Hathras Case: पीएफआई के गिरफ्तार चार लोगों से पूछताछ करने ईडी टीम पहुंची मथुरा , क्या सच आएगा सामने

हाथरस कांड में गिरफ्तार पीएफआई के चार लोगों से पूछताछ के लिए ईडी की टीम मथुरा पहुंच चुकी है। ईडी की टीम इस विषय की जांच कर रही है बड़े पैमाने पर विरोध के पीछे क्या कोई विदेशी एजेंसी वित्तीय मदद दे रही थी।

Hathras Case: पीएफआई के गिरफ्तार चार लोगों से पूछताछ करने ईडी टीम पहुंची मथुरा , क्या सच आएगा सामने
पीएफआई के चार लोग हैं गिरफ्तार , हाथरस केस में भूमिका संदिग्ध 

मुख्य बातें

  • हाथरस केस में पीएफआई के चार लोगों की हुई थी गिरफ्तारी, वेबसाइट और विदेशी फंडिंग के जरिए माहौल खराब करने की कोशिश का आरोप
  • प्रवर्तन निदेशालय की टीम पीएफआई के गिरफ्तार चारों लोगों से पूछताछ के लिए मथुरा जेल पहुंची
  • आरोपियों पर हाथरस विक्टिम के नाम पर वेबसाइट बनाने और चलाने का आरोप

लखनऊ। हाथरस कांड की जांच अब सीबीआई के हवाले हो चुकी है। सीबीआई की एक टीम मंगलवार को मौका-ए-वारदात पर पीड़िता के भाई के साथ पहुंची और मुआएना किया। इन सबके बीच पीएफआई यानी पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के चार लोगों पूछताछ के लिए ईडी टीम मथुरा पहुंच चुकी है। दरअसल जांच एजेंसियों का कहना है कि जिस दिन पीड़िता की मौत हुई उसी दिन हाथरस विक्टिम के नाम पर साइट बनाई गई और माहौल को खराब करने की कोशिश की गई। यही नहीं पीएफआई वित्तीय मदद के जरिए इस मामले को और सुलगाए रखना चाहती थी।

पीएफआई के सदस्य इसलिए घेरे में आए
पुलिस प्रशासन का कहना है कि  समय रहते जानकारी मिली और जब एक्शन लिया गया तो वो वेबसाइट बंद कर दी गई। यही नहीं पीड़िता के अंतिम संस्कार के बाद अलग अलग जगहों से ट्वीट किए गए और ज्यादातर ट्वीट का केंद्र देश के बाहर था। इसका अर्थ यह है कि जानबूझकर इसे मुद्दा बनाया जा रहा था और प्रदेश में जातीय तनाव को चरम पर पहुंचाने की मंशा थी।


हाथरस केस की जांच कई चक्र में 
एसआईटी जब इस मुद्दे की जांच कर रही थी तो उसकी प्राथमिक रिपोर्ट में कहा गया कि ऐसा प्रतीत हो रहा है कि 29 सितंबर के बाद प्रदेश में सुनियोजित तरह से तनाव फैलाने की साजिश रची जा रही थी। स्थानीय लोगों से पूछताछ में पता चलता है कि आरोपी और पीड़ित परिवार के बीच मननुटाव जरूर था। लेकिन कोई घटना पिछले चार या पांच साल में नहीं हुई थी जिसके बाद तनाव और बढ़ गया हो। बता दें कि जब इस मामले की जांच और आगे बढ़ी तो हाथरस विक्टिम के नाम पर जो साइट बनी उसे बंद कर दिया गया और पीएफआई के लोगों पर शक गहराता गया। 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर