Indians Average Height: भारतीयों की औसत हाइट में आ रही है कमी, जानें क्या है वजह

PLOS के शोध में बताया गया है कि संपन्न समाज में 2005-06 से लेकर 2015-16 तक लोगों की औसत ऊंचाई में इजाफा हुआ है। अगर बात भारत की करें उसी अवधि में कमी दर्ज की गई है। खासतौर से महिलाओं की औसत ऊंचाई कम हुई है।

Decrease in average height of Indians, PLOS research, Increase in average height in affluent societies, Nutritious food,jnu
भारतीयों की औसत हाइट में आई कमी, शोध में महिलाओं और जनजाति समाज का खास जिक्र 
मुख्य बातें
  • समाज के धनी वर्गों की लड़कियों ने ऊंचाई में काफी वृद्धि दिखाई है।
  • शोध ओपन एक्सेस साइंटिफिक जर्नल पीएलओएस में प्रकाशित हुआ है।
  • औसत हाइट में कमी के पीछे पोषणयुक्त भोजन की कमी को बताया जा रहा है जिम्मेदार

वैश्विक स्तर पर लोगों की औसत हाइट में इजाफा हुआ है। लेकिन भारत की तस्वीर इससे अलग है। भारत में औसत हाइट में कमी आई है। इस संबंध में ओपेन एक्सेस साइंटिफिक जर्नल PLOS में शोध भी प्रकाशित किया गया है। इसमें 2005-06 से लेकर 2015-16 के आंकड़ों पर खास अध्ययन किया गया है। शोध के मुताबिक उन 10 वर्षों में जहां संपन्न मुल्कों में औसत कद काठी में इजाफा हुआ है वहीं कम समृद्ध मुल्कों के गिरावट दर्ज की गई है। समाज के कमजोर तबकों के साथ साथ जनजाति समाज के पुरुष और औरतों की कद काठी में तेजी से गिरावट दर्ज की गई है। अगर 1998-99 से इसकी तुलना करें तो तेजी से गिरावट आई है।

संपन्न और गरीब समाज में औसत हाइट अलग अलग
संपन्न समाज में लड़कियों की कद काठी में वृद्धि हुई है लेकिन ऐसा समाज जो आर्थिक तौर पर कम खुशहाल है वहां कमी है, शोध में खासतौर से इसे पोषणयुक्त भोजन के साथ साथ सामाजिक और पर्यावरण के कारणों को जिम्मेदार बताया गया है। जेएनयू के सेंटर ऑफ सोशल मेडिसिन एंड कम्युनिटी हेल्थ के एक अध्ययन में पाया गया कि 1998-99 और 2005 के बीच, मेघालय के अपवाद के साथ जाति, धर्म और राज्य के बावजूद प्रत्येक समूह में लड़कियों की औसत ऊंचाई में वृद्धि हुई है, जिसमें गिरावट दर्ज की गई है। 

भारतीयों की औसत हाइट में कमी
2015-16 के दौरान 15-26 समूह के विपरीत, 26-50 आयु वर्ग में औसत महिला ऊंचाई में मामूली सुधार हुआ। हालांकि, सबसे गरीब तबके की गैर-अधिसूचित जनजातियों और महिलाओं में तेज गिरावट दर्ज की गई।दिलचस्प बात यह है कि एनएफएचएस -4 (2015-16) में 15-25 वर्ष के आयु वर्ग की महिलाएं, जिनकी ऊंचाई एनएफएचएस -3 (2005-06) की महिलाओं के समान आयु वर्ग की तुलना में घट गई है, 90 के दशक के बाद से आती हैं। जन्म सहवास, वह अवधि जब भारत में नवउदारवादी नीतियों ने गति प्राप्त की," रिपोर्ट ने अध्ययन से उद्धृत किया।

अध्ययन में आगे कहा गया है कि शोधकर्ताओं ने एनएफएचएस -3 डेटा का विश्लेषण किया और दिखाया कि औसत 5 वर्षीय अनुसूचित जनजाति (एसटी) की लड़की औसत सामान्य जाति की लड़की से 2 सेमी छोटी थी। इसके अलावा, सामाजिक-आर्थिक स्थिति में अंतर था। एसटी, "सामान्य जाति के बच्चों" के बीच समग्र ऊंचाई के अंतर के लिए जिम्मेदार पाया गया।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर