Logtantra: यमुना में प्रदूषण के लिए कौन जिम्मेदार? राजनीति जारी, कब होगी सफाई?

Logtantra: छठ महापर्व के बीच दिल्ली में एक नई जंग छिड़ गई है। यमुना नदी में गंदगी का किस्सा बेशक नया नहीं है लेकिन इस पर हो रही सियासत नई है। यमुना की गंदगी और छठ में ऐसे गंदे पानी में डूबकी लगाना सियासी मुद्दा बन गया है।

yamuna river
यमुना नदी 

आज छठ पूजा का दूसरा दिन है। इस महापर्व पर लोग यमुना नदी में आज फिर डुबकी लगाने पहुंचे, लेकिन मजबूरन उन्हें प्रदूषित पानी में डुबकी लगानी पड़ी। यमुना की हालत क्या है ये तो आपने साक्षात तस्वीरें देखीं। लेकिन इस तस्वीर के लिए केंद्र सरकार दिल्ली की आम आदमी पार्टी को ठहरा रही है तो दिल्ली सरकार आसपास के राज्यों को।

यमुना में गंदगी में औसतन करीब 2000 मिलियन लीटर प्रति दिन का प्रदूषण होता है। अगर वाटर ट्रीटमेंट प्लांट पर होने वाले खर्च की बात करें तो वो करीब 3 करोड़ प्रति मिलियन लीटर प्रति दिन की कपैसिटी का होता है। ऐसे में प्लांट लगाने का कुल खर्च बैठेगा 5000 करोड़ रुपए। साल 2021 में जल शक्ति मंत्रालय को 69,053 करोड़ रुपए फंड मिला और दिल्ली को चाहिए 5000 करोड़ रुपए तो सवाल ये है कि क्या दिल्ली को इस फंड का 7 फीसदी हिस्सा नहीं मिल सकता है? क्या यमुना नदी को इसीलिए नजरअंदाज किया जा रहा है क्योंकि वो दिल्ली में है और यहां आम आदमी पार्टी की सरकार है?

अब कुछ सवाल आम आदमी पार्टी की सरकार से हैं

  • सात साल में यमुना की सफाई के लिए क्या किया?
  • सिर्फ छठ के मौके पर ही यमुना मुद्दा क्यों बनता है?
  • यमुना के कुल प्रदूषण का 76% हिस्सा वजीराबाद से ओखला के बीच होता है, ऐसे में बाकी राज्यों को क्यों कोसा जा रहा है?

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर