क्या है SOG की जांच, जिससे भड़क गए सचिन पायलट और राजस्थान में छिड़ गया सियासी वार

What is SOG : राजस्‍थान में गहराए सियासी संकट की एक बड़ी वजह स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) के नोटिस को बताया जा रहा है, जिससे सचिन पायलट नाराज बताए जा रहे हैं। जानें आख‍िर क्‍या है SOG?

क्या है SOG की जांच, जिससे भड़क गए सचिन पायलट और राजस्थान में छिड़ गया सियासी वार
क्या है SOG की जांच, जिससे भड़क गए सचिन पायलट और राजस्थान में छिड़ गया सियासी वार  |  तस्वीर साभार: BCCL

मुख्य बातें

  • सचिन पायलट स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप के नोटिस से नाराज बताए जा रहे हैं
  • SOG राजस्‍थान में विधायकों की खरीद-फरोख्‍त के आरोपों की जांच कर रहा है
  • इस संबंध में कांग्रेस विधायक दल ने एसओजी को शिकायत दी थी

जयपुर : राजस्‍थान में जारी सियासी उठापटक के बीच स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) की चर्चा जोरों पर है। बताया जा रहा है कि SOG नोटिस की वजह से ही सचिन पायलट नाराज हो गए और अब उनकी नाराजगी इस कदर बढ़ चुकी है कि राजस्‍थान में मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार पर संकट के बादल मंडराते नजर आ रहे हैं, जिसमें खुद पायलट उपमुख्‍यमंत्री हैं।

SOG ने जारी किया था नोटिस

राजस्‍थान में पिछले कुछ दिनों से कांग्रेस का एक खेमा बीजेपी पर विधायकों की खरीद-फरोख्‍त का आरोप लगाता रहा है। खुद मुख्‍यमंत्री अशोक गहलाते भी इसे लेकर बीजेपी पर आरोप लगा चुके हैं। विधायकों के इसी खरीद-फरोख्‍त के आरोपों के बीच राजस्थान पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) की ओर से उपमुख्‍यमंत्री सचिन पायलट को भी नोटिस जारी किया गया, जिससे उनके समर्थकों में भारी नाराजगी है।

सीएम गहलोत ने किया था ट्वीट

बीजेपी नेताओं द्वारा विधायकों की खरीद-फरोख्‍त को लेकर कांग्रेस विधायक दल ने शिकायत दी थी, जिसके बाद सचिन पायलट के साथ-साथ मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत, कांग्रेस के चीफ व्हिप और सरकार के कुछ अन्‍य मंत्रियों व विधायकों को भी नोटिस जारी किए गए। ये नोटिस 10 जुलाई को जारी किए गए थे। मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को इस संबंध में ट्वीट भी किया था और कहा था कि ये नोटिस सामान्‍य बयान दर्ज कराने के लिए आए हैं। इसे अन्‍यथा नहीं लिया जाना चाहिए। लेकिन पायलट और उनके समर्थकों को यह नागवार गुजरा।

नोटिस से नाराज हुए सचिन पायलट

सचिन पायलट के करीब‍ियों का कहना है कि यह नोटिस सीएम गहलोत के इशारे पर भेजा गया है, जिससे पायलट अपमानित महसूस कर रहे हैं। इसके बाद से ही वे अपने समर्थकों के साथ दिल्ली रवाना हो गए। सीएम गहलोत को भी SOG की ओर से नोटिस भेजे जाने के संबंध में पायलट खेमा का कहना है कि यह बस खानापूर्ति के लिए किया गया है। पायलट का दावा है कि उन्‍हें कांग्रेस के 30 विधायकों और अन्‍य निर्दलीय विधायकों का समर्थन हासिल है।

अगली खबर