हर्ड इम्युनिटी की तरफ बढ़ रही मुंबई? क्‍या कहता है सीरो सर्वे

Mumbai Herd Immunity Sero survey: मुंबई में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच यहां सीरो सर्वे से संकेत मिल रहे हैं कि बड़ी संख्‍या में लोगों में एंटीबॉडी विकसित हो चुका है।

हर्ड इम्युनिटी की तरफ बढ़ रही मुंबई? क्‍या कहता है सीरो सर्वे
हर्ड इम्युनिटी की तरफ बढ़ रही मुंबई? क्‍या कहता है सीरो सर्वे  |  तस्वीर साभार: AP, File Image

मुख्य बातें

  • मुंबई में कोरोना वायरस संक्रमण के आंकड़े 1.12 लाख के करीब जा पहुंचे हैं
  • वहीं 6 हजार से अधिक लोगों की यहां अब तक इस संक्रमण से जान जा चुकी है
  • सीरो सर्वे से संकेत मिलता है कि मुंबई अब हर्ड इम्‍युनिटी की तरफ बढ़ रही है

मुंबई : महाराष्‍ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण कहर ढा रहा है, जहां अब तक 4 लाख से अधिक लोग संक्रमित जो चुके हैं, जबकि 14 हजार से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। राज्‍य में सर्वाधिक प्रभावित मुंबई है, जो देश की वाणिज्यिक राजधानी के तौर पर जानी जाती है। अकेले मुंबई में कोरोना संक्रमण के लगभग 1.12 लाख मामले हैं, जबक‍ि 6 हजार से अधिक लोग यहां अब तक इस घातक संक्रमण से जान गंवा चुके हैं। इस बीच मुंबई को लेकर एक सर्वे में ऐसी बातें सामने आई हैं, जो इशारा करती हैं कि महानगर अब हर्ड इम्‍युनिटी की तरफ बढ़ रहा है।

कई लोगों में मिले एंटीबॉडी

इसका खुलासा सीरो सर्वे से हुआ है, जिसके मुताबिक मुंबई में 27.3 फीसदी लोगों में एंटीबॉडी पाए गए हैं। यहां 5485 लोगों का टेस्ट सर्वे में शामिल किया गया, जिनमें से 1,501 लोगों में एंटीबॉडी पाए गए हैं। यहां एंटीबॉडी टेस्‍ट की सबसे अधिक पॉजिटिविटी रेट भिवंडी और ठाणे में पाई गई है, जो 47.1 फीसदी है। मुंबई के झुग्‍गी बस्‍ती इलाके में 57 फीसदी आबादी में और इससे इतर के इलाकों में 16 फीसदी लोगों में एंटीबॉडी बन जाने की बात सामने आ रही है, जिससे इसके संकेत भी मिलते हैं कि यहां आधिकारिक आंकड़ों से कहीं अधिक लोग संक्रमण की चपेट में आकर ठीक भी हो चुके हैं।

क्‍या है हर्ड इम्‍युनिटी?

हर्ड इम्युनिटी एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसमें अगर कोई संक्रामक बीमारी फैलती है तो आबादी के एक हिस्‍से में उस बीमारी को लेकर प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाती है। ऐसा कई बार वैक्‍सीन से होता है, जबकि कई बार वायरस के संपर्क में आने से भी होता है। अगर 75 प्रतिशत लोगों में इस तरह की रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाती है तो इसे हर्ड इम्युनिटी माना जाता है। माना जाता है कि अगर एक निश्चित आबादी में संक्रामक रोग को लेकर रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाती है तो वे किसी को संक्रमित नहीं कर पाएंगे और इससे कम्‍युनिटी ट्रांसमिशन की चेन भी टूट जाएगी।

बिना लक्षण वाले संक्रमण की दर अधिक

मुंबई में हर्ड इम्‍युनिटी के बारे में कुछ भी कहना हालांकि अभी जल्‍दबाजी होगी। बीएमसी का कहना है कि इस संबंध में एक अन्‍य सर्वे होगा, जिसमें इसकी जांच की जाएगी कि वायरस का प्रसार किस हद तक हुआ है और लोगों में हर्ड इम्‍युनिटी विकसित हुई है या नहीं। सीरो सर्वेक्षण से अब तक यह भी खुलासा हुआ है कि यहां बिना लक्षण वाले संक्रमण की दर अपेक्षाकृत अधिक है। साथ ही पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में भी संक्रमण दर अधिक बताई गई है। यहां हुए सीरो सर्वेक्षण में मृत्यु दर को 0.5 से 0.10 फीसदी के बीच बताया गया है।

मुंबई में 5 अगस्‍त से खुलेंगे मॉल, पर बंद रहेंगे थियेटर

इस बीच मुंबई के कई इलाकों में मॉल और मार्केट कॉम्‍प्‍लेक्‍स खोलने का फैसला लिया गया है। हालांकि कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए यहां थियेटर, फूड कोर्ट, रेस्‍टोरेंट बंद रहेंगे। प्राप्‍त जानकारी के मुताबिक, ग्रेटर मुंबई, पुणे, सोलापुर, औरंगाबाद, मालेगांव, नासिक, धुले, जलगांव, अकोला, अमरावती, नागपुर में मॉल और मार्केट कॉम्‍प्‍लेक्‍स खोलने का फैसला लिया गया है। यहां 5 अगस्‍त को सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे के बीच मॉल और मार्केट कॉम्‍प्‍लेक्‍स खुले रहेंगे। हालांकि थियेटर, फूड कोर्ट, रेस्‍टोरेंट बंद रहेंगे। 

अगली खबर