Corona Vaccine: कोरोना टीके की पहली डोज के बाद दूसरी खुराक में क्यों रखा जाता है दिनों का गैप? 

फोर्टिस अस्पताल के डॉक्टर केएस सतीश का कहना है कि 'दो खुराकों के बीच कितने समय का अंतर होना चाहिए, इसे लेकर प्रत्येक टीके की अपना एक आदर्श समय होता है।

Why gap between two doses of Corona vaccine?
कोरोना टीके दोनों डोज के बीच क्यों होता है अंतराल।  |  तस्वीर साभार: PTI

मुख्य बातें

  • सरकार ने कोविशील्ड के दोनों खुराकों के बीच समय के अंतराल को फिर बढ़ा दिया है
  • आईसीएमआर का कहना है कि पहली डोज की प्रतिरोधक क्षमता देखने के बाद फैसला
  • कोवाक्सिन के दोनों खुराकों के बीच समय के अंतराल को नहीं बढ़ाया गया है

नई दिल्ली : कोरोना टीके की दो खुराक के बीच में दिनों का अंतराल चर्चा का विषय बना हुआ है। कई लोगों के मन में सवाल है कि एक डोज के बाद लगने वाले दूसरे डोज के बीच दिनों की संख्या सरकार क्यों बढ़ाती जा रही है। गत जनवरी से देश में टीकाकरण अभियान की शुरुआत हुई और इसके बाद सरकार दो बार कोरोना टीके कोविशील्ड के दोनों डोज के अंतराल में बदलाव कर चुकी है। पहले कोविशील्ड की पहली खुराक लेने के बाद दूसरी खुराक के लिए चार से छह सप्ताह का समय बताया गया। बाद में सरकार ने एक बार फिर इसमें संशोधन किया। अब पहली खुराक के 12 से 16 सप्ताह बाद दूसरी डोज ली जा सकती है। 

कोवाक्सिन के दोनों डोज के दिनों में बदलाव नहीं
हालांकि, भारत बॉयोटेक की ओर से विकसित स्वदेशी टीके कोवाक्सिन के दोनों डोज के बीच दिनों के अंतराल में कोई बदलाव नहीं किया गया है। कोविशील्ड के दोनों खुराकों के बीच दिनों की संख्या बढ़ाए जाने के बारे में भारतीय चिकित्सा एवं अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने स्पष्टीकरण दिया है। आईसीएमआ के प्रमुख डॉ. बलराम भार्गव का कहना है कि कोविशील्ड के दो खुराकों के बीच अंतराल को बढ़ाने का फैसला टीके की पहली डोज के असर को देखने के लिए गया है। 

प्रतिरोधक क्षमता पर निर्भर करता है गैप
डॉ. भार्गव का कहना है कि कोविशील्ड टीके की पहली डोज के बाद शरीर की प्रतिरोधक क्षमता में काफी इजाफा होता है और यह एंटीबॉडी करीब 12 सप्ताह तक रहती है। इसे ध्यान में रखते हुए कोविशील्ड की दूसरी खुराक के समय को बढ़ाया गया है। हालांकि, कोवाक्सिन की पहली डोज लोने के बाद विकसित होने वाली प्रतिरोधक क्षमता को लेकर अभी कोई डाटा उपलब्ध नहीं है। आईसीएमआर के डॉक्टर का कहना है कि कोरोना महामारी के लिए टीके दिसंबर 15 के बाद आना शुरू हुए। टीके को लेकर नई चीजें सामने आ रही हैं। 

'सभी टीके का अपना एक आदर्श समय होता है'
फोर्टिस अस्पताल के डॉक्टर केएस सतीश का कहना है कि 'दो खुराकों के बीच कितने समय का अंतर होना चाहिए, इसे लेकर प्रत्येक टीके की अपना एक आदर्श समय होता है। कोविशील्ड की पहली डोज के बाद दूसरी डोज 12 सप्ताह के बाद भी लिया जा सकता है। जबकि कोवाक्सिन के साथ ऐसी बात नहीं है। कोवाक्सिन का दूसरा टीका पहली डोज के 28 दिनों के बाद लिया जा सकता है।' डॉक्टर का कहना है कि वैक्सीन निर्माताओं ने दोनों खुराकों के बीच जो समय निर्धारित किया है, उसका पालन सभी को करना चाहिए। 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर