उद्धव ठाकरे सरकार के 16 महीने और चार बड़े सवाल, परेशानी में 'सरकार'

महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे को इन दिनों एंटीलिया केस में सवालों का जवाब देना पड़ रहा है। लेकिन उनके 16 महीने के कार्यकाल में उन्हें तीन बड़े मुद्दों का भी सामना करना पड़ा।

 उद्धव ठाकरे सरकार के 16 महीने और चार बड़े मुद्दे पर पूछे गए सवाल, परेशानी में 'सरकार'
उद्धव ठाकरे , सीएम, महाराष्ट्र 

मुख्य बातें

  • उद्धव ठाकरे सरकार के सामने 16 महीने में चार बड़े सवाल
  • कोरोना महामारी, सुशांत सिंह राजपूत केस, कंगना रनावत विवाद और एंटीलिया केस का करना पड़ा सामना
  • इन चार बड़े मामलों के बाद महाविकास अघाड़ी की सरकार विपक्ष के निशाने पर

मुंबई। राजनीति के बारे में कहा जाता है कि सियासत की पिच पर बैटिंग से बोलिंग करना ज्यादा आसान होता है। दरअसल बोलर अलग अलग अंदाज में बोलिंग करता है और बैट्समैन को जवाब देना पड़ता है। अगर बात महाराष्ट्र करें तो सरकार में आने से पहले वो उद्धव ठाकरे अपने ही गठबंधन से सवाल किया करते थे। लेकिन उनके 16 महीने के कार्यकाल में चार ऐसे बड़े सवाल सामने आए जिससे उन्हें दो चार होना पड़ा। अगर सवालों की फेहरिश्त की बात करें तो वो लिस्ट बहुत लंबी है। लेकिन चार ऐसे सवाल जैसे कोरोना, सुशांत, कंगना रनावत औक एंटीलिया हैं जिसे लेकर उन्हें तमाम तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ा। 

कोरोना मामले से जुड़े सवाल
28 नवंबर 2019 को उद्धव ठाकरे ने भगवान कपड़े में मराठी भाषा में शपथ ली थी। शपथ से पहले उन्हें उठापठक के दौर का सामना करना पड़ा तो इस बात का भान नहीं रहा होगा कि सत्ता की मीठी स्वाद की जगह कड़वी स्वाद का सामना करना पड़ेगा। कोरोना वायरस पुरी दुनिया को दहला रहा था तो भारत में सबसे ज्यादा भयावह तस्वीर महाराष्ट्र की थी। विपक्ष उनसे सवाल पूछ रहा था कि आखिर देश के दूसरे राज्यों में जिस तरह से कोरोना से निपटने की तैयारी हुई। उस तरह की व्यवस्था करने में राज्य सरकार नाकाम क्यों रही। 
New Corona guidelines in Uttar Pradesh, antigen test at airport and railway stations
सुशांत सिंह राजपूत का मुद्दा आया सामने
कोरोना महामारी के बीच सुशांत सिंह राजपूत के केस में ना सिर्फ बॉलीवुड दहल गया बल्कि राजनीति में भी उफान आ गया। यह सवाल उठने लगे कि सुशांत सिंह राजपूत और दिशा सालियान का केस राजनीतिक भी है। इसके साथ जब बिहार पुलिस की तरफ से एफआईआर दर्ज की गई तो भी बवाल बढ़ा। उद्धव ठाकरे को कहना पड़ा कि इस मुद्दे पर जानबूझकर सियासत की जा रही है। 
Sushant Singh Rajput
कंगना रनावत विवाद बनी सुर्खी
सुशांत सिंह राजपूत केस जब खबरों में था तो उस समय महाराष्ट्र सरकार की सबसे मुखर आलोचक के तौर पर कंगना रनावत उभरीं। उन्होंने जब कहा कि मुंबई तो पाक अधिकृत कश्मीर की तरह लगता है तो सियासत गरमा गई। शिवसेना उनके ऊपर हमलावर हुई और उसका असर यह हुआ कि अवैध अतिक्रमण का हवाला देते हुए उनके ऑफिस को गिरा दिया गया। विवाद का यह सफर आज भी जारी है। गाहे बेगाहे कंगना रनावत शिवसेना सरकार के कार्यप्रणाली पर निशाना साधती रहती हैं। 
Kangana Ranaut
एंटीलिया केस चर्चा में
इस समय एंटीलिया केस की वजह से उद्धव ठाकरे सरकार चर्चा में है। इस केस में जो जानकारी अब तक सामने आई है उसके मुताबिक विपक्ष का कहना है कि उद्धव ठाकरे आरोपियों को बचा रहे हैं। बता दें कि इस केस में क्रिमिनल इंटेलिजेंस यूनिट का एपीआई सचिन वझे एनआईए की गिरफ्त में हैं और उसकी लपट में मुंबई पुलिस के कमिश्नर रहे परमबीर सिंह झुलस चुके हैं। उनका तबादला डीजी होमगार्ड्स पर किया गया है। 
Antilia case: एंटीलिया के बाहर पीपीई किट में शख्स कौन था, सचिन वाझे या कोई और
इस केस में महाराष्ट्र सरकार में गृहमंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि परमबीर सिंह का ट्रांसफर रूटीन ट्रांसफर नहीं है। बल्कि जिस तरह से कुछ गंभीर लापरवाही सामने आई उसके बाद फैसला किया गया। इस मुद्दे पर बीजेपी महाविकास अघाड़ी सरकार पर विशेष तौर पर हमलावर है। बीजेपी का कहना है कि महाराष्ट्र सरकार को परमबीर सिंह की भूमिका के बारे में बताने की जरूरत है।

Mumbai News in Hindi (मुंबई समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर