Adhir Ranjan Chowdhury News: क्या नेता प्रतिपक्ष से अधीर रंजन चौधरी की हो जाएगी विदाई, बड़ा सवाल

क्या नेता प्रतिपक्ष से अधीर रंजन चौधरी की विदाई हो जाएगी। क्या उन्हें कांग्रेस आलाकमना बड़ी भूमिका में देख रहा है या वजह कुछ और है।

Adhir Ranjan Chowdhury, Leader of Opposition in Lok Sabha, Congress, Sonia Gandhi, West Bengal Assembly Election Results, TMC, Mamata Banerjee
लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष हैं अधीर रंजन चौधरी 

मुख्य बातें

  • कांग्रेस की तरफ से अधीर रंजन चौधरी को नेता प्रतिपक्ष बनाया गया था
  • अपने कई बयानों को लेकर विवादों में रहे हैं अधीर रंजन चौधरी
  • पश्चिम बंगाल चुनाव में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन के बाद फिर चर्चा में आए

अधीर रंजन चौधरी, लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष है, लेकिन क्या अब कांग्रेस नेतृत्व का उनपर भरोसा नहीं है। क्या पार्टी उन्हें नेता प्रतिपक्ष की जिम्मेदारी से हटाना चाहती है। दरअसल इस तरह की खबरें पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव नतीजों के बाद से कुछ अधिक चर्चा में रही हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस संबंध में सोनिया गांधी ने पार्लियामेंट स्ट्रैटेजी ग्रुप की 14 जुलाई को बैठक बुलाई है।अधीर रंजन चौधरी 2019 से एलओपी के रूप में काम कर रहे हैं, बावजूद इसके कि कांग्रेस पार्टी के पद के लिए आधिकारिक तौर पर आवश्यक सीटों की संख्या कम हो गई है।

तो क्या बदल दिए जाएंगे अधीर रंजन चौधरी
लोकसभा में बदलाव की अटकलें लंबे समय से लगाई जा रही हैं। जबकि पिछले कुछ समय से अधीर रंजन चौधरी को एलओपी के रूप में बदलने की बात चल रही है, पश्चिम बंगाल में हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनाव में सफेदी को तत्काल ट्रिगर के रूप में इंगित किया जा रहा है। इस तरह की खबर है कि कांग्रेस आलाकमान की इच्छा है कि अधीर रंजन चौधरी, जो पार्टी की बंगाल इकाई के प्रमुख भी हैं, 2024 के लोकसभा चुनावों में पार्टी की संभावनाओं को बेहतर बनाने के लिए राज्य की राजनीति पर ध्यान केंद्रित करें। सूत्रों के मुताबिक बैठक में जिन प्रमुख मुद्दों पर चर्चा होनी है उनमें एक है नेता प्रतिपक्ष की जगह। शशि थरूर, मनीष तिवारी, गौरव गोगोई इस पद की दौड़ में सबसे आगे हैं। उन्होंने कहा कि लोकसभा में पार्टी के व्हिप भी बदले जा सकते हैं।

2019 में एलओपी की मिली थी जिम्मेदारी
अधीर रंजन चौधरी 2019 से एलओपी के रूप में काम कर रहे हैं, बावजूद इसके कि कांग्रेस पार्टी के पद के लिए आधिकारिक तौर पर आवश्यक सीटों की संख्या कम हो गई है।लोकसभा में बदलाव की अटकलें लंबे समय से लगाई जा रही हैं। जबकि पिछले कुछ समय से अधीर रंजन चौधरी को एलओपी के रूप में बदलने की बात चल रही है,

पश्चिम बंगाल में हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनाव में सफेदी को तत्काल ट्रिगर के रूप में इंगित किया जा रहा है।बताया जा रहा है कि  ने कहा कि कांग्रेस आलाकमान की इच्छा है कि अधीर रंजन चौधरी, जो पार्टी की बंगाल इकाई के प्रमुख भी हैं, 2024 के लोकसभा चुनावों में पार्टी की संभावनाओं को बेहतर बनाने के लिए राज्य की राजनीति पर ध्यान केंद्रित करें।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times Now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर