Mundka Fire: भीषण अग्निकांड में जिंदा जले 27 लोग, कूदकर जान बचाने वालों की जुबानी जानिए हादसे की पूरी कहानी

उपलब्ध जानकारी के अनुसार, मुंडका मेट्रो स्टेशनल के पास इमारत में आग लगने से 27 लोगों की मौत हो गई है। जबकि, 12 अन्य लोग घायल हो गए। इन सभी का इलाज संजय गांधी अस्पताल में चल रहा था।

Delhi Mundka Fire 27 people died and 12 got injured in the fire incident, Know the timeline of incident
आग इमारत की पहली मंजिल से शुरू हुई  
मुख्य बातें
  • मुंडका इलाके में 3 मंजिला इमारत में लगी थी आग, 27 की मौत
  • हादसे के वक्त इमारत में चल रही थी मीटिंग, घटना के समय बिल्डिंग का दरवाजा बंद था
  • कैमरा फैक्ट्री के अंदर मौजूद सामान भी आग लगने की वजह से पूरी तरह हुआ खाक

दिल्ली के मुंडका इलाके में तीन मंजिला इमारत में लगी भीषण आग में झुलसने से अब तक 27 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि इस दर्दनाक हादसे में अब तक 12 लोगों के घायल होने की खबर है। जिनका इलाज संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल में चल रहा है। वहीं जिस बिल्डिंग में आग लगी उसमें पिछले कई घंटों से दमकल विभाग की तरफ से रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। बताया जा रहा है कि जिस वक्त ये हादसा हुआ उस समय बिल्डिंग के अंदर मीटिंग चल रही थी और मेन गेट को बाहर से बंद किया गया था। हालांकि आग लगने के बाद कई लोग कूद कर अपनी जान बचाने में कामयाब रहे। ये आग वहां कैसे लगी फिलहाल इसकी छानबीन जारी है। जो जानकारी सामने आ रही है उसके मुताबिक बिल्डिंग कैंपस में प्लास्टिक का काफी सामान था। कई केमिकल ड्रम भी वहां मौजूद थे जिसकी वजह से आग काफी तेजी से फैली और उसने देखते ही देखते विकराल रूप ले लिया। 

मुंडका हादसे की TIMELINE 

  1. 1 बजे- बिल्डिंग की पहली मंजिल पर मीटिंग
  2. शाम 4.30 बजे- बिल्डिंग से धुआं उठा 
  3. शाम 4.40 बजे- पुलिस-दमकल को सूचना
  4. शाम 4.50 बजे- लोग बिल्डिंग से कूदने लगे
  5. शाम 5 बजे - दमकल की गाड़ियां पहुंची
  6. शाम 5.15 बजे- घायलों का रेस्क्यू शुरु
  7. शाम 6.20 बजे- घायलों को अस्पताल पहुंचाया 
  8. रात 10 बजे- आग बुझाने का काम जारी 
  9. रात 11 बजे - आग पर काबू  
  10. रात 12 बजे- 27 मौत की पुष्टि
  11. रात 12.30 बजे- पहली मंजिल पर फिर आग 
  12. 12.40 बजे- दोबारा आग बुझाने का काम 
  13. रात 1 बजे - आग पर काबू पाया
  14. रात 1.15 बजे- NDRF की टीम बिल्डिंग में दाखिल 
  15. रात 1.15 बजे- बिल्डिंग में कूलिंग ऑपरेशन

केंद्र ने किया मदद का ऐलान

आगजनी की इस घटना पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सीएम अरविंद केजरीवाल सहित तमाम लोगों ने दुख जताया है। हादसे के बाद केंद्र ने मुआवजे का ऐलान किया है।मृतकों के घरवालों को 2-2 लाख का मुआवजा और  घायलों को 50-50 हजार रुपये की मदद का ऐलान किया है। इससे पहले शुक्रवार शाम को जब मेट्रो पिलर नंबर 544 के पास एक कमर्शियल बिल्डिंग धूं-धूं कर जलने लगी तो हर कोई हैरान रह गया। आग इतनी भीषण थी कि ये तेजी से फैलती चली गईऔर आग ने पूरी बिल्डिंग को अपनी चपेट में ले लिया। मौके पर दमकल विभाग की 30 गाड़ियां पहुंची। करीब 8 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू तो पा लिया गया... लेकिन इस दरमियान आग ने सब कुछ तबाह कर दिया। इस विकराल आग ने कई जिंदगियां लील लीं।

पीड़ित की जुबानी आपबीती

आइए अब आपको सुनाते है इस हादसे में जिंदा बचे शख्स की जुबानी, जिसने बिल्डिंग से कूद मारकर अपनी जान बचाई। पीड़ित ने बताया, 'फायर ब्रिगेड वाले को जलती बिल्डिंग से फोन किया। ना फायर ब्रिगेड आई ना कोई मदद आई। ना कोई अगल बगल से बचाने वाला आया। आग  तकरीबन साढ़े 3- 4 बजे लगी थी। मैं जलती इमारत से कूद गया नीचे। लेटा पड़ा था नीचे तो एबुलेंस आई इसके बाद में एंबुलेंस में खुद चढ़ा हूं। और यहां एंबुलेंस वाले छोड़ गए। मैं आ गया अंदर।'

हादसे में घायल लोगों के नाम और विवरण

कूदकर बचाई जान

वीडियो में दिख रहा है कि किस कदर लोग अपनी जान बचाने के लिए बिल्डिंग के दूसरे फ्लोर से छलांग लगा रहे हैं। शरीर का भले ही कोई अंग टूटे लेकिन मकसद तो खुद की जान बचाना है। जहां बिल्डिंग के दूसरी तरफ से लोग बिल्डिंग का शीश तोड़कर नीचे कूदने की कोशिश कर रहे हैं। ताकि बस जान बच जाए। साथ ही रेस्क्यू के लिए क्रेन की भी मदद ली गई। ये पहला मौका नहीं है जब दिल्ली में आगजनी की घटना में इतने लोगों की जान गई। इससे पहले भी कई बार दिल्ली में भीषण अग्निकांड हो चुके हैं। अगर पहले हुए हादसों के बाद कोई कदम उठाया होता तो ये हादसा नहीं होता। लेकिन अब देखना होगा कि इस हादसे के बाद क्या एक्शन लिया जाता है। 

आग लगने की वजह

शुरुआती छानबीन में पता चला है कि बिल्डिंग परिसर में प्लास्टिक का काफी सामान था। साथ ही केमिकल और प्लास्टिक के दाने भी थे। आग लगने के बाद ये सभी सामान आग की चपेट में आ गए और पहली मंजिल से शुरू हुई आग बिल्डिंग के दूसरे फ्लोर पर भी फैलती चली गई। इमारत में लगी आग इतनी भीषण थी कि कई लोग बिल्डिंग से बाहर ही नहीं निकल पाए। बिल्डिंग आग आखिर कैसे लगी इसका खुलासा तो जांच पूरी होने के बाद ही होगा। लेकिन इस अग्निकांड में कई लोगों ने अपनी जान गवा दी।


 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर