Rain : दिल्ली में तेज बारिश से कई जगह जलभराव, इन रूटों से बचकर चलें, देखे वीडियो

Rain havoc : देश के कई राज्यों  में भारी बारिश से बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं। सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र में अब तक 192 लोगों की मौत हो गई। 

Rain wreaks havoc in many parts of Indiam 192 people died in Maharashtra so far
बारिश का कहर  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • भारी बारिश ने महाराष्ट्र में सबसे अधिक तबाही मचाई है।
  • मध्य प्रदेश में मूसलाधार बारिश का अनुमान है।
  • देश की राजधानी दिल्ली में भी आज सुबह बारिश हुई है।

नई दिल्ली : महाराष्ट्र में भारी बारिश की वजह से मरने वालों की संख्या बढ़कर 192 हो गई, जिनमें से अधिकांश रायगढ़ जिले में हुई। जहां 28 और शव बरामद किए गए।  वहीं, उत्तर भारत के कुछ स्थानों पर भारी बारिश दर्ज की गई जिसकी वजह से निचले इलाकों में जल जमाव देखने को मिला। राष्ट्रीय राजधानी में मंगलवार सुबह भारी बारिश के कारण शहर के कई हिस्सों में जलजमाव हो गया। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अनुसार, सफदरजंग वेधशाला में पिछले 24 घंटे में 100 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। धौला कुआं, मथुरा रोड, मोती बाग, विकास मार्ग, रिंग रोड, रोहतक रोड, संगम विहार, किराड़ी और प्रगति मैदान के पास तथा कई अन्य स्थानों पर जलभराव के कारण लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा।

बारिश के कारण सड़कों पर पानी भरने से यातायात भी प्रभावित रहा। आईटीओ, मोती बाग मेट्रो स्टेशन के नीचे, धौला कुआं अंडरपास, प्रगति मैदान के पास, मथुरा रोड, विकास मार्ग, आईपी फ्लाईओवर के पास रिंग रोड, रोहतक रोड सहित कई स्थानों पर यातायात काफी धीमा रहा। 

लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) के अधिकारी ने बताया कि जलभराव की शिकायतों से प्राथमिकता से निपटा जा रहा है। पीडब्ल्यूडी के एक अधिकारी ने कहा, सुबह बारिश तेज थी, इसलिए शहर के कुछ इलाकों में पानी भर गया। हमारे अधिकारी मौके पर मौजूद हैं और हम स्थिति पर करीब से नजर रख रहे हैं।

दिल्ली यातायात पुलिस ने ट्वीट कर लोगों को जलजमाव और उन इलाकों की जानकारी दी जहां इसके कारण यातायात प्रभावित हुआ है।
यातायात पुलिस ने कहा कि जलजमाव के कारण कुतुब मीनार मेट्रो स्टेशन 100 फुटा कैरिजवे की ओर यातायात प्रभावित है। बदरपुर से महरौली की ओर आने वाले यातायात को प्रह्लादपुर पुल के पास जलजमाव के कारण मथुरा रोड की ओर मोड़ दिया गया है।

यातायात पुलिस ने बताया कि ओखला मंडी के पास, तमिल संगम मार्ग से आरके पुरम की ओर और हयात रीजेंसी से सीएनजी पंप के पास आरके पुरम सेक्टर-12 तक यातायात प्रभावित है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि धौला कुआं के पास भी यातायात प्रभावित है।

बारिश के बाद दिल्ली में मौसम सुहाना हो गया। आईएमडी के अनुसार, सफदरजंग वेधशाला में न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री कम 25 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सुबह साढ़े आठ बजे हवा में आर्द्रता का स्तर 100 प्रतिशत रहा।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में तेज बारिश के बाद सड़क पर जलभराव के चलते बस में पानी घुसा। वीडियो एयरपोर्ट रोड से है। 

दिल्ली में बारिश के बाद जलभराव होने की वजह से धौला कुआं पर ट्रैफिक जाम लगा। 

मौसम वैज्ञानिक ने सामान्य रूप से बादल छाए रहने के साथ ही मध्यम बारिश होने और शाम तक 30-40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने, गरज के साथ छींटे पड़ने का अनुमान व्यक्त किया है। वहीं, अधिकतम तापमान के 30 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने का अनुमान है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अनुसार, दक्षिण-पश्चिम मानसून अपने आगमन की सामान्य तिथि से 16 दिन की देरी से, 13 जुलाई को राष्ट्रीय राजधानी पहुंचा। आम तौर पर मानसून 27 जून तक दिल्ली पहुंच जाता है। आठ जुलाई तक मानसून पूरे देश में छा जाता है। पिछले साल दिल्ली में मानसून 25 जून को पहुंचा था और 29 जून तक देशभर में छा गया था।

उधर गुजरात में भी भारी बारिश दर्ज की गई जिसकी वजह से कई स्थानों पर जल जमाव और नुकसान देखने को मिला और राज्य की 56 सड़कें यातायात के लिए बंद करनी पड़ी है। भारत मौसम विभाग (आईएमडी)ने मध्य प्रदेश में मूसलाधार बारिश का पूर्वानुमान लगाते हुए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है।

महाराष्ट्र में करीब 100 लोग अब भी लापता हैं जबकि प्रभावित क्षेत्रों से अभी तक 2,29,074 लोगों को बाहर निकाला जा चुका है। महाराष्ट्र के रायगढ़ जिला प्रशासन ने पिछले सप्ताह भारी बारिश के कारण हुए भूस्खलन से तबाह तालिए गांव में लापता हुए 31 लोगों की तलाश का काम सोमवार को बंद कर दिया। अधिकारी ने बताया कि इस बीच इरविन पुल पर कृष्णा नदी का जलस्तर सुबह 11 बजे 52.11 फुट था, जबकि खतरे का निशान 45 फुट पर है।

एनडीआरएफ की टीम ने कल कोल्हापुर के शिरोली में बाढ़ के पानी में डूबे एक कोविड मरीज को बचाया। एनडीआरएफ के सहायक कमांडेंट विक्रम ने कहा कि हमने एक कोविड मरीज को बचाया, जिसका ऑक्सीजन स्तर 60 तक पहुंच गया था। उसे सुरक्षित अस्पताल ले जाया गया।

जम्मू के विभिन्न इलाकों में भारी बारिश दर्ज की गई जिसकी वजह से कुछ निचले इलाकों में जल जमाव की स्थिति उत्पन्न हो गई और कई घरों में भी पानी घुस गया। वहीं, जम्मू शहर के कलिका नगर इलाके में कुछ नालों के मरम्मत के काम में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के जवानों को लगाया गया है। पुलिस ने लोगों को जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजर्माग से यात्रा करने से बचने की सलाह दी है। आईएमडी ने नवीनतम बुलेटिन में जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा और उत्तरप्रदेश में 29 जुलाई तक बारिश होने की संभावना जताई है।

शिमला स्थित मौसम केंद्र ने लोगों को सलाह दी है कि वे आने वाले दिनों में नदियों या अन्य जलाशयों के करीब नहीं जाए ताकि किसी अनहोनी से बचा जा सके। केंद्र ने आने वाले दिनों में राज्य में भारी बारिश की वजह से अचानक बाढ़, भूस्खलन और पेड़ों के उखड़ने की भी चेतावनी दी है।

राजस्थान और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में रविवार से ही बारिश हो रही है। राजस्थान के झालावाड़ जिले के गगरोन में सबसे अधिक 250 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। पाली जिले के मारवाड़ जंक्शन में 205 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। राजस्थान के बूंदी, चुरू, जयपुर, चितौड़गढ़ और पिलानी में भी क्रमश: 30 मिमी, 14 मिमी, दो मिमी और 0.9 मिमी बारिश दर्ज की गई है।

उत्तर प्रदेश में सोमवार को जारी मौसम विभाग के बुलेटिन के अनुसार राज्य के चित्रकूट , सहारनपुर, मुजफ्फरनगर और झांसी जिले में बारिश की सूचना है। वहीं, हरियाणा और पंजाब के अधिकतर स्थानों पर अधिकतम तापमान सामान्य के करीब है।
 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर