Quad Meeting: वैश्विक ताकत बनेगा क्वाड, दुनिया की भलाई के लिए है यह गठबंधन, संदेश और नसीहत दोनों

देश
ललित राय
Updated Mar 13, 2021 | 00:06 IST

क्वाड की पहली वर्चुअल बैठक में सभी सदस्य देशों ने कहा कि दुनिया की भलाई के लिए हमें सुनिश्चित करना होगा कि कोई भी देश निहित स्वार्थ के लिए आक्रामक रवैया ना अपनाए।

Quad Meeting:  क्वाड समुह की बैठक में अमेरिका ने क्या कुछ कहा, यहां जानें
क्वाड की पहली बैठक में शामिल हुए सदस्य देशों के प्रीमियर 

मुख्य बातें

  • क्वाड समूह की बैठक में शामिल हुए सदस्य देशों के शीर्ष नेता
  • कोरोना के खिलाफ लड़ाई हम सबकी प्राथमिकता- जो बिडेन
  • क्वॉड में लद्दाख, चीन की आक्रामकता और उत्तर कोरिया के विषय पर भी हुई चर्चा

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी ने ‘क्वाड’ शिखर सम्मेलन में कहा  कि आज का सम्मेलन दिखाता है कि ‘क्वाड’ विकसित हो चुका है और यह अब क्षेत्र में स्थिरता का एक महत्वपूर्ण स्तंभ बना रहेगा।साझा मूल्यों को आगे बढ़ाने और सुरक्षित, स्थिर, समृद्ध हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए पहले से कहीं अधिक साथ मिलकर, निकटता से काम करेंगे।मैं इस सकारात्मक दृष्टिकोण को भारत के वसुधैव कुटुंबकम के दर्शन के विस्तार के तौर पर देखता हूं, जो कि पूरी दुनिया को एक परिवार मानता है। एएनआई के मुताबिक क्वाड में लद्दाख, चीन की आक्रामकता के साथ साथ उत्तर कोरिया के विषय पर भी चर्चा हुई। 

विकसित हो चुका है क्वाड
पीएम ने कहा कि  गठबंधन विकसित हो चुका है और टीका, जलवायु परिवर्तन, उभरती प्रौद्योगिकी जैसे क्षेत्रों के इसके एजेंडे में शामिल होने से यह वैश्विक भलाई की ताकत बनेगा।चार देशों के क्वाड समूह के डिजिटल शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए मोदी ने लोकतांत्रिक मूल्यों और मुक्त तथा समावेशी हिंद-प्रशांत क्षेत्र के बारे में चर्चा की । हम अपने लोकतांत्रिक मूल्यों और मुक्त तथा समावेशी हिंद-प्रशांत क्षेत्र को लेकर अपनी प्रतिबद्धता के लिए एकजुट हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज हमारे एजेंडा में टीका, जलवायु परिवर्तन और उभरती प्रौद्योगिकी जैसे क्षेत्र शामिल हैं, जो ‘क्वाड’ को वैश्विक भलाई की ताकत बनाते हैं।’’


खास है क्वाड सम्मेलन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन, जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा और अमेरिका के राष्ट्रपति जोसेफ आर. बिडेन के साथ चार देशों समूह के नेताओं के पहले ऑनलाइन शिखर सम्मेलन में हिस्सा लिया ।मोदी ने कहा कि मैं इस सकारात्मक दृष्टिकोण को भारत के वसुधैव कुटुंबकम के दर्शन के विस्तार के तौर पर देखता हूं, जो कि पूरी दुनिया को एक परिवार मानता है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि साझा मूल्यों को आगे बढ़ाने और सुरक्षित, स्थिर, समृद्ध हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए पहले से कहीं अधिक साथ मिलकर, निकटता से काम करेंगेउन्होंने अपनी टिप्पणी में कहा कि आज का सम्मेलन दिखाता है कि ‘क्वाड’ विकसित हो चुका है और यह अब क्षेत्र में स्थिरता का एक महत्वपूर्ण स्तंभ बना रहेगा।’’

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने कहा कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र में सहयोग के लिए ‘क्वाड’ महत्वपूर्ण मंच बनने जा रहा है।उन्होंने कहा कि हम अपनी प्रतिबद्धताओं को जानते हैं।  हमारा क्षेत्र अंतरराष्ट्रीय कानून से संचालित है, हम सभी सार्वभौमिक मूल्यों के लिए प्रतिबद्ध हैं और किसी दबाव से मुक्त हैं लेकिन मैं हमारी संभावना के बारे में आशावादी हूं।’’बिडेन ने कहा, ‘‘क्वाड हिंद-प्रशांत क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण क्षेत्र होने जा रहा है और मैं आने वाले वर्षों में आप सभी के साथ मिलकर काम करने के लिए उत्सुक हूं।बिडेन ने प्रधानमंत्री मोदी से कहा, आपको देख कर बहुत अच्छा लगा।’’जापान, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका एवं भारत की सदस्यता वाले क्वाड समूह के नेताओं की बैठक में कोविड-19 महामारी का मुकाबला करने तथा हिंद-प्रशांत क्षेत्र में सुरक्षित, सस्ते टीके निर्यात करने में भारत की निर्माण क्षमता बढ़ाने का मुद्दा अहम रहा।

कोरोना के खिलाफ लड़ाई पर जोर
हम एक नई महत्वाकांक्षी संयुक्त साझेदारी शुरू कर रहे हैं जो वैश्विक लाभ के लिए वैक्सीन निर्माण को बढ़ावा देने वाली है, पूरे इंडो-पैसिफिक को लाभ पहुंचाने के लिए टीकों को मजबूत करेगी।संयुक्त राज्य अमेरिका स्थिरता प्राप्त करने के लिए आपके और हमारे सभी सहयोगियों के साथ काम करने के लिए प्रतिबद्ध है। यह समूह विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि यह व्यावहारिक समाधान और ठोस परिणामों के लिए समर्पित है।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर