Mumbai: आनंद महिंद्रा ने इस कपल को डोनेट किए 4 लाख रुपए, वजह जानकर आप दोनों को करेंगे सलाम

मुंबई के एक कपल ने अपनी 4 लाख की सेविंग की हुई रकम लॉकडाउन के समय जरूरतमंदों की सेवा में लगा दिए। इनके इसी निस्वार्थ सेवाभाव से खुश व प्रेरित होकर आनंद महिंद्रा ने इन्हें 4 लाख रुपए दिए हैं।

anand mahindra donated 4 lakh to couple
आनंद महिंद्रा ने कपल को डोनेट किए 4 लाख रुपए 

मुंबई : उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने मुंबई के मालवानी इलाके के एक कपल को 4 लाख रुपए की राशि डोनेट की है। दरअसल कुछ दिनों पहले मीडिया में ये खबर आई थी कि इस कपल ने अपनी 4 लाख की सेविंग की हुई रकम जरूरतमंदों की सेवा में लगा दिए। इन दोनों ने लॉकडाउन के समय में करीब 1500 लोगों को अपनी तरफ से राशन बांटा था।

कोरोना महामारी के इस दौर में इन्होंने महसूस किया कि कई ऐसे लोग हैं जो ठीक तरह से दो टाइम का भोजन भी नहीं कर पा रहे हैं। उनकी जीवनशैली देखकर इनका दिल पसीज गया था जिसके बाद कपल ने उनकी मदद करने का फैसला किया था और इसी क्रम में इन्होंने अपनी 4 लाख की सेविंग की हुई राशि इनकी मदद में लगा दी।

इस कपल के इसी निस्वार्थ भाव से प्रेरित और खुश होकर उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने इन्हें 4 लाख रुपए दिए। इस कपल के मुताबिक इन्होंने इन्होंने घर खरीदने के लिए पैसे जमा किए थे जिसे गरीबों व बसहारा लोगों की मदद में लगा दिए।

इसके अलावा अन्य टेलीकॉम कंपनियां, आईटी कंपनियों ने भी मिलकर डेढ़ लाख की राशि उन्हें डोनेट की। फैयाज (पति) ने बताया कि सभी डोनर्स को हम धन्यवाद देना चाहते हैं। उन्होंने बताया कि मीडिया में पहली खबर आने के बाद पूरे मुंबई से राशन की डिमांड होने लगी थी जिसके बाद उनके साथ मुश्किल आने लगी थी।

उसने बताया कि अब हम इस राशि से और भी लोगों को राशन की मदद दे पाएंगे। फैयाज की पत्नी मिजगा शेख जो पति के साथ मिलकर इस नेक काम में अपनी भागीदारी निभा रही है, वह खुद एक स्लम एरिया में चलने वाले स्कूल की प्रिंसिपल है। वह स्लम के बच्चों को पढ़ाने का काम करती हैं। लॉकडाउन के समय में उसने बच्चों की फीस भी माफ कर दी थी।

उसने बताया कि उसके स्कूल को अभी सरकारी मान्यता मिलनी बाकी है जबकि उसे स्कूल चलाते हुए 10 साल हो चुके हैं। इस कपल ने ना सिर्फ लोगों को राशन में मदद की बल्कि किसी गरीब परिवार में शादी के लिए पैसों की कमी पड़ने पर उन्हें शादी के खर्चे भी अपने हिसाब से दिए। इसके अलावा कोई गरीब परिवारा का बच्चा यदि कॉलेज की फीस नहीं भर पा रहा है तो उनकी भी मदद की। इसके अलावा जरूरतमंदों को दवाईयों के खर्चे भी दिए।

अगली खबर