कोरोना वैक्सीन ZyCoV-D को इमरजेंसी यूज के लिए मिली अनुमति, पीएम ने कहा- देश के वैज्ञानिकों की बड़ी उपलब्धि

स्वदेशी रूप से विकसित Zydus Cadila की Covid वैक्सीन ZyCoV-D को इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए अनुमति मिल हई है। 12 साल और उससे अधिक उम्र के लोगों को दिया जाएगा।

Zydus Cadila's corona vaccine ZyCoV-D gets permission for emergency use
इमरजेंसी यूज के लिए ZyCoV-D कोरोना वैक्सीन को मिली मंजूरी 

मुख्य बातें

  • वैक्सीन ZyCoV-D 12 साल और उससे अधिक उम्र के बच्चों और वयस्कों को लगाया जाएगा।
  • यह कोरोना वायरस के खिलाफ दुनिया का पहला डीएनए-आधारित वैक्सीन है।
  • यह कोविड-19 से सुरक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 

विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने शुक्रवार (20 अगस्त) को कहा कि Zydus Cadila को आज कोरोना वैक्सीन ZyCoV-D के लिए DCGI से आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण के लिए अनुमोदन प्राप्त हुआ। COVID-19 के लिए दुनिया का पहला और भारत का स्वदेशी रूप से विकसित डीएनए आधारित वैक्सीन 12 साल और उससे अधिक उम्र के बच्चों और वयस्कों समेत मनुष्यों में लगाया जाएगा।

पीएम मोदी ने ट्वीट किया, भारत पूरे जोश के साथ COVID-19 से लड़ रहा है। Zydus Universe के दुनिया के पहले डीएनए आधारित 'ZyCov-D' वैक्सीन को मंजूरी  भारत के वैज्ञानिकों के अभिनव उत्साह का प्रमाण है। वास्तव में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है।

 स्वदेशी रूप से विकसित Zydus Cadila Covid वैक्सीन ZyCoV-D को ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण के लिए मंजूरी मिल गई है और इसे 12 साल और उससे अधिक उम्र के लोगों को दिया जाएगा।

यह कोरोना वायरस के खिलाफ दुनिया का पहला डीएनए-आधारित वैक्सीन है, और यह तीन-खुराक वाला वैक्सीन जब इंजेक्ट किया जाता है तो SARS-CoV-2 वायरस के स्पाइक प्रोटीन का उत्पादन करता है और एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्राप्त करता है, जो इस बीमारी से सुरक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 

सरकार के जैव प्रौद्योगिकी विभाग (डीबीटी) ने यह भी कहा कि "प्लग-एंड-प्ले" तकनीक जिस पर प्लास्मिड डीएनए प्लेटफॉर्म आधारित है, को वायरस में उत्परिवर्तन से निपटने के लिए आसानी से अनुकूलित किया जा सकता है, जैसे कि पहले से ही हो रहा है।

यह कहा गया कि Zydus Cadila को ZyCoV-D के लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) से आज यानी 20/08/2021, COVID-19 के लिए दुनिया की पहली और भारत की स्वदेशी रूप से विकसित डीएनए-आधारित वैक्सीन के लिए आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण (EUA) के लिए अनुमोदन प्राप्त हुआ है। 12 साल और उससे अधिक उम्र के बच्चों और वयस्कों सहित मनुष्यों में प्रशासित किया जाना है। विभाग ने कहा कि वैक्सीन को मिशन COVID सुरक्षा के तहत DBT के साथ साझेदारी में विकसित किया गया है।

डीबीटी ने कहा कि इसे BIRAC (बायोटेक्नोलॉजी इंडस्ट्री रिसर्च असिस्टेंस काउंसिल) द्वारा लागू किया गया है और ZyCoV-D को COVID-19 रिसर्च कंसोर्टिया के तहत प्रीक्लिनिकल स्टडीज के लिए नेशनल बायोफार्मा मिशन, फेज I और फेज II क्लिनिकल ट्रायल और  तीसरे चरण के क्लिनिकल परीक्षण के लिए मिशन COVID सुरक्षा के तहत सपोर्ट किया गया है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर