1 अगस्त को मनाया जाएगा मुस्लिम महिला अधिकार दिवस, क्या है वजह

Muslim Women's Rights Day: 1 अगस्त को मुस्लिम महिला अधिकार दिवस के तौर पर मनाने का फैसला किया गया है। आखिर इसके पीछे का आधार क्या है उसे समझने की कोशिश करेंगे।

Muslim Women's Rights Day, Triple Talaq, on August 1, 2019, Triple Talaq declared a crime, Mukhtar Abbas Naqvi, Muslim women, Narendra Modi government
1 अगस्त को मनाया जाएगा मुस्लिम महिला अधिकार दिवस, क्या है वजह 

मुख्य बातें

  • 1 अगस्त को मनाया जाएगा मुस्लिम महिला अधिकार दिवस
  • 1 अगस्त 2019 को तीन तलाक को कानूनन अपराध बनाया गया
  • मुख्तार अब्बास नकवी बोले- तीन तलाक पर कानून बनने के बाद मुस्लिम महिलाओं को आजादी मिली और केस भी कम हुए

Muslim Women's Rights Day: केंद्र सरकार ने एक अगस्त को मुस्लिम महिला अधिकार दिवस के तौर पर मनाने का फैसला किया है। अब सवाल यह है कि 1 अगस्त की तारीख का चुनाव क्यों किया गया है। दरअसल दो साल पहले 1 अगस्च 2019 को तीन तलाक को अपराध घोषित कर दिया गया था। इस संबंध में अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी कहते हैं तीन तलाक को कानूनन जुर्म घोषित किए जाने के बाद इसमें कमी आई है, खास बात है कि मुस्लिम महिलाओं को खौफ से आजादी मिली है जिसके साए में वो जीने के लिए मजबूर थीं। 

1 अगस्त को मुस्लिम महिला अधिकार दिवस
एक अगस्त को मुस्लिम महिला अधिकार दिवस पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम में केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी, अल्पसंख्यक कार्य मंत्री नकवी और केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेंद्र यादव मौजूद रहेंगे। नकवी ने कहा कि तीन तलाक को कानूनी तौर पर अपराध बना कर मोदी सरकार ने मुस्लिम महिलाओं केआत्म निर्भरता, आत्म सम्मान, आत्म विश्वास को पुख्ता कर उनके संवैधानिक-मौलिक-लोकतांत्रिक अधिकारों को सुनिश्चित किया है।

क्या है तीन तलाक
ट्रिपल तलाक मुख्य रूप से हनफ़ी इस्लामिक स्कूल ऑफ़ लॉ के बाद भारत के मुस्लिम समुदाय में प्रचलित एक प्रथा है।इस प्रथा के तहत, एक मुस्लिम पुरुष केवल तीन बार "तलाक" बोलकर अपनी पत्नी को तलाक दे सकता है, लेकिन महिलाएं तीन तलाक का उच्चारण नहीं कर सकती हैं और शरिया अधिनियम, 1937 के तहत तलाक लेने के लिए अदालत जाने की आवश्यकता होती है।तीन तलाक तलाक पर पाकिस्तान, बांग्लादेश और इंडोनेशिया सहित कई इस्लामिक देशों ने प्रतिबंध लगा दिया है।

मुस्लिम महिला के प्रावधान (विवाह पर अधिकारों का संरक्षण) अधिनियम, 2019

  1. अधिनियम लिखित या इलेक्ट्रॉनिक रूप में तलाक की सभी घोषणाओं को अमान्य (अर्थात कानून में लागू नहीं करने योग्य) और अवैध बनाता है।
  2. यह तलाक को एक संज्ञेय अपराध की घोषणा भी करता है (केवल अगर अपराध से संबंधित जानकारी एक विवाहित महिला द्वारा दी गई है जिसके खिलाफ तलाक घोषित किया गया है), जिसमें तीन साल तक की कैद और जुर्माने का प्रावधान है।
  3. एक संज्ञेय अपराध वह है जिसके लिए एक पुलिस अधिकारी किसी आरोपी व्यक्ति को बिना वारंट के गिरफ्तार कर सकता है।
  4. मजिस्ट्रेट आरोपी को जमानत दे सकता है। महिला को सुनने के बाद ही जमानत दी जा सकती है (जिसके खिलाफ तलाक सुनाया गया है), और अगर मजिस्ट्रेट संतुष्ट है कि जमानत देने के लिए उचित आधार हैं।


महिला के अनुरोध पर (जिसके खिलाफ तलाक घोषित किया गया है) मजिस्ट्रेट द्वारा अपराध को कंपाउंड किया जा सकता है (यानी पक्ष समझौता कर सकते हैं)।एक मुस्लिम महिला जिसके खिलाफ तलाक घोषित किया गया है, अपने पति से अपने लिए और अपने आश्रित बच्चों के लिए निर्वाह भत्ता लेने की हकदार है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर