अमेरिका के जाते ही रंग दिखाने लगे आतंकी संगठन, हिजबुल चीफ सलाहुद्दीन ने दी कश्मीर को आजाद कराने की धमकी 

अलकायदा ने अफगानिस्तान से अमेरिका की वापसी को तालिबान की जीत बताया है और उसे बधाई दी है। साथ ही उसने यह भी कहा है कि उन्हें  यमन, सोमालिया और कश्मीर जैसे इलाकों को आजाद कराना है।

Hizb ul Mujahideen Chief syed salahuddin thretens of liberating Kashmir
हिजबुल चीफ सलाहुद्दीन ने दी कश्मीर को आजाद कराने की धमकी।  |  तस्वीर साभार: PTI

मुख्य बातें

  • हिजबुल मुजाहिदीन के चीफ सैयद सलाहुद्दीन ने कश्मीर को आजाद कराने की धमकी दी
  • सलाहुद्दी ने एक ऑडियो टेप जारी किया है, इस टेप में उसने 'गजवा ए हिंद' का जिक्र किया है
  • अफगानिस्तान से अमेरिका के जाने के बाद आतंकवादी संगठन एकजुट होने लगे हैं

नई दिल्ली : अफगानिस्तान से अमेरिका की वापसी होने के बाद आतंकवादी संगठन अपना रंग दिखाने लगे हैं। वे एकजुट हो रहे हैं और कश्मीर को लेकर बयान दे रहे हैं। अलकायदा के बाद अब आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के सरगना सैयद सलाहुद्दीन ने भारत को धमकी दी है। सलाहुद्दीन ने कश्मीर को आजाद कराने और 'गजवा ए हिंद' लागू करने की बात कही है। अपने आठ मिनट के ऑडियो टेप में सलाहुद्दीन कहा है कि 'गजवा ए हिंद' कश्मीर की ओर बढ़ना चाहिए। उन्होंने 'जंग ए बद्र' की बात की है। 

अमेरिका के जाते ही एकजुट होने लगे हैं आतंकी संगठन
30 अगस्त को काबुल से अमेरिका के जाने के बाद आतंकी संगठन एकजुट होने लगे हैं और वे कश्मीर को लेकर बयान दे रहे हैं। अलकायदा ने अफगानिस्तान से अमेरिका की वापसी को तालिबान की जीत बताया है और उसे बधाई दी है। साथ ही उसने यह भी कहा है कि उन्हें  यमन, सोमालिया और कश्मीर जैसे इलाकों को आजाद कराना है। इन आतंकी गुटों का एकजुट होना भारत सरकार के लिए चिंता का विषय है। अफगानिस्तान के बिगड़े हालात का फायदा पाकिस्तान उठाने की कोशिश करेगा। 

कश्मीर के हालात बिगाड़ना चाहेगा पाकिस्तान
पाकिस्तान अफगानिस्तान में मौजूद आतंकी लड़ाकों को कश्मीर की तरफ भेजकर यहां के हालात खराब करना चाहेगा। उसकी नजर इन आतंकवादी संगठनों पर है। पाकिस्तान जानता है कि वह भारत से सीधी लड़ाई नहीं जीत सकता। वह 'छद्म युद्ध' के जरिए कश्मीर में शांति एवं कानून-व्यवस्था को चुनौती पेश करता आया है। उसकी पूरी कोशिश विदेशी लड़ाकों को सीमा पार से घुसपैठ कराकर घाटी में भेजने की होगी। इसे देखते हुए सुरक्षा एवं खुफिया एजेंसियों को ज्यादा सतर्क और जागरूक रहने की जरूरत है।  

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर