पंजाब कांग्रेस में रार से क्या शिरोमणि अकाली दल को फायदा होगा, सुखबीर सिंह बादल ने क्या कहा

देश
ललित राय
Updated Jun 05, 2021 | 17:34 IST

पंजाब कांग्रेस के बीच आपसी रार में शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह का यह बयान महत्वपूर्ण है कि वो गैर आप और गैर बीजेपी विचारधारा के साथ आने को तैयार हैं, लेकिन इसके सियासी अर्थ को समझना जरूरी है।

पंजाब कांग्रेस में रार से क्या शिरोमणि अकाली दल को फायदा होगा, सुखबीर सिंह बादल ने क्या कहा
सुखबीर सिंह बादल, शिरोमणि अकाली दल अध्यक्ष 

मुख्य बातें

  • पंजाब कांग्रेस के दो बड़े चेहरे सीएम अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू आमने सामने
  • कांग्रेस में मचे घमासान पर शिरोमणि अकाली दल का बयान- हमें फायदा उठाने की जरूरत नहीं
  • एसएसडी अध्यक्ष सुखबीर बादल बोले, गैर कांग्रेस, गैर बीजेपी और गैर आप विचारधारा का स्वागत

नई दिल्ली। पंजाब कांग्रेस में सबकुछ सामन्य नहीं है। पार्टी के बड़े नेता दावा कर रहे हैं कि छोटी मोटी शिकायतें हैं जिसे दूर कर लिया जाएगा। लेकिन क्या वास्तव में ऐसा ही है इसे लेकर कांग्रेस के विरोधी दलों का कुछ और ही कहना है। शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि उनका इस बात से लेना देना नहीं कि कांग्रेस के अंदर क्या कुछ चल रहा है, कांग्रेस के अंदर जो सिरफुटौव्वल है उसका फायदा भी वो नहीं लेना चाहते । लेकिन उन्हें गैर कांग्रेस , गैर आप और गैर बीजेपी दलों का समर्थन लेने में ऐतराज नहीं होगा।

सुखबीर बादल ने क्या कहा
सुखबीर सिंह बादल एक कदम और आगे जाकर कहते हैं कि पंजाब की सत्ता पर जब तक कैप्टन अमरिंदर सिंह काबिज रहेंगे तब तक राज्य का भला नहीं होने वाला है। पिछले पांच वर्षों में पंजाब किस अवस्था से गुजरा और जिस तरह की दिक्कतों से जूझ रहा है उसके लिए सिर्फ और सिर्फ कैप्टन अमरिंदर सिंह जिम्मेदार हैं।


क्या कहते हैं जानकार
सुखबीर सिंह बादल के इस बयान का क्या मतलब है, इसके बारे में जानकारों का कहना है कि इसे आप दो तरह से समझ सकते हैं। शिरोमणि अकाली दल और बीजेपी की 15 वर्ष की सत्ता को कैप्टन अमरिंदर सिंह ने उखाड़ फेंका और स्वाभाविक तौर पर वो जीत के नायक बने। लेकिन 2016 के चुनाव प्रचार में नवजोत सिंह सिद्धू भी स्टॉर कैंपेनर थे जिसका फायदा कांग्रेस को मिला। लेकिन राजनीति के माहिर खिलाड़ी कैप्टन अमरिंदर सिंह के कब्जे में सीएम की कुर्सी चली गई और इस तरह से सिद्धू का सपना सपना ही रह गया।

करीब साढ़े चार साल के शासन में अमरिंदर सिंह हर मौके पर सिद्धू से आगे निकल गए। हाल ही में किसान आंदोलन के बीच जब निकाय चुनाव हुए तो कांग्रेस की जीत हुई और कामयाबी का सेहरा एक बार फिर अमरिंदर सिंह के सिर बंधा। निकाय  चुनावों के नतीजों में शिरोमणि अकाली दल के हाथ कुछ खास नहीं आया और इससे साफ हो गया कि उन्हें किसानों के आक्रोश का सामना करना पड़ा। लिहाजा कांग्रेस की अंदरूनी राजनीति पर जब सुखबीर सिंह बादल ने कमेंट किया तो उन्होंने आगे की राजनीति को तय करते हुए कहा कि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी तो उनकी स्वाभाविक दुश्मन है इसके साथ ही उनका बीजेपी से भी किसी तरह का भविष्य में नाता नहीं रहेगा ताकि कांग्रेस और आप के विरोधी मतों को एकजुट किया जा सके। 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर