Jaipur Crime News: जयपुर में 2 शातिर चोर गिरफ्तार, चोरी का सोना बैंक में रखकर करते थे ये काम

Jaipur Police: जयपुर पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। राजधानी में दो शातिर चोर पकड़े गए हैं। पुलिस ने एक घर से हुए लाखों के चोरी के मामले में कार्रवाई करते हुए शातिरों को पकड़ा है। सूने मकान, दुकान को आरोपी निशाना बनाते थे। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है।

jaipur crime news
जयपुर पुलिस ने दो शातिर चोरों को किया गिरफ्तार (प्रतीकात्मक तस्वीर)  |  तस्वीर साभार: ANI
मुख्य बातें
  • जयपुर की हरमाड़ा थाना पुलिस ने की बड़ी कार्रवाई
  • 9 जून को हुई चोरी के मामले में पुलिस ने की कार्रवाई
  • आरोपियों पर अलग-अलग थानों में दर्ज हैं कई मामले

Jaipur Crime News: राजधानी जयपुर की हरमाड़ा थाना पुलिस ने एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए नशे और शौक की पूर्ति के लिए नकबजनी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने 2 शातिर बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है। जयपुर की डीसीपी वेस्ट रिचा तोमर ने बताया कि बदमाशों ने 9 जून को हरमाड़ा थाना इलाके में एक सूने मकान को निशाना बनाकर लाखों रुपए के जेवरात और नकदी चुरा ली थी। इस मामले में पुलिस टीम ने कार्रवाई करते हुए दो शातिर बदमाश महेश मीणा और संदीप सिंह को गिरफ्तार किया है।

मिली जानकारी के अनुसार आरोपियों ने प्रारंभिक पूछताछ में नशे का शौक पूरा करने के लिए नकबजनी की वारदातों को अंजाम देने की बात कबूल की है। गिरोह का सरगना महेश मीणा है। बता दें कि आरोपी महेश के खिलाफ अलग-अलग थानों में चोरी और नकबजनी के 7 मामले पहले से दर्ज हैं।

जेल से निकलकर सरगना ने बनाया गिरोह

प्राप्त जानकारी के मुताबिक आरोपियों से हुई प्रारंभिक पूछताछ में इस बात का खुलासा हुआ है कि महेश मीणा अभी कुछ महीने पहले ही चोरी के प्रकरण में सजा काटकर जेल से बाहर आया था। इसने जेल से बाहर आते ही अपने पुराने साथियों को गिरोह से जोड़ना शुरू किया और उन सभी को नशे की लत लगाई। इसके बाद नशे की पूर्ति करने के लिए गिरोह के सदस्यों के साथ मिलकर सूने मकान, दुकान और कार्यालयों को निशाना बनाने का काम करने लगे। बता दें कि गिरोह के सभी सदस्य दिनभर जयपुर शहर के अलग-अलग इलाकों में घूम-घूम कर सूने मकानों की रेकी किया करते थे।

नशे के लिए बैंक में जेवर रखकर लेते थे लोन

जानकारी के लिए बता दें कि इन चोरों का गिरोह घरों के बाहर ताले लगे मिलते हैं या गेट पर धूल जमी होती, उन मकानों को निशाना बनाकर रात में नकबजनी की वारदात को अंजाम दिया करते थे। सूने मकान से चुराए गए जेवरातों को ओने-पौने दामों पर बेचते या बैंक में सोने के जेवरों को जमा कर लोन ले लेते थे। इससे मिलने वाले पैसे से वे अपने नशे की पूर्ति करते थे। बता दें कि जैसे ही गिरोह के सदस्यों के पास रुपए खत्म होते वैसे ही वह नई वारदात को अंजाम देने की तैयारी शुरू कर देते थे। फिलहाल पुलिस आरोपियों से पूछताछ में लगी हुई है। पुलिस का मानना है कि अनेक वारदातों का खुलासा होने की संभावना है।

Jaipur News in Hindi (जयपुर समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर