Video: जानिए क्यों बौखलाया है आंतक का पालनहार पाकिस्तान, हर साजिश को डिफ्यूज कर रही है आर्मी

हर गुजरते दिन पाकिस्तान की बौखलाहट बढ़ती ही जा रही है। आतंक के आकाओं को कुछ समझ नहीं आ रहा है कि आखिर करें तो करें क्या क्योंकि घाटी में आतंकियों की एक भी साजिश अंजाम तक पहुंच ही नहीं पा रही है।

Watch Video how the army is foiling every conspiracy of Pakistan
Video: देखिए कैसे पाक की हर साजिश को नाकाम कर रही है आर्मी 

मुख्य बातें

  • कश्मीर में पाकिस्तान से आए कई आतंकी मारे गए
  • पाकिस्तान से हथियार भी आर्मी के कब्जे में, ड्रोन के जरिए हो रही है सप्लाई
  • पाकिस्तान से ड्रग्स की खेप भी सुरक्षाबलों ने की जब्त

नई दिल्ली: पाकिस्तान आतंक फैलाने के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रहा है। आतंकी भेज रहा है, हथियारों की डिलीवरी कर रहा है और ड्रग्स की खेप भेज रहा है। लेकिन उसकी हर साजिश को फटने से पहले ही सुरक्षाबलों द्वारा डिफ्यूज कर दिया जा रहा है।  इसलिए आंतक का पालनहार पाकिस्तान बुरी तरह बौखला गया है। समझ में आ नहीं रहा है कि आखिर करें तो करें क्या।

बीती रात एक बार फिर पाकिस्तान की एक साजिश को अंजाम तक पहुंचने से रोक दिया गया। जम्मू कश्मीर के फलियन मंडल इलाके में एक ड्रोन से हथियारों की खेप गिराई गई इसमें एक AK-47, एक नाइट विजन डिवाइस, 3 मैगजीन और गोलियां मौजूद थी। दरअसल रात के अंधेरे लोगों ने ड्रोन की आवाज सुनी एक साथ दो ड्रोन को देखा गया। जिसके बाद पुलिस को इत्तिला दी गई। इससे पहले की नापाक साजिश की खेप आतंकियों के हाथ लगती, पुलिस ने इसे जब्त कर लिया।

ड्रोन का सहारा ले रहा है पाकिस्तान

सीमापार से भेजे गए ये हथियार किसके लिए भेजे गए थे पुलिस अब इसकी जांच कर रही है। बीते कुछ वक्त में पाकिस्तान ने घाटी में आतंक फैलाने के लिए ड्रोन का सहारा लेना शुरु कर दिया है। पाकिस्तान ड्रोन पर लगातार अपना फोकस बढ़ा रहा है। इंटेलिजेंस सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान रावलकोट में चार साल से बंद पड़ी एयर स्ट्रिप को रिपेयर कर रहा है जिसमें उसके हथियार बंद यूएवी यानी अनमैन्ड एरियल व्हीकल के लिए रनवे तैयार होगा ये भारत के पुंछ इलाके के अपोजिट है। हाल के दिनों में ड्रोन के जरिए पाकिस्तान की साजिश कब-कब बेनकाब हुई इसे जानिए-

  1. 2 सितम्बर को  पंजाब में अंतरराष्ट्रीय सीमा पार से एक साथ दो ड्रोन देखे गए थे। खेमकरण क्षेत्र में दो पाकिस्‍तानी ड्रोन देखे गए थे और बीएसएफ के जवानों ने फायरिंग कर एक ड्रोन को गिरा दिया था।
  2. 23 अगस्त को जम्मू कश्मीर के अर्निया सेक्टर के पास ड्रोन देखा गया, BSF ने ड्रोन पर फायरिंग की तो वापस चला गया।
  3. 24 जुलाई को अखनूर में पाकिस्तान के ड्रोन को गिराया गया। ड्रोन में पांच किलो IED से लदा था।
  4. 27 जुलाई को जम्मू में एयरफोर्स बेस पर ड्रोन से बम गिराए गए जिस हमले में 2 आतंकी घायल हो गए। इसके अलावा सितंबर तक राजस्थान,पंजाब,  गुजरात और जम्मू कश्मीर में 42 ड्रोन देखे गए हैं। जनवरी 2020 से लेकर अभी तक 121 ऐसी घटनाएं थीं।


आर्मी है तैयार

सीमापार से लगातार हो रहे ड्रोन हमलों पर कड़ी निगरानी रखने और उसे मार गिराने KR जिम्मेदारी जम्मू कश्मीर लाइट इन्फेंट्री को दी गई है। इस इन्फेंट्री में 460 नए जवानों को शामिल किया गया। इन सभी जवानों को ट्रेन किया जाएगा ताकि भारतीय सीमा में ड्रोन के जरिये हमला करने की कोई हिमाकत न कर सके। भारतीय सेना और जम्मू और कश्मीर लाइट इन्फैंट्री रेजिमेंट इसका सामना करने के लिए तैयार है।

जब बाबर गिड़गिड़ाने लगा

 आतंकी ड्रोन के इस्तेमाल पर ज्यादा फोकस इसीलिए कर रहे हैं क्योंकि सरहद पार करने की फिराक में उसके कई आतंकी अल्लाह को प्यारे हो चुके हैं और जो बच रहे हैं वो सेना के खौफ में सरेंडर कर रहे हैं। इसकी मिसाल है हाल ही में पकड़ा गया 19 साल का पाकिस्तानी आतंकी अली बाबर। अली बाबर अपने साथी आतंकियों के साथ 18 सितंबर को उरी सेक्टर में पाकिस्तान की तरफ से घुसपैठ करने की कोशिश कर रहा था। इससे पहले की आतंकी भारत में घुस पाते सेना ने उनपर फायरिंग शुरु कर दी। सेना की ललकार से घबराकर चार आतंकी वापस पाकिस्तान की सीमा में भाग खड़े हुए लेकिन दो आतंकी गलती से भारतीय सीमा में फंस गए। इन दोनों आतंकियों को पकड़ने के लिए सेना ने कॉम्बिंग ऑपरेशन शुरु किया। 25 सितंबर को भारतीय सेना ने इन दोनों आतंकियों को उरी के सलामाबाद नाले में घेर लिया। 26 सितबंर की सुबह भारतीय सेना ने एक आतंकी को मार गिराया। अपने साथी की मौत से घबराया अली बाबर भारतीय सेना के सामने गिड़गिड़ाने लगा और सरेंडर की अपील की।

इमरान को स्नेहा दुबे ने दिया करारा जवाब

अली बाबर के पास से 5 AK-47s, कई राउंड गोलियां और  70 ग्रेनेड रिकवर किए थे। बरामद हथियारों की मात्रा से साफ था कि आतंकी कुछ बड़ा प्लान कर के आए थे  लेकिन सेना ने एक बार फिर आतंकियों की साजिश को नाकाम कर दिया।  इमरान का जवाब वहां तो भारत की स्नेहा दुबे ने तो तब ही दे दिया था। स्नेहा ने जो कहा, भारतीय सेना बॉर्डर पर वही कर रही है। पाकिस्तान के पालतू आतंकियों से निपट रही है। बीते कुछ दिनों से जो ऑपरेशन चल रहा है उससे साफ है कि जवाब तो पुख्ता मिल रहा है लेकिन एक बात इमरान खान को भी समझ लेनी चाहिए कि आतंक का सहारा लेकर घाटी को अस्थिर करने का सपना वो छोड़ ही दे तो बेहतर होगा। 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर