Aryan Khan Drugs Case: सैम डिसूजा ने एसआईटी के सामने दर्ज कराया बयान, के पी गोसावी पर 50 लाख वसूली का आरोप

आर्यन खान केस में एसआईटी के सामने सैम डिसूजा ने भी अपना बयान दर्ज कराया है।

Aryan Khan Case, Cruise Drugs Case, KP Gosavi, Pooja Dadlani, SIT, NCB, Sameer Wankhede
सैम डिसूजा ने एसआईटी के सामने दर्ज कराया बयान, के पी गोसावी पर 50 लाख वसूली का आरोप 
मुख्य बातें
  • के पी गोसावी इस समय जेल में है
  • गोसावी, एनसीबी का गवाह है
  • गोसावी पर शाहरुख खान से वसूली के जरिए पैसे ऐंठने का आरोप

मुंबई पुलिस की एक विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने कॉर्डेलिया क्रूज ड्रग्स बस्ट मामले में कथित जबरन वसूली की जांच कर रही है, जिसमें बॉलीवुड अभिनेता के शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान एक आरोपी हैं, सैम डिसूजा का बयान दर्ज किया, जिन्होंने कथित तौर पर केपी की मदद की थी। मामले में गवाह, गोसावी, अभिनेता की प्रबंधक पूजा डडलानी से संपर्क करता है।

एसआईटी के सामने सैम डिसूजा का बयान दर्ज
डिसूजा सोमवार दोपहर करीब 12.45 बजे महाराष्ट्र की राजधानी में एसआईटी के कार्यालय पहुंचे। डिसूजा ने एसआईटी को दिए अपने बयान में दावा किया कि गोसावी ने शाहरुख खान के बेटे को मामले से बचाने के बहाने उनसे संपर्क किया था।डिसूजा ने कहा कि उन्होंने बॉलीवुड सुपरस्टार की मैनेजर पूजा ददलानी और गोसावी के बीच एक बैठक की व्यवस्था की, जिन्होंने अभिनेता के बेटे को मामले से बाहर निकालने में उनकी मदद मांगी थी। उसने दावा किया कि उसे बाद में पता चला कि गोसावी ने ददलानी से 50 लाख रुपये की उगाही की थी, जिसके बाद उसने उससे पैसे वापस करने को कहा।

डडलानी को गोसावी की वसूली से बचाया
डिसूजा ने जोर देकर कहा कि उन्होंने डडलानी को गोसावी और अन्य लोगों द्वारा ठगे जाने से बचाया, क्योंकि उन्होंने पैसे वापस दिलाने में मदद की। उन्होंने कहा कि मामले में जबरन वसूली के पैसे से उनका कोई लेना-देना नहीं है।वानखेड़े के नेतृत्व में लग्जरी कॉर्डेलिया क्रूज पर छापेमारी के दौरान कथित तौर पर ड्रग्स की बरामदगी के मामले में एनसीबी ने आर्यन खान को गिरफ्तार किया था। बाद में, बॉम्बे हाईकोर्ट ने उन्हें मामले में जमानत दे दी, जिसके बाद उन्हें आर्थर रोड जेल से रिहा कर दिया गया।

एनसीबी के गवाह प्रभाकर सेल भी उठा चुके हैं सवाल
एनसीबी के स्वतंत्र गवाह प्रभाकर सेल ने आरोप लगाया था कि उसने आर्यन खान को रिहा करने के लिए 25 करोड़ रुपये की मांग के बारे में एक फोन पर बातचीत सुनी थी। विस्फोटक जबरन वसूली के आरोपों ने एक बड़े विवाद को जन्म दिया, जिससे एनसीबी को जांच का आदेश देना पड़ा। बाद में, मुंबई पुलिस ने एनसीबी के अधिकारियों के खिलाफ आरोपों की जांच के लिए एक एसआईटी का गठन किया। गौरतलब है कि जबरन वसूली के आरोपों की जांच कर रही एनसीबी की विजिलेंस टीम डिसूजा का बयान पहले ही ले चुकी है।

Mumbai News in Hindi (मुंबई समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर