किसानों का समर्थन करने पहुंचा बेटा, तो रिटायर्ड ऑर्मी ऑफिसर ने किया संपत्ति से बेदखल

देश
किशोर जोशी
Updated Mar 25, 2021 | 18:52 IST

हिमाचल प्रदेश के एक रिटायर आर्मी ऑफिसर ने अपने बेटे को संपत्ति से इसलिए बेदखल कर दिया है क्योंकि बेटा किसान आंदोलन का समर्थन करने पहुंचा था।

 Retired Army Officer in Himachal Pradesh Disinherits Son For His Participation In Farmers’ Protests
बेटे ने किया किसानों का समर्थन, तो रिटायर फौजी ने किया बेदखल (प्रतीकात्मक तस्वीर) 

मुख्य बातें

  • हिमाचल प्रदेश से आया है एक अनूठा मामला सामने
  • किसान आंदोलन का समर्थन करने दिल्ली पहुंचे बेटे को पिता ने संपत्ति से किया बेदखल
  • रिटायर आर्मी ऑफिसर अजमेर सिंह बोले- बेटे को पता तक नहीं कि कौन सी फसल कब होती है

नई दिल्ली: शायद यह पूरे देश में अपनी तरह का पहला मामला होगा जहां एक बाप ने अपने बेटे को इसलिए संपत्ति से बेदखल कर दिया है क्योंकि बेटे ने किसान आंदोलन का समर्थन किया था। मामला हिमाचल प्रदेश का है जहां एक सेवानिवृत्त सेना अधिकारी ने अपने इकलौते बेटे को केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के विरोध प्रदर्शन में भाग लेने पर संपत्ति से बेदखल कर दिया।

किसानी भी करते हैं अजमेर सिंह

अजमेर सिंह, जो 2005 में भारतीय सेना से सेवानिवृत्त हुए थे, हिमाचल के जमली गाँव में एक दुकान चलाते हैं और पार्ट टाइम में खेती भी करते हैं। अजमेर सिंह वो शख्स हैं जो केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों का पुरजोर तरीके समर्थन भी कर रहे हैं।  वहीं उनका इकलौता बेटा परमजीत सिंह इन्हीं कानूनों का विरोध कर रहा है और उसने नई दिल्ली में किसानों के विरोध प्रदर्शन में भाग लिया। बेटे का यह विरोध अजमेर सिंह को बिल्कुल पसंद नहीं आया।

बेटे से हैरान
अजमेर सिंह बेटे के इस कृत्य पर हैरान हैं और कहते हैं, “मैंने उसे (परमजीत) दिल्ली के कुछ टीवी चैनलों को साक्षात्कार देने देते हुए देखा। वह ऐसा कैसे कर सकता है? ” अजमेर सिंह ने दिल्ली पुलिस से उनके बेटे को गिरफ्तार करने का भी आग्रह किया है।  सेवानिवृत्त सेना अधिकारी की राय है कि किसान आंदोलन को कुछ राजनीतिक दलों द्वारा निहित स्वार्थों के कारण समर्थन प्राप्त है।

बेटे को पता तक नहीं कि कौन सी फसल कब होती है

आउटलुक की खबर के अनुसार, अपने बेटे पर निशाना साधते हुए, अजमेर ने कहा कि परमजीत को खेती के बारे में कुछ भी नहीं पता है। अपने बेटे को संपत्ति से बेदखल करने के अपने फैसले को सही ठहराते हुए, अजमेर ने कहा कि मेरे बेटे परमजीत सिंह को यह तक पता नहीं होगा कि कब कौन सी फसल लगायी जाती है। वह मुफ्त का खाना खाकर घर पर पड़ा रहता है। केंद्र के तीन नए कानून किसानों के हित में हैं।

बेटे के खिलाफ हो एक्शन

अजमेर सिंह ने साथ ही पुलिस से आग्रह किया है कि किसान आंदोलन में शामिल मेरे देशद्रोही बेटे के खिलाफ कार्रवाई करें। वहींआउटलुक से बात करते हुए परमजीत सिंह ने कहा कि वह किसानों के समर्थन में दिल्ली गया था। परमजीत ने कहा, 'मेरे पिता ने मेरा साक्षात्कार देखा होगा या किसी ने उन्हें इसके बारे में बताया होगा। इसके तुरंत बाद, वह नाराज हो गए और हमारे परिवार के व्हाट्सएप ग्रुप में घोषणा की कि वह मुझे बेदखल कर रहे हैं। लेकिन मुझे नहीं लगता कि वह ऐसा करेंगे।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर