Uddhav Thackeray: शिवसेना के मुखपत्र सामना के संपादक के रूप में फिर से लौटे उद्धव ठाकरे, ईडी की हिरासत में संजय राउत

Uddhav Thackeray: उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री बनने के बाद सामना संपादक के पद से इस्तीफा दे दिया था। उद्धव ठाकरे की पत्नी रश्मि ठाकरे को मार्च 2020 में सामना का प्रधान संपादक बनाया गया था।

Uddhav Thackeray returns as editor of Shiv Sena mouthpiece Saamana
सामना के संपादक के रूप में फिर से लौटे उद्धव ठाकरे। (File Photo)  |  तस्वीर साभार: ANI
मुख्य बातें
  • शिवसेना के मुखपत्र सामना के संपादक के रूप में फिर से लौटे उद्धव ठाकरे
  • मराठी और हिंदी भाषा में प्रकाशित होता है सामना
  • ईडी की हिरासत में संजय राउत

Uddhav Thackeray: महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एक बार फिर शिवसेना के मुखपत्र सामना के संपादक के रूप में कार्यभार संभाला है। शिवसेना सांसद संजय राउत को पिछले हफ्ते प्रवर्तन निदेशालय द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद उद्धव ठाकरे ने सामना के संपादक के रूप में कार्यभार संभाला। उद्धव ठाकरे ने सामना के प्रधान संपादक का पद संभाला है, जबकि संजय राउत सेना के मुखपत्र के कार्यकारी संपादक के रूप में बने हुए हैं।

सामना के संपादक के रूप में फिर से लौटे उद्धव ठाकरे

उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री बनने के बाद सामना संपादक के पद से इस्तीफा दे दिया था। उद्धव ठाकरे की पत्नी रश्मि ठाकरे को मार्च 2020 में सामना का प्रधान संपादक बनाया गया था। उद्धव ठाकरे के संपादक के रूप में लौटने के बाद अखबार में एक बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है। सामना मराठी और हिंदी भाषा में प्रकाशित होता है।

शिवसेना के संबंध में 'सुप्रीम' फैसला तय करेगा लोकतंत्र का भविष्य- उद्धव ठाकरे

संपादक के रूप में उद्धव ठाकरे की वापसी और ईडी की हिरासत में संजय राउत के साथ संभावना है कि उद्धव ठाकरे आने वाले दिनों में भारतीय जनता पार्टी और बाकी विरोधियों पर निशाना साधने के लिए पार्टी के मुखपत्र सामना का इस्तेमाल करेंगे। संजय राउत सामना में संपादकीय और रविवार के कॉलम रोकठोक में लिखते थे। ये अभी भी एक सवाल है कि सांसद के कॉलम को कौन संभालेगा। लेकिन उद्धव ठाकरे के प्रधान संपादक बनने से संभावना है कि वह कॉलम भी लिख सकते हैं।

Sanjay Raut News : 4 अगस्त तक ED की हिरासत में रहेंगे संजय राउत, PMLA कोर्ट ने सुनाया फैसला

पिछले कुछ सालों में कई मुद्दों पर सामना ने की है बीजेपी की आलोचना 

शिवसेना अलग-अलग मुद्दों पर अपनी स्थिति व्यक्त करने के लिए सामना संपादकीय का उपयोग करती रही है। पिछले कुछ सालों में अखबार ने कई मुद्दों पर बीजेपी की आलोचना की है। 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर