पानी-पानी हुई मायानगरी मुंबई, बारिश से थम गई जिंदगी, देखें PHOTOS

Heavy rain in Mumbai: मुंबई में भारी बारिश की वजह से जीवन की रफ्तार थम सी गई है। लोगों को कहीं आने जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

 Heavy rain in Mumbai:
Heavy rain in Mumbai: मुंबई में भारी बारिश   |  तस्वीर साभार: AP

मुंबई: भारी बारिश ने मुंबई और मुंबई महानगरीय क्षेत्र में परेशानी खड़ी कर दी है। भारी बारिश के कारण सड़क और रेल यातायात गंभीर रूप से बाधित हुए हैं और आवश्यक सेवा दे रहे लोगों के आवागमन को प्रभावित किया है।  

बुधवार को आईएमडी के अनुसार, दक्षिण मुंबई (कोलाबा) में सुबह 8 बजे तक 14.78 सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गई, जबकि उपनगरों (सांताक्रूज) में मंगलवार को रात 8 बजे से अब तक 28.64 सेंटीमीटर बारिश हुई, लेकिन ज्यादातर बारिश रात के दौरान हुई जो औसतन 36.03 सेंटीमीटर था।

आईएमडी मुंबई ने आगामी दिनों में भारी बारिश की भविष्यवाणी की है, इसके साथ ही अधिकारियों ने लोगों से आग्रह किया है कि जब तक आवश्यक न हो घर से बाहर न निकलें। 


बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) आपदा नियंत्रण ने कहा कि दक्षिण व सेंट्रल मुंबई के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों जैसे सायन, माटुंगा, कुर्ला, चूनाभट्टी, मझगांव, मस्जिद बंदर और बाइकुला से भारी जल-जमाव की सूचना मिली है।

उपनगरों में कई इलाकों के अलावा गोरेगांव, मलाड, दहिसर, कुर्ला, घाटकोपर, मुलुंद में जलभराव होने की जानकारी सामने आई है।

मीठी नदी के जलस्तर में खतरनाक वृद्धि के बाद कुर्ला के क्रांति नगर झुग्गियों से करीब 50 लोगों को बुधवार तड़के सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित कर दिया गया और स्थिति में ढील के बाद उन्हें घर वापस भेज दिया गया।

सीआर के मुख्य प्रवक्ता शिवाजी सुतार ने कहा कि, सेंट्रल रेलवे ने छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस से ठाणे और वाशी तक उपनगरीय सेवाएं निलंबित कर दी हैं। स्पेशल मेल / एक्सप्रेस ट्रेनों को रिशेड्यूल किया गया है।

आईएमडी, मौसम विज्ञान के डिप्टी डायरेक्टर जनरल केएस होसलिकर ने कहा, "मुंबई और ठाणे उपनगरों में पिछले 12 घंटों में भारी बारिश के साथ कुछ क्षेत्रों में 150 मिलीमीटर से अधिक बारिश रिकॉर्ड करने की जानकारी मिली है।" मुंबई के सार्वजनिक बस सेवा ऑपरेटर बीईएसटी ने शहर के आसपास के करीब 18 मार्गों पर अपने परिचालन को रद्द कर दिया है और कुछ को डायवर्ट कर दिया है।

तीन सालों में पहली बार, 14,47,363 मिलियन-लीटर की कुल क्षमता के साथ झीलों में कुल 14,30,152 मिलियन-लीटर (98.81 प्रतिशत) का रिकॉर्ड जल-भंडारण देखा गया, जबकि साल 2019 में यह भंडारण 98.55 प्रतिशत और साल 2018 में 93.61 था। वहीं तटीय कोंकण के अन्य हिस्सों जैसे सिंधुदुर्ग, रत्नागिरि, रायगढ़, ठाणे और पालघर में भी भारी बारिश से सामान्य जीवन बाधित हुई और कई कस्बों और समुद्र के किनारे के गांवों में बाढ़ आ गई।


 

Mumbai News in Hindi (मुंबई समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर