आसनसोल-बालीगंज में TMC की शानदार जीत, बाबुल सुप्रियो बोले- BJP के मुंह पर 'थप्पड़' तो शत्रुघ्न सिन्हा ने कही ये बात

देश
रामानुज सिंह
Updated Apr 16, 2022 | 17:24 IST

आसनसोल लोकसभा और बालीगंज विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में टीएमसी के शत्रुघ्न सिन्हा और बाबुल सुप्रियो ने शानदार जीत दर्ज की और उन्होंने कहा कि यह जीत बीजेपी के मुंह पर बंगालियों को नीचा दिखाने के लिए एक 'तमाचा' है। शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि ममता बनर्जी 2024 में गेंमचेंजर होंगी। 

TMC's victory in Asansol and Ballygunge, Babul Supriyo, Shatrughan Sinha and Mamta Banerjee react on result
बाबुल सुप्रियो और शत्रुघ्न सिन्हा 
मुख्य बातें
  • बाबुल सुप्रियो ने कहा कि उप चुनाव रिजल्ट बंगालियों को नीचा दिखाने के लिए बीजेपी पर एक 'तमाचा' है।
  • शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि ममता बनर्जी देश की पसंदीदा और लोकप्रिय नेता हैं।
  • आसनसोल लोकसभा सीट पर उपचुनाव टीएमसी के शत्रुघ्न सिन्हा 3.03 लाख वोटों के अंतर से जीते।

कोलकाता : आसनसोल लोकसभा सीट पर उपचुनाव और बालीगंज विधानसभा उपचुनाव में तृणमूल कांग्रेस पार्टी (टीएमसी) ने शानदार जीत दर्ज की। पूर्व केंद्रीय मंत्री और पार्टी के बालीगंज विधानसभा उम्मीदवार बाबुल सुप्रियो ने अपनी 'जीत' मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को समर्पित की और कहा कि बीजेपी की स्थिति पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि के प्रभाव को दर्शाती है। सुप्रियो ने कहा कि दीदी (ममता बनर्जी) ने हमें जमीनी स्तर पर काम करने के लिए निर्देशित किया। मैं अपनी जीत सीएम ममता बनर्जी और मा-माटी-मानुष को समर्पित करता हूं। ईंधन की कीमतों में वृद्धि बीजेपी की स्थिति का प्रभाव दिखाता है। उन्होंने कहा कि चुनाव रिजल्ट बीजेपी के मुंह पर 'थप्पड़' है। टीएमसी नेता ने कहा कि विपक्ष प्रचार के दौरान बहुत नीचे गिर गया। यह रिजल्ट बीजेपी पर बंगालियों को नीचा दिखाने के लिए एक 'तमाचा' है। यह रिजल्ट टीएमसी कार्यकर्ताओं की कड़ी मेहनत का परिणाम है।

 शत्रुघ्न सिन्हा

आसनसोल लोकसभा सीट पर उपचुनाव टीएमसी के शत्रुघ्न सिन्हा 3.03 लाख के बड़े अंतर से जीते। उन्होंने बीजेपी की अग्निमित्र पॉल को हराया। चुनाव जीतने के बाद टीएमसी नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि ममता बनर्जी देश की पसंदीदा और लोकप्रिय नेता हैं। वह एक गेम-चेंजर (2024 के चुनावों में) होंगी और हम उनके साथ रहेंगे, बिहार समेत जहां वह जाएंगीं। पहले कुछ जगहों पर 'खेला होबे' ईवीएम के साथ होता था लेकिन यहां स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव बिना किसी डर के होते थे। यह जीत टीएमसी, सीएम ममता बनर्जी और आसनसोल के लोगों की है।

बाबुल सुप्रियो

बाबुल सुप्रियो ने ट्वीट किया कि उन ईर्ष्यालु बीजेपी 'नेताओं' के चेहरों को देखना चाहता हूं, जिन्होंने कभी मेरी मेहनत को एक जगह के लिए स्वीकार नहीं किया-आसनसोल और यह कहकर मेरा मजाक उड़ाया, "यहां तक ​​कि एक माचिस की तीली भी @BJP4India के लिए खड़ी है। आसनसोल में जीत लव यू आसनसोल उन्हें थाली में तमाचा परोसने के लिए। साथ ही उन्होंने लिखा कि आसनसोल के बिल्कुल नए धुरंधर माननीय सांसद श्री जी को हार्दिक बधाई@ShatruganSinha जी 3 लाख+ वोट से जीतने पर। आसनसोल ने साबित कर दिया @BJP4India @BJP4Bengal कभी कोई फैक्टर नहीं था, बाबुल की ईमानदारी थी।

ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल उपचुनाव में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) बालीगंज विधानसभा सीट और आसनसोल लोकसभा सीट से जीप पर मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सुप्रीमो ममता बनर्जी ने टीएमसी उम्मीदवारों को 'निर्णायक जनादेश' देने के लिए मतदाताओं को धन्यवाद दिया। ममता बनर्जी ने ट्वीट किया कि मैं एआईटीसी पार्टी के उम्मीदवारों को निर्णायक जनादेश देने के लिए आसनसोल संसदीय क्षेत्र और बालीगंज विधानसभा क्षेत्र के मतदाताओं को ईमानदारी से धन्यवाद देती हूं। हम इसे अपने मा-माटी-मानुष संगठन के लिए अपने लोगों का हार्दिक शुभो नबाबर्शो उपहार मानते हैं। हम पर विश्वास जताने के लिए मतदाताओं को सलाम, एक बार फिर।

अग्निमित्र पॉल

आसनसोल से बीजेपी की उम्मीदवार अग्निमित्र पॉल ने कहा कि हमारी ओर से कुछ कमियां थीं जिसके कारण हमें हार का सामना करना पड़ा। जनता का फैसला स्वीकार है। कुछ जगहों पर धांधली के कुछ मामले देखे गए लेकिन केंद्रीय बलों ने वास्तव में अच्छा काम किया। आने वाले दिनों में हम जमीनी स्तर पर काम करें। बालीगंज से सुप्रियो की जीत पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा कि बल्लीगंज में बाबुल सुप्रियो की जीत का अनुमान था, कीया घोष ने एक बड़ी लड़ाई लड़ी है। हम पुलिस, प्रशासन और चुनाव आयोग से राज्य में हिंसा पर रोक लगाने का आग्रह करते हैं। पश्चिम बंगाल में चुनावी हिंसा नहीं होनी चाहिए।बालीगंज विधानसभा उपचुनाव के लिए बीजेपी ने कीया घोष को मैदान में उतारा था जबकि सायरा शाह हलीम सीपीएम के उम्मीदवार थे। पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो भी टीएमसी से मैदान में थे।

आसनसोल लोकसभा सीट के लिए उपचुनाव की जरूरत तब पड़ी जब सुप्रियो ने बीजेपी छोड़ने के बाद निचले सदन से इस्तीफा दे दिया। बाद में वह टीएमसी में शामिल हो गए। राज्य मंत्री सुब्रत मुखर्जी के निधन के बाद बालीगंज विधानसभा सीट पर उपचुनाव कराना पड़ा। 2019 के लोकसभा चुनावों में, सुप्रियो ने टीएमसी उम्मीदवार मुनमुन सेन को 1,97,637 मतों के बड़े अंतर से हराया था, कुल मतों का 51.56 प्रतिशत हासिल किया था। 2014 में सुप्रियो की जीत का अंतर 70,480 वोट था।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर