अग्निपथ स्कीम के विरोध के नाम पर साजिश का खुलासा, जानें क्या है मामला

अग्निपथ स्कीम का विरोध करने के लिए सोशल मीडिया पर एक ग्रुप बनाया गया है जिसमें बीजेपी से जुड़े कई दिग्गज चेहरों को निशाना बनाने की बात लिखी गई है, हालांकि TIMES NOW नवभारत पर खबर दिखाए जाने के बाद ग्रुप को डिलीट कर दिया गया है।

Agnipath Scheme, agniveer, narendra modi
अग्निपथ के विरोध के नाम पर साजिश का खुलासा, क्या है मामला 

Agneepath Yojana के विरोध के नाम पर खतरनाक साजिश का खुलासा हुआ है, Social Media पर रची जा रहीं साजिश, बायकॉट टूर ऑफ ड्यूटी के नास से ग्रुप बनाया गया। 'नवभारत' पर खबर दिखाए जाने के बाद ग्रुप डिलीट। ग्रुप में PM Modi, उनकी मां पर हमले की चैट भी सामने आई है। ग्रुप में इस बात का भी जिक्र है कि किस तरह से बीजेपी के बड़े नेताओं को निशाना बनाना चाहिए ताकि केंद्र सरकार इस योजना को रोलबैक कर सके। 

देश के कई हिस्सों में हिंसक प्रदर्शन
उत्तर प्रदेश से लेकर तेलंगाना और बिहार से लेकर मध्य प्रदेश तक, देश के विभिन्न हिस्सों में आक्रोशित युवाओं की भीड़ ने ईंट-पत्थर फेंके। वहीं, राजनाथ सिंह, अमित शाह और थल सेना प्रमुख ने भर्ती योजना को लेकर पैदा चिंताओं को दूर करने की कोशिश की लेकिन थोड़ी ही सफलता मिली।थल सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने कहा कि अग्निपथ योजना के तहत 2022 के लिए आयु सीमा को 21 वर्ष से बढ़ाकर 23 वर्ष करने का का निर्णय उन युवाओं को अवसर प्रदान करेगा, जो सेना में भर्ती होने की तैयारी कर रहे हैं, लेकिन पिछले दो साल से कोविड-19 महामारी के कारण ऐसा नहीं कर पाए।

गृह मंत्री शाह ने कहा कि रक्षा सेवाओं में भर्ती संबंधी अग्निपथ योजना में शामिल होने की अधिकतम उम्र सीमा बढ़ाने के केंद्र के फैसले से बड़ी संख्या में युवाओं को फायदा होगा। शाह ने कहा कि कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के कारण पिछले दो साल में सेना में भर्ती की प्रक्रिया बाधित हुई और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के युवाओं की चिंता करते हुए एक संवेदनशील फैसला किया है।
राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया, ‘‘युवाओं के भविष्य के प्रति उनकी चिंता और संवेदनशीलता के लिए मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का हृदय से आभार व्यक्त करता हूं। मैं युवाओं से अपील करता हूं कि सेना में भर्ती की प्रक्रिया कुछ ही दिनों में प्रारम्भ होने जा रही है। वे इसके लिए
अपनी तैयारी शुरू करें।’’

हालांकि विरोध प्रदर्शन फैलता गया, जो कि अनियंत्रित प्रतीत होता है। गुस्सायी भीड़ ने पटरी और राजमार्गों पर प्रदर्शन करने के अलावा ट्रेन और बसों पर पथराव किया, रेलवे स्टेशन पर दुकानों को नुकसान पहुंचाया तथा सार्वजनिक संपत्ति में तोड़फोड़ की।सिकंदराबाद और बिहार के लखीसराय, समस्तीपुर में ट्रेन की खिड़कियों से आग की लपटें निकल रही थीं, जिससे आसमान में काले धुएं के घने बादल फैल गए जो कई किलोमीटर दूर से देखे जा सकते थे। देश भर के कई रेलवे स्टेशन पर भीड़ ने पथराव करते हुए तोड़फोड़ की। दंगा रोधी उपकरणों से लैस पुलिसकर्मियों को प्रदर्शनकारियों का पीछा करते देखा गया जिनमें से सैकड़ों को पकड़ा गया।प्रदर्शनकारियों ने बक्सर, भागलपुर और समस्तीपुर में कई स्थानों पर टायर जलाकर राजमार्गों को अवरुद्ध कर दिया।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर