उद्धव ठाकरे के एक बयान से अटकलें तेज, क्या बीजेपी- शिवसेना में होगा मेल

संभावना और कयास ही तो सियासत है,कभी भी कुछ भी हो सकता है। दरअसल महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता रावसाहेब दानवे की मौजूदगी में बयान दिया तो अटकलों का दौर शुरू हो गया।

udhav thakray, BJP, shivsena,maha vikas aghadi, congress, ncp, rav saheb danve,
उद्धव ठाकरे के एक बयान से अटकलें तेज, क्या बीजेपी- शिवसेना होंगे एक साथ 

मुख्य बातें

  • केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दानवे को संबोधित कर रहे थे सीएम उद्धव ठाकरे
  • पूर्व और भावी सहयोगी बोलने पर सियासी सरगर्मी हुई तेज
  • शिवसेना नेता संजय राउत बोले- बयान का कोई मतलब नहीं

औरंगाबाद। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को यहां एक समारोह में केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दानवे समेत कुछ नेताओं को ‘पूर्व और संभावित भावी सहयोगी’ कहकर संबोधित किया जिससे बदलाव की अटकलों ने जन्म लिया है। ठाकरे की अगुवाई वाली  शिवसेना ने 2019 के विधानसभा चुनावों के बाद भाजपा के साथ रिश्ते तोड़ लिये थे और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाई थी।

मेरे पूर्व, वर्तमान और अगर हम साथ में आते हैं तो पर अटकल
एक समारोह में मंच पर उपस्थित नेताओं को ठाकरे ने ‘‘मेरे पूर्व, वर्तमान और अगर हम साथ में आते हैं तो भावी सहयोगी’’ कहकर संबोधित किया। कार्यक्रम में महाराष्ट्र के भाजपा नेता दानवे और राज्य सरकार के वरिष्ठ मंत्री तथा कांग्रेस नेता बालासाहेब थोराट मंच पर मौजूद थे।बाद में एक अन्य समारोह में संवाददाताओं से बातचीत में ठाकरे ने साफ किया कि उन्होंने पूर्व और वर्तमान सहयोगी इसलिए कहा था क्योंकि मंच पर सभी दलों के नेता थे। उन्होंने कहा, ‘‘अगर सब साथ आते हैं तो वे भावी सहयोगी भी बन सकते हैं। समय बताएगा।’’
प्रदेश भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा था कि उन्हें अब और प्रदेश का ‘पूर्व’ मंत्री नहीं कहा जाना चाहिए क्योंकि चीजें बदल रही हैं।

देवेंद्र फडणवीस क्या बोले
ठाकरे की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस ने किसी अन्य स्थान पर संवाददाताओं से कहा कि उद्धव ठाकरे को मान लेना चाहिए कि शिवसेना के राकांपा और कांग्रेस के साथ ‘अस्वाभाविक गठबंधन’ की वजह से राज्य को नुकसान उठाना पड़ रहा है।
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘उन्हें यह समझकर अपनी बात रखनी चाहिए कि वह किस तरह के लोगों के साथ काम कर रहे हैं। राजनीति में सबकुछ संभव है, लेकिन राज्य भाजपा की आंख सत्ता पर नहीं है। हम एक सक्षम विपक्षी दल हैं और अपना काम करते रहेंगे।’’

संजय राउत बोले- बयान का मतलब नहीं
शिवसेना नेता संजय राउत ने ठाकरे के बयान को ज्यादा तवज्जो नहीं देने का भाव प्रदर्शित करते हुए कहा कि दानवे सभी के दोस्त हैं। उन्होंने कहा, ‘‘जब वह प्रदेश भाजपा अध्यक्ष थे तो सबकुछ ठीक था। इस बयान में ऐसा कुछ नहीं है जिससे धरती हिल गयी हो। जो हमारे साथ आना चाहते हैं, आ सकते हैं और भावी साथी बन सकते हैं। इसमें ज्यादा मतलब नहीं निकालना चाहिए।’’राउत ने यह दावा भी किया कि उन्हें पता चला है कि चंद्रकांत पाटिल को भाजपा ने नगालैंड के राज्यपाल के पद की पेशकश की है।

Mumbai News in Hindi (मुंबई समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर