PM Independence Day Speech 2022: लाल किले से PM मोदी का लगातार नौवा संबोधन, पढ़े भाषण का पूरा TEXT 

PM Modi independence day full speech text in Hindi : परिवारवाद, वंशवाद एवं भ्रष्टाचार पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि देश इस समय दो सबसे बड़ी चुनौतियों भ्रष्टाचार एवं परिवारवाद का सामना कर रहा है। पीएम ने लोगों से भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में सरकार का साथ देने की अपील की।

  PM Narendra Modi's independence day 2022 full speech text in Hindi
अगले 25 वर्षों में देश के विकास के लिए पीएम ने रखा रोडमैप।  

PM Modi independence day full speech text in Hindi : आजादी के 75 साल पूरा होने के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को लाल किले की प्राचीर से देश को संबोधित किया। इस मौके पर पीएम ने देश की ताकत एवं कमजोरियों का जिक्र करते हुए कहा कि देश 2047 में अपने आजादी के 100 साल पूरा करेगा। इस 25 वर्षों की विकास यात्रा के लिए उन्होंने लोगों के सामने एक ब्लूप्रिंट एवं एजेंडा रखा। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश ने जब भी बड़े लक्ष्य तय किए तो उसने उस लक्ष्य को पूरा किया। संकल्पों से लक्ष्य कि सिद्धि की जा सकती है। अपने करीब 83 मिनट के भाषण में प्रधानमंत्री ने स्वतंत्रता सेनानियों, पंच-प्रण, महिलाओं के सम्मान, भ्रष्टाचार, परिवारवाद-वंशवाद सहित अन्य विषयों पर अपनी बात रखी। 

क्रांतिकारियों और स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का जिक्र किया
महान क्रांतिकारियों और स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा, 'आज हम सब देशवासियों के लिए ऐसे हर महापुरूष को, हर त्‍यागी को, हर बलिदानी को नमन करने का अवसर है। उनका ऋण स्‍वीकार करने का अवसर है और उनका स्‍मरण करते हुए उनके सपनों को जल्‍द से जल्‍द पूरा करने का संकल्‍प लेने का भी अवसर है। हम सभी देशवासी कृतज्ञ है, पूज्‍य बापू के, नेता जी सुभाष चंद्र बोस के, बाबा साहेब अम्‍बेडकर के, वीर सावरकर के, जिन्‍होंने कर्तव्‍य पथ पर जीवन को खपा दिया। यह देश कृतज्ञ है, मंगल पांडे, तात्‍या टोपे, भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरू, चंद्रशेखर आजाद, अशफाक उल्ला खां, राम प्रसाद बिस्मिल अनगिनत ऐसे हमारे क्रांति वीरों ने अंग्रेजों की हुकुमत की नींव हिला दी थी। 

पीएम मोदी के भाषण का पूरा TEXT पढ़ने के लिए CLICK करें

पंच-प्रण से होगा देश का विकास-पीएम
विकास के पथ पर देश के तेजी से विकास के लिए पीएम ने पंच-प्रण का जिक्र किया। उन्होंने कहा, 'आने वाले वर्षों में हमें पंच-प्रणों को अपनाना होगा। ये पंच प्रण- विकसित भारत का संकल्प, गुलामी की सोच से मुक्ति, विरासत पर गर्व, एकता एवं एकजुटता और नागरिकों का कर्तव्य होंगे।' पीएम ने देश के युवाओं से अपने जीवन के 25 साल देश के विकास के लिए समर्पित करने की अपील की। इस बात का जिक्र करते हुए कि भारत लोकतंत्र की जननी है और विविधता में एकता इसकी ताकत है, उन्होंने कहा, 'तमाम चुनौतियां होने के बावजूद देश रुका नहीं, झुका नहीं, वह आगे बढ़ता रहा। देश ने साबित किया है कि इसकी ताकत विविधता से आती है। देशभक्ति की भावना देश को मजबूत करती आई है।'   

PM Modi ने लालकिले की प्राचीर से किया हजरत महल और अशफाकउल्ला खान को नमन, ओवैसी को दिया मुंहतोड़ जवाब

वंशवाद एवं भ्रष्टाचार पर निशाना साधा
परिवारवाद, वंशवाद एवं भ्रष्टाचार पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि देश इस समय दो सबसे बड़ी चुनौतियों भ्रष्टाचार एवं परिवारवाद का सामना कर रहा है। पीएम ने लोगों से भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में सरकार का साथ देने की अपील की। उन्होंने कहा, 'भ्रष्टाचार देश को दीमक की तरह खाए जा रहा है। जिन लोगों ने देश को लूटा है, अब वे इसकी कीमत चुका रहे हैं। अवैध तरीके से कमाई गई संपत्तियां जब्त हो रही हैं।'
 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर