सेना के जवानों के लिए स्कूली छात्रों ने बनाई राखी, रक्षा मंत्री ने किया वादा- ये जवानों की कलाई तक पहुंचेंगी

दिल्ली और तमिलनाडु के विभिन्न स्कूलों के छात्रों ने देश की रक्षा कर रहे जवानों के लिए राखी बनाई। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने छात्रों से वादा किया कि  तीनों सेना प्रमुखों को ये राखियां भेजूंगा ताकि ये तीनों सेनाओं के जवानों तक पहुंच सकें।

School students made Rakhis for Army jawans, Defense Minister Rajnath Singh promised these will reach the wrist of the jawans
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह  |  तस्वीर साभार: ANI

नई दिल्ली: रक्षा बंधन से पहले दिल्ली और तमिलनाडु के विभिन्न स्कूलों के छात्रों ने शनिवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को अपने हाथों से बनाई हुई राखी सौंपी। छात्रों ने सीमा पर देश की रक्षा कर रहे जवानों के लिए राखी बनाई। रक्षा मंत्री ने स्कूली छात्रों से वादा किया कि वह देश की रक्षा करने वाले सैनिकों को उनके हाथों से बनी राखियां भेजेंगे। एएनआई से बात करते हुए  राजनाथ सिंह ने कहा कि देश के रक्षा मंत्री के रूप में, मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि मैं व्यक्तिगत रूप से तीनों सेना प्रमुखों को ये राखियां भेजूंगा ताकि ये तीनों सेनाओं के जवानों तक पहुंच सकें। उन्होंने कहा कि मैं तीनों सेनाओं के प्रमुखों को ये राखियां मुहैया कराऊंगा, ये सभी जवानों की कलाई तक पहुंचेंगी।

तमिलनाडु बनेरगल स्कूल के प्रिंसिपल डॉ रामा सुब्रमण्यम ने कहा कि बहादुर सैनिकों के लिए कुल 1.5 लाख हाथ से राखियां बनाई गईं। सुब्रमण्यम ने कहा कि बहुत प्यार और कृतज्ञता के साथ, हम अपने देश के बहादुर सैनिकों के लिए 1.5 लाख हाथ से बनी राखियां लाए हैं। 75,000 राखियों पर तिरुक्कुरल मुद्रित है और अन्य 75,000 राखियां हस्तनिर्मित हैं।

इस मौके पर दिल्ली के कुल 21 छात्र अपने शिक्षकों के साथ मौजूद थे। कवि और गीतकार मनोज मुंतशिर और डॉ रमा सुब्रमण्यम ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। रक्षा मंत्री के अनुरोध पर, मुंतशिर ने उनके द्वारा लिखित गीत "तेरी मिट्टी में मिल जावा" गाया। साई पब्लिक स्कूल के छात्र चाहत खन्ना ने कहा कि सैनिक हमारे असली हीरो हैं। खन्ना ने कहा कि स्कूल ने बहुत अच्छी पहल की है, सैनिक हमारे असली हीरो हैं। जो सैनिक घर नहीं जा सकते, हम सभी उन्हें अपना भाई मानते हैं, उन्हें सबसे पहले राखी बांधनी चाहिए। मॉडर्न कॉन्वेंट स्कूल की एक अन्य छात्रा ऐश्वर्या ने कहा कि सैनिक हमारे देश की रक्षा करते हैं, वे देश के लिए योगदान करते हैं, वे हमारी रक्षा करते हैं, इसलिए हमें भी उन्हें अपने हाथों से बनी राखी भेजकर योगदान देना चाहिए।

इस बीच, बीजेपी के नेता तरुण विजय ने कहा कि राखियों पर संदेश 18 भाषाओं में लिखा गया है और इनमें से करीब 25,000 संथाली भाषा में हैं। विजय ने कहा कि ये राखियां हाथ से बनाई जाती हैं, तमिलनाडु में तैयार की जाती हैं और करीब 25,000 संथाली भाषा में तैयार की जाती हैं।

रक्षा बंधन का पर्व भाई-बहनों के बीच प्यार के बंधन का प्रतीक है और 11 अगस्त को मनाया जाएगा। रक्षा बंधन हिंदू वर्ष के सावन महीने की पूर्णिमा को मनाया जाता है। सावन का महीना हिंदुओं के बीच एक शुभ काल माना जाता है और इस महीना हर सोमवार को भगवान शिव की पूजा की जाती है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर