धाकड़ Exclusive: पहले पीएम केयर्स फंड पर सवाल, अब ऑक्सीजन प्लांट पर क्रेडिट की रेस

धाकड़ Exclusive: पीएम केयर्स फंड को लेकर सवालों के बीच गैर-बीजेपी शासित सरकारें इसी फंड से बने ऑक्सीजन प्लांट की क्रेडिट लेने में लगी हैं। देख‍िये पूरी रिपोर्ट

धाकड़ Exclusive: पहले पीएम केयर्स फंड पर सवाल, अब ऑक्सीजन प्लांट पर क्रेडिट की रेस
धाकड़ Exclusive: पहले पीएम केयर्स फंड पर सवाल, अब ऑक्सीजन प्लांट पर क्रेडिट की रेस 

आपको याद तो होगा कि कुछ महीने पहले विपक्ष ने पीएम केयर्स फंड पर सवाल उठाया था और तब से ये सिलसिला जारी है। कई लोगों ने मांग की कि पीएम केयर्स फंड की ऑड‍िट कराई जाए, उसे सरकारी संस्‍था का नाम दिया जाए, ताकि लोगों को पता चल सके कि पीएम केयर्स फंड का पैसा जा कहां रहा है। उस पर हिसाब-किताब मांगा गया। उसी पीएम केयर्स फंड से अब तक कुल 1,224 PSA ऑक्सीजन प्लांट्स के लिए पैसे दिए गए। देश भर में 1100 ऑक्सीजन प्लांट लग भी गए हैं, चालू भी हैं। अब रेस शुरू हुई है सियासी फायदा उठाने की। लिहाजा गैर-बीजेपी राज्यों की सरकारों ने ऑक्सीजन प्लांट का पैसा तो पीएम केयर्स फंड से लिया, पर रिबन खुद ही काटने लगे। दिल्ली की केजरीवाल सरकार हो या फिर झारखंड की सोरेन सरकार सब इसका श्रेय लेने में लगे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 35 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में 35 PSA ऑक्सीजन प्लांट्स का उद्घाटन किया। ये ऑक्सीजन प्लांट देश भर में पीएम केयर्स फंड से बनाए गए हैं। लेकिन प्रधानमंत्री मोदी के उद्घाटन से पहले ही ऑक्सीजन प्लांट के निर्माण की श्रेय लेने की रेस शुरू हो गई। इस रेस में दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार प्रधानमंत्री मोदी से भी आगे दौड़ गई। दिल्ली के गुरुतेग बहादुर हॉस्पिटल में स्थापित ऑक्सीजन प्लांट का आम आदमी पार्टी के विधायक राजेन्द्र पाल गौतम ने उद्घाटन कर दिया।

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी का खूब शोर मचा था, दिल्ली सरकार ने ऑक्सीजन की कमी पर हाथ खड़े करते हुए केन्द्र सरकार पर दोष मढ़ दिया और अब जब प्रधानमंत्री केयर्स फंड से ऑक्सीजन प्लांट बनाए जा रहे हैं तो दिल्ली के मुख्यमंत्री भी कहते हैं कि काम हमारा, क्रेडिट उनका।

ऑक्‍सीजन प्‍लांट पर क्रेडिट रेस 

पीएमओ की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक, अब तक कुल 1224 PSA आक्सीजन प्लांट्स के लिए पीएम केयर्स फंड से राशि उपलब्ध कराई गई है। इनमें से 1100 PSA आक्सीजन प्लांट्स स्थापित किए जा चुके हैं, जिनसे 1750 मीट्रिक टन से अधिक आक्सीजन हर रोज उपलब्ध होगी। दिल्ली में बने ऑक्सीजन प्लांट का क्रेडिट लेने पर बीजेपी का कहना है कि क्रेडिट मुख्यमंत्री केजरीवाल ले लें। कम से कम ऑक्सीजन प्लांट बने तो सही।

एक वक्त था जब विपक्ष पीएम केयर्स फंड पर सवाल उठा रहा था, आज उसी फंड से स्थापित ऑक्सीजन प्लांट को अपना बताने की होड़ लगी हुई है। ऑक्सीजन प्लांट को अपना बताने का किस्सी सिर्फ गुरुतेग बहादुर हॉस्पिटल का नहीं है, बल्कि लोक नायक जयप्रकाश हॉस्पिटल में लगा पोस्टर भी चीख चीखकर कह रहा है। केजरीवाल एंड कंपनी ने पीएम केयर्स फंड से बने ऑक्सीजन प्लांट को अपना बना लिया।

ऑक्सीजन प्लांट का मालिकाना हक किसका है किसका नहीं, सियासत में इसका जवाब मिलना जरा मुश्किल है। लेकिन पीएम केयर्स फंड और डीआरडीओ की मदद से आक्सीजन उत्पादन के लिए नए ऑक्सीजन प्लांट्स का निर्माण ऑक्सीजन की कमी का जवाब जरूर है। कोरोना से जीत का माध्यम जरूर है।

क्रेडिट रेस में झारखंड सरकार भी पीछे नहीं

दिल्ली की केजरीवाल सरकार श्रेय लेने की रेस में कितनी आगे है, कुछ वैसा ही हाल झारखंड की सोरेन सरकार का भी है। प्रधानमंत्री मोदी ऑक्सीजन प्लांट का उद्घाटन करते उससे पहले ही झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने फीता काट दिया। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने 100 लीटर प्रति मिनट क्षमता वाले 'PSA' ऑक्सीजन प्लांट का उद्घाटन कर दिया। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने उद्घाटन की ये रस्म प्रधानमंत्री मोदी से पहले ही निभा दी। प्रधानमंत्री मोदी ने बृहस्पतिवार को देश के 35 राज्यों एवं केन्द्र शासित प्रदेशों के कुल 35 ऑक्सीजन प्लांट का ऑनलाइन उद्घाटन किया। लेकिन ऑक्सीजन प्लांट की क्रेडिट रेस में झारखंड के मुख्यमंत्री फर्स्ट आ गए।

देश भर के राज्यों में ऑक्सीजन प्लांट पीएम केयर्स फंड से लगाए गए हैं। अब क्योंकि हेमंत सोरेन ने पहले ही ऑक्सीज प्लांट का उद्घाटन कर दिया तो बीजेपी को ये बात बिलकुल नागवार गुजरी। बीजेपी ने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का ये कारनामा प्रधानमंत्री मोदी का अपमान है। बीजेपी का आरोप है कि श्रेय लेने के लिए हेमंत सोरेन ने चोर दरवाजे से ऑक्सीजन प्लांट का उद्घाटन कर दिया। वहीं, झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री कहते हैं कि स्वास्थ्य के मुद्दे पर बीजेपी राजनीति कर रही है।

टाइम्स नाउ नवभारत के शो 'धाकड़ Exclusive' में कश्‍मीर में बीते 72 घंटों के दौरान आतंकी घटनाओं के सिलसिले में 300 लोगों को हिरासत में लिए जाने, उत्‍तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के सिलसिले में केंद्रीय मंत्री के बेटे की नोटिस के बावजूद पुलिस के सामने पेश नहीं होने और पाकिस्‍तान क्रिकेट बोर्ड की बदहाली के मसले को भी उठाया गया। देखिये पूरा शो।
 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर