ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई मौत पर तंज- निशाना, किसी ने कहा अवाक तो किसी ने कहा किस पर करें भरोसा

देश
ललित राय
Updated Jul 21, 2021 | 11:53 IST

कोरोना महामारी की दूसरी लहर में क्या लोगों की मौत ऑक्सीजन कमी से नहीं हुई। इस विषय पर केंद्र सरकार की तरफ से जो जवाब आया है उसके बाद सियासत गरमा गई है।

oxygen issue in india, oxygen issue, oxygen issue in covid 19, oxygen issue in kerala, oxygen issue in mumbai, oxygen issue in UP
O2 की कमी से नहीं तो फिर कैसे हुई मौत, विपक्ष ने पूछे सवाल 

मुख्य बातें

  • कोविड-19 की दूसरी लहर में किसी की भी मौत ऑक्सीजन की कमी से नहीं- केंद्र सराकर
  • विपक्ष ने पूछा कि आखिर ये किस तरह के आंकड़े
  • केंद्र सरकार का जवाब, हेल्थ, स्टेट सब्जेक्ट और सभी डेटा राज्यों से ही मिले हैं

कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में अप्रैल और मई के महीने में देश ने जिस दौर को देखा उसे भूला पाना मुश्किल है। अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी एक प्रमुख मुद्दा था। इस विषय पर मंगलवार को स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने जो बयान दिया कि मसलन ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत नहीं हुई। उस बयान के बाद सियासी तीर छोड़े जा रहे हैं। कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों ने कहा कि क्या सरकार आंकड़ों के जरिए अपनी नाकामी छिपाने की कोशिश कर रही है। 

कांग्रेस का निशाना
कांग्रेस प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने कहा कि पता नहीं कौन सबसे खराब था - बाबा रामदेव का 'कोरोनिल' लॉन्च करने वाले पूर्व स्वास्थ्य मंत्री या वह करंट जिसने घोषित किया है कि ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं हुई।  

शिवसेना के बोल
शिवसेना नेता संजय राउत ने केंद्र पर कहा, 'ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं' मैं अवाक हूं। ऑक्सीजन की कमी से अपनों को खोने वाले इस बयान को सुनकर उनके परिवारों का क्या होता? सरकार के खिलाफ मुकदमा दर्ज होना चाहिए। झूठ बोल रहे हैं। अप्रैल और मई के महीने में जिस मंजर को सभी लोगों ने देखा उसे आखिर सरकार कैसे भूल सकती है। क्या आंकड़ों या राज्यों की जवाबदेही से ही केंद्र सरकरा को लेना देना है। 

दरअसल केंद्र सरकार की तरफ से जब इस तरह का बयान संसद में आया तो राहुल गांधी ने कहा कि आखिर ये क्या हो रहा है। ये बात अलग थी कि केंद्र के समर्थन में तमाम मंत्रियों ने मोर्चा खोल दिया। ग्रामीण विकास मंत्री गिरिराज सिंह ने तो यहां तक कह दिया कि उन्हें दिमागी परेशानी है, राहुल गांधी को खासतौर से कांग्रेस शासित राज्यों से भी सवाल जवाब करने चाहिए।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर