अफगानिस्तान के हालात पर UNSC की आपात बैठक, भारत ने कहा- लोगों में व्यापक दहशत, महिलाएं और बच्चे परेशान हैं

अफगानिस्तान के हालातों पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) की आपातकालीन बैठक हुई है। भारत ने कहा है कि आतंकवाद के खिलाफ जीरो टॉलरेंस हो ताकि अफगान क्षेत्र का उपयोग किसी अन्य देश पर हमला करने के लिए नहीं हो।

UNSC
संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूत टीएस तिरुमूर्ति  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • अफगानिस्तान में बिगड़े हालातों पर UNSC की आपातकालीन बैठक हुई
  • भारत समेत कई देशों ने अफगानिस्तान के हालातों पर चिंता जताई है
  • अफगानिस्तान की मौजूदा स्थिति भारत के लिए चिंता का विषय है

नई दिल्ली: अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के मद्देनजर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) की अफगानिस्तान में हालात पर आपात बैठक हो रही है। भारत ने कहा कि अफगानिस्तान के हालात से चिंतित हैं। आतंकवाद के लिए जीरो टॉलरेंस हैं। सभी देशों को आगे आना होगा।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूत, टीएस तिरुमूर्ति ने कहा, 'यदि आतंकवाद के सभी रूपों के लिए जीरो टॉलरेंस है और यह सुनिश्चित किया जाता है कि अफगान क्षेत्र का उपयोग आतंकवादी समूहों द्वारा किसी अन्य देश को धमकाने या हमला करने के लिए नहीं किया जाता है, तो अफगानिस्तान के पड़ोसी और क्षेत्र सुरक्षित महसूस करेंगे।' 

उन्होंने कहा कि हमने काबुल के हामिद करजई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण दृश्य देखा है जिससे लोगों में व्यापक दहशत है। महिलाएं और बच्चे परेशान हैं। एयरपोर्ट समेत शहर से फायरिंग की घटनाएं सामने आई हैं। अफगानिस्तान के एक पड़ोसी के रूप में, उसके लोगों के एक मित्र के रूप में, देश में मौजूदा स्थिति भारत में हमारे लिए बहुत चिंता का विषय है। अफगान पुरुष, महिलाएं और बच्चे लगातार भय की स्थिति में जी रहे हैं।

तिरुमूर्ति ने कहा कि वर्तमान संकट सामने आने से पहले भारत अफगानिस्तान के 34 प्रांतों में से प्रत्येक में विकास परियोजनाएं चला रहा था। हम संबंधित पक्षों से कानून और व्यवस्था बनाए रखने, संयुक्त राष्ट्र के राजनयिक और कांसुलर कर्मियों सहित सभी संबंधितों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का आह्वान करते हैं। 

महिलाएं आजादी खोने वाली हैं: इसाकजई

संयुक्त राष्ट्र में अफगानिस्तान के राजदूत और स्थायी प्रतिनिधि गुलाम एम इसाकजई ने कहा, 'तालिबान दोहा और अन्य अंतरराष्ट्रीय मंचों पर अपने बयानों में किए गए अपने वादों और प्रतिबद्धताओं का सम्मान नहीं कर रहा है। निवासी भय में जी रहे हैं। आज मैं अफगानिस्तान के लाखों लोगों की ओर से बोल रहा हूं। मैं उन लाखों अफगान लड़कियों और महिलाओं की बात कर रहा हूं जो स्कूल जाने और राजनीतिक-आर्थिक और सामाजिक जीवन में भाग लेने की अपनी आजादी खोने वाली हैं। तालिबान ने नाम दर्ज कर घर-घर तलाशी शुरू कर दी है और लक्षित सूची में लोगों की तलाश कर रहे हैं।'

'हम अफगानिस्तान के लोगों को नहीं छोड़ सकते हैं'

वहीं संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा, 'मैं यूएनएससी और अंतरराष्ट्रीय समुदाय से आग्रह करता हूं कि वे एक साथ खड़े हों, एक साथ काम करें और अफगानिस्तान में वैश्विक आतंकवादी खतरे को दबाने के लिए अपने सभी साधनों का उपयोग करें। अफगान गर्वित लोग हैं। वे युद्ध और कठिनाई की पीढ़ियों को जानते हैं। वे हमारे पूर्ण समर्थन के पात्र हैं। आने वाले दिन महत्वपूर्ण रहेंगे। दुनिया देख रही है। हम अफगानिस्तान के लोगों को नहीं छोड़ सकते हैं और नहीं छोड़ना चाहिए। अंतरराष्ट्रीय समुदाय को यह सुनिश्चित करने के लिए एकजुट होना चाहिए कि अफगानिस्तान को फिर कभी आतंकवादी संगठनों के लिए एक मंच या सुरक्षित पनाहगाह के रूप में उपयोग न किया जाए।' 

उन्होंने कहा कि हमें पूरे देश में मानवाधिकारों पर प्रतिबंधों की चौंकाने वाली रिपोर्टें मिल रही हैं। मैं विशेष रूप से अफगानिस्तान की महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ बढ़ते मानवाधिकारों के उल्लंघन से चिंतित हूं, जो काले दिनों की वापसी से डरती हैं। मैं सभी पक्षों से विशेष रूप से तालिबान से आग्रह करता हूं कि वे जीवन की रक्षा के लिए अत्यधिक संयम बरतें और यह सुनिश्चित करें कि मानवीय जरूरतों को पूरा किया जा सके। संघर्ष ने सैकड़ों हजारों को अपने घरों से मजबूर कर दिया है। राजधानी शहर (काबुल) ने देश भर के प्रांतों (अफगानिस्तान) से आंतरिक रूप से विस्थापित व्यक्तियों की भारी आमद देखी है, जहां वे असुरक्षित महसूस करते थे और लड़ाई के दौरान भाग गए थे। मैं सभी पक्षों को नागरिकों की रक्षा के लिए उनके दायित्वों की याद दिलाता हूं। 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर