Rashtravad: Punjab में आंदोलन कर रहे हैं किसान, कहां गायब हैं टिकैत और अन्य किसान नेता?

पंजाब में विधानसभा चुनाव से पहले एक बार फिर किसानों का मुद्दा तूल पकड़ रहा है। पंजाब के कई किसानों ने कांग्रेस सरकार पर वादे पूरा नहीं करने का आरोप लगाया है और धरना दे रहे हैं।

Rashtravad Farmers are on agitation over their problems in Punjab, where are Tikait and other farmer leaders
Punjab में किसानों का आंदोलन, गायब हुए टिकैत सहित अन्य नेता! 
मुख्य बातें
  • पांच साल में भी किसानों से किए चुनावी वादे पूरी नहीं कर सकी पंजाब सरकार
  • खेती और किसानों पर जो कर्ज है, उसका बोझ किसान सहने में असमर्थ है- चन्नी
  • किसान नेताओं की चुप्पी पर उठ रहे हैं सवाल, टिकैत ने नहीं दिया कोई बयान

नई दिल्ली: क्या दिल्ली के बॉर्डर पर एक साल तक किसान आंदोलन की अगुवाई कर रहे किसान नेताओं को अब किसानों से कोई लेना देना नहीं है। अब इन किसान नेताओं का मकसद सिर्फ और सिर्फ सियासत करना है। 15 दिसंबर को राकेश टिकैत जब दिल्ली की सीमा से आंदोलन खत्म कर घर लौट रहे थे तब टिकैत का एक पोस्टर जारी हुआ था। इस पोस्टर में हार गया अभिमान, जीत गया किसान लिखा हुआ था, लेकिन इस पोस्टर में राकेश टिकैत के साथ जयंत चौधरी और अखिलेश यादव की तस्वीर थी जिस पर राकेश टिकैत ने कहा था कि वो राजनीति नहीं करेंगे और कोई भी उनकी इजाजत के बिना पोस्टर का इस्तेमाल न करे। 

कहां हैं टिकैत

अब सवाल है कि राकेश टिकैत हैं कहां अगर वो चुनाव में बिजी नहीं हैं तो फिर किसानों के बीच क्यों नहीं हैं। पांच दिन से किसान ठंड में रेल पटरी पर बैठे हैं राकेश टिकैत और चढ़ूनी का एक बयान तो छोड़िए ट्वीट तक सामने नहीं आया है। चढूनी ने तो अपनी राजनीतिक पार्टी का ऐलान तक कर लिया है अब उन्हें पंजाब में चुनाव लड़ना है। पंजाब में चुनाव हैं तो सीएम चन्नी किसानों की नाराजगी को समझ रहे हैं। इसीलिए तो आज चन्नी के 2 लाख तक किसानों का कर्ज माफ करने का चुनावी ऐलान किया लेकिन सवाल है कि क्या पांच साल पहले किए गए वादे कितने पूरे हुए। ये भी आपको बताएंगे।

पंजाब सरकार के वादे, नहीं हुए पूरे

 किसानों का कहना है कि पंजाब सरकार ने तमाम वादे किए थे, कर्ज माफी की बात की थी। गन्ने का बकाया देने का वादा किया था। लोगों के मकान बनवाने का वादा किया था। पेंशन देने थे। इसलिए हम आज धरने पर बैठे हैं। रोजगार देना इस सरकार का मुख्य काम था। सरकार ने नारा भी दिया था कि घर-घर नौजवानों को नौकरी देंगे और जिन्हें नौकरी नहीं मिलती उन्हें बेरोजगारी भत्ता देंगे। वादे किए हुए बहुत समय हो गया पर एक भी वादा पूरा नहीं हुआ। नशे का कारोबार बहुत बढ़ गया है। पंजाब सरकार बिल्कुल फेल हुई है।

धरना कर रहे किसानों का कहना है, 'जहां तक कर्ज का सवाल है, जो बिना मौसम की बरसात हुई है, जिसमें बहुत नुकसान हुआ। नशे का मुद्दा भी बहुत बड़ा है, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, पेंशन ये तमाम मसले हैं जिन्हें लेकर ये हमारा रेल रोको आंदोलन चल रहा है। और जबतक सरकार हमारी बात नहीं सुनती तब तक हम ये आंदोलन चलाएंगे।' 

पहले आपको दिखाते हैं कि किसानों की मांग क्या थी और पंजाब की कांग्रेस सरकार ने क्या किया है 

  1. किसानों की मांग पूर्ण कर्जमाफी की है जिस पर सरकार ने कहा कि किसानों का 2 लाख रुपये तक कर्ज माफ किया जाएगा ये भी सिर्फ आश्वासन है जो आज ही किया गया। जमीन पर कब उतरेगा कोई नहीं जानता।
  2. किसानों की मांग मारे गए किसानों के परिवारों को मुआवजा देने की थी जिस पर पंजाब सरकार ने 750 में से सिर्फ 400 किसानों को 5 लाख मुआवजा देने की बात कही बाकी का क्या ??
  3. किसानों की मांग थी कि आंदोलन के दौरान उन पर दायर सभी आपराधिक मामले वापस हो, सरकार ने आज ही ऐलान किया है कि 31 दिसंबर तक सभी केस वापस हो जाएंगे 
  4. किसानों ने फसल नुकसान पर 50 हजार प्रति एकड़ मुआवजा देने की मांग की। नवंबर में चन्नी सरकार ने कपास का मुआवजा 12 हजार से बढ़ाकर 17 हजार किया लेकिन किसानों की 50 हजार प्रति एकड़ देने पर कोई सहमति नहीं बनी 
  5. किसानों ने टोल के बड़े हुए दाम वापस लेने की मांग की तो चन्नी सरकार ने खानापूर्ति के लिए टोल प्लाजा रेट न बढ़ाने का निर्देशभर दिया है लेकिन अभी इस पर काम होना बाकी है। 

आत्महत्या करने वाले किसानों के परिवारों को 3 लाख मुआवजा  की मांग पर सरकार ने जिला कृषि अधिकारी को आदेश दिए हैं तो वहीं गन्ना किसानों का बकाया भुगतान और ठेकेदारी कानून वापस करने की मांग पर सरकार का रूख साफ नहीं है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर