Ramdas Athawale: राम दास अठावले भी कोरोना की चपेट में, गो कोरोना गो का मंत्र नहीं आया काम

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले को कोरोना हो गया है। ऐतहियात के तौर पर उन्हें बांबे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

Ramdas Athawale: राम दास अठावले भी कोरोना की चपेट में, गो कोरोना गो का मंत्र नहीं आया काम
रामदास अठावले, केंद्रीय मंत्री और आरपीआई के अध्यक्ष 

मुख्य बातें

  • केंद्रीय मंत्री राम दास अठावले को हुआ कोरोना, बांबे हॉस्पिटल में कराए गए भर्ती
  • संपर्क में आने वालों को कोरोना टेस्ट कराने की अठावले ने दी सलाह
  • अठावले के दफ्तर ने बताया कि ऐहतियात के तौर पर कराया गया भर्ती

मुंबई। देश में कोरोना के मामलों में गिरावट आ रही है लेकिन महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में कोरोना के केस में इजाफा भी हुआ है। इस बीत केंद्रीय सामाजिक आधिकारिता मंत्री रामदास अठावले को कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। ऐहतियात के तौर पर उन्हें बांबे हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। आपको वो दृश्य याद होगा जब देश में कोरोना महामारी दस्तक दे चुकी थी तो उस वक्त कोरोना को भगाने के लिए गो कोरोना गो अभियान चलाया था। उस वक्त उनका वो अभियान सुर्खियों में रहा। अठावले अपने दिलचस्प बयानों के लिए पहले से भी जाने जाते रहे हैं। 

ऐहतियातन अठावले अस्पताल में भर्ती
रामदास अठावले के दफ्तर के मुताबिक उनकी सेहत ठीक है। इसके साथ ही उन सभी लोगों से अपील की गई है जो हाल फिलहाल के दिनों में उनके संपर्क में आए हैं वो अपना कोरोना टेस्ट जरूर कराएं। अठावले हाल के दिनों में सार्वजनिक तौर पर काफी सक्रिय रहे हैं। फिलहाल यह बता पाना मुमकिन नहीं है कि वो किस स्रोत के संपर्क में थे। 

प्लाज्मा थिरेपी के जरिए फडणवीस का इलाज
अगर बात महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस की करें तो उनका प्लाज्मा थिरेपी के जरिए इलाज चल रहा है। उन्हें रविवार को 200 एमएल प्लाज्मा की पहली डोज दी गई थी। हालांकि आईसीएमआर का कहना है कि कोविड-19 के इलाज में इस थिरेपी को हटाया जा सकता है। महाराष्ट्र में करीब 500 लोगों पर इस थिरेपी का इस्तेमाल किया गया है। 
राष्ट्रीय स्तर पर कोरोना के मामले 79 लाख के पार
अगर राष्ट्रीय स्तर पर कोरोना के आंकड़ों को देखें को 79 लाख के पार यह आंकड़ा है। लेकिन अच्छी बात है कि बीते 24 घंटों में कोरोना के करीब 36 हजार मामले सामने आए हैं जो अपने आप में राहत देने वाली बात है। इसके साथ मौत के आंकड़ों में भी कमी दर्ज की गई है। लेकिन जानकारों का कहना है कि इसका अर्थ यह नहीं है कि सबकुछ ठीक हो गया है। अभी भी खतरे ज्यादा हैं। ठंड के समय में कोरोना के केस में और भी इजाफा हो सकता है, लिहाजा पहले की तरह सतर्कता बरतनी होगी। 

Mumbai News in Hindi (मुंबई समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर