डॉ. वीके पॉल ने कहा- एक दिन में 1 करोड़ खुराक देने की तैयारी करनी होगी, बच्चों के टीकाकरण पर भी दी जानकारी

देश
Updated May 27, 2021 | 19:50 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने भारत में टीकाकरण पर बड़ा अपडेट दिया है। उन्होंने बताया है कि हमें एक दिन में 1 करोड़ खुराक देने की तैयारी करनी होगी। उन्होंने बच्चों के टीकाकरण पर भी जानकारी दी है।

vk paul
डॉ. वीके पॉल, नीति आयोग के सदस्य-हेल्थ 

मुख्य बातें

  • फाइजर को लेकर वीके पॉल ने कहा कि हम कंपनी के संपर्क में हैं
  • कोवैक्सीन को बाल चिकित्सा परीक्षण की अनुमति मिल गई है: वीके पॉल
  • फाइजर की वैक्सीन जल्द बच्चों को भी लगनी शुरू हो सकती है

नई दिल्ली: नीति आयोग के सदस्य-हेल्थ डॉ. वीके पॉल ने कहा है कि हमें एक दिन में 1 करोड़ खुराक देने की तैयारी करनी होगी। कुछ हफ्तों में यह संभव हो जाएगा, हमें तैयारी करनी होगी। हमने एक दिन में 43 लाख डोज संभव किए हैं। हमें इसे अगले 3 सप्ताह में 73 लाख तक लाना चाहिए। हमें ऐसा करने के लिए एक सिस्टम बनाना चाहिए।

उन्होंने कहा, 'राज्य हमारी वैक्सीन उत्पादन क्षमता को जानते हैं। जब उन्होंने कहा कि वे लचीलापन चाहते हैं तो टीके की खरीद में एक नई प्रणाली लाई गई। केंद्र राज्यों के लिए घरेलू स्तर पर उत्पादित 50% टीकों को 45+ समूह के लिए मुफ्त में खरीदेगा। इसके अलावा, शेष 50% के लिए एक विशेष चैनल बनाया गया जहां राज्य सरकारें और निजी क्षेत्र टीके खरीद और आपूर्ति कर सकते हैं। जो भी राज्य खरीदता है, (निजी क्षेत्र से) राज्य सरकारों को यह तय करना होता है कि इसे किस समूह को दिया जाना है और आगे ले जाना है।'

डॉ. पॉल ने आगे कहा कि यह कहना कि आपूर्ति बंद हो गई है, सही नहीं है। सच्चाई यह है कि उपलब्ध उत्पादन में से एक अलग हिस्सा राज्य सरकार सहित गैर-सरकारी चैनलों के लिए उपलब्ध है, जिसका उपयोग राज्य सरकार के लचीले दृष्टिकोण के अनुसार अपने राज्य के लोगों को टीकाकरण के लिए किया जाता है। 

फाइजर वैक्सीन पर पॉल ने कहा, 'हम कंपनी के संपर्क में हैं, फैसले लिए जा रहे हैं। इस प्रक्रिया को तेज कर दिया गया है...उनकी चिंताओं का समाधान किया जा रहा है। उन्हें औपचारिक रूप से आवेदन करना होगा। हम जल्द ही कोई समाधान निकालेंगे।' 

बच्चों को वैक्सीन पर दिया ये जवाब

वहीं बच्चों को वैक्सीन पर उन्होंने कहा, 'Covaxin को अनुमति मिल गई है, वे बाल चिकित्सा परीक्षण शुरू करेंगे, मुझे लगता है कि वे व्यवस्थित तरीके से 2 साल की उम्र तक जा रहे हैं। मुझे बताया गया है कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया नोवावैक्स का बाल चिकित्सा परीक्षण शुरू करना चाहता है। जब कोई दवा/वैक्सीन की खोज की जाती है, तो आमतौर पर इसे पहले वयस्क आबादी में दिया जाता है क्योंकि आप बच्चों को जोखिम में नहीं डालना चाहते...अब यह पता चला है कि फाइजर को बच्चों को देना शुरू किया जा सकता है। 1-2 देश अब ऐसा करना शुरू कर देंगे। डब्ल्यूएचओ ने अभी तक बाल चिकित्सा आबादी को सामान्य रूप से कवर करने के लिए कोई सिफारिश नहीं दी है क्योंकि बाल चिकित्सा आबादी में कोई भी बीमारी बहुत हल्की होती है।'

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर