल 9800 परिवार बाजरा की खेती करते हैं।  जवाधु पहाड़ी में प्रति वर्ष 22 टन शहद का उत्पादन होता है, जिसमें 120 स्वयं सहायता समूह के रूप में शहद का उत्पादन करने वाले कुल 2760 सदस्य शामिल हैं। इसलिए, जवाधु हिल्स उत्पादक कंपनी 2760 शहद उत्पादकों के जीवन और आजीविका को बेहतर बनाने का लक्ष्य बनाकर चल रही है। इमली उत्पादन और बिक्री प्रक्रिया में 9500 परिवार और 300 स्वयं सहायता समूह शामिल हैं। इन पहाड़ियों में 90 टन से अधिक इमली का उत्पादन हो रहा है।

वन धन आदिवासी स्टार्ट अप

वन धन आदिवासी स्टार्ट-अप, उसी योजना और कार्यक्रम का एक हिस्सा है जो वनों पर निर्भर जनजातियों के लिए स्थायी आजीविका के निर्माण की सुविधा के लिए वन धन केंद्रों की स्थापना करके उत्पादों की ब्रांडिंग और मार्केटिंग का काम करता है। पिछले दो वर्षों  में, 37,904 वन धन स्वयं सहायता समूह (वीडीएसएचजी) को अब तक ट्राइफेड द्वारा 300 वनवासियों के 2275 वन धन विकास केंद्र समूहों (वीडीवीकेसी) में शामिल किया गया है। 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर