कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में फिर होगी राहुल गांधी की वापसी! चिंतन शिविर का भी आयोजन करेगी पार्टी

देश
किशोर जोशी
Updated Dec 20, 2020 | 08:28 IST

कांग्रेस में चल रही अंदरुनी तकरार को लेकर शनिवार को पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक महत्वपूर्ण बुलाई थी। इस बैठक में असंतुष्ट नेताओं सहित अन्य नेताओं ने भी शिरकत की।

Rahul Gandhi hints comeback as Congress chief amidst solidarity exercise in party
कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में फिर होगी राहुल गांधी की वापसी!  

मुख्य बातें

  • राहुल गांधी एक बार फिर से कर सकते हैं कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में अपनी वापसी
  • शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास पर हुई महत्वपूर्ण बैठक
  • पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं ने राहुल से किया पार्टी की कमान अपने हाथों में लेने का आग्रह

नई दिल्ली : कांग्रेस के अंदर चल रहे असंतोष को समाप्त करने के लिए शनिवार को सोनिया गांधी के आवास पर एक महत्वपूर्ण बैठक हुई और बैठक के बाद जो संकेत मिल रहे हैं उसके मुताबिक राहुल गांधी एक बार फिर से कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में अपनी वापसी कर सकते हैं। बैठक के दौरान सोनिया गांधी ने पार्टी नेताओं से एक परिवार के रूप में काम करने की अपील की। वहीं असंतुष्ट नेताओं के करीबी सूत्रों की मानें तो विवाद का कोई ठोस हल नहीं निकला है और आने वाले दिनों में और बैठकें आयोजित की जाएंगी।

कई नेता रहे बैठक में मौजूद

एक लंबे समय के बाद सोनिया गांधी ने पार्टी के शीर्ष नेताओं की एक बैठक बुलाई थी जिसमें असंतुष्ट गुट के सात नेता भी शामिल हुए। सोनिया गांधी, राहुल गांधी, और प्रियंका गांधी सहित बैठक में कुल 19 नेता मौजूद रहे। सोनिया गांधी ने कहा, 'हम सभी एक परिवार की तरह हैं और सभी को मिलकर पार्टी को मजबूत करना है।' असंतुष्ट नेताओं ने भी इस दौरान अपना पक्ष रखा। सूत्रों के मुताबिक, सोनिया ने इन नेताओं से कहा कि वह उनकी चिंताओं को दूर करेंगी।

राहुल ने दिए वापसी के संकेत

पार्टी के एक शीर्ष सूत्र के मुताबिक, राहुल ने बैठक में कहा कि पार्टी जो भी जिम्मेदारी देगी, वह उसे पूरा करेंगे। हालांकि, जब नेताओं ने उन्हें अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालने के लिए कहा, तो राहुल ने यह कहकर जवाब देते हुए कहा कि बेहतर यह होगा कि इस समय चुनावी प्रक्रिया पर इस मुद्दे को छोड़ देना चाहिए। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एके एंटनी ने कहा कि राहुल को पार्टी का नेतृत्व करना चाहिए जिसका समर्थन अन्य नेताओं ने भी किया। वहीं विवेक तन्खा ने कहा कि उन्हें राहुल के नेतृत्व में विश्वास है।

एएनआई के मुताबिक, राहुल ने कहा कि वह सभी वरिष्ठ नेताओं का सम्मान करते हैं क्योंकि उनमें से कई उनके पिता के दोस्त थे और वे पार्टी के लिए महत्वपूर्ण हैं। एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि बैठक में मौजूद असंतुष्ट नेताओं ने कांग्रेस नेतृत्व पर भरोसा जताया और कहा कि उन्हें पार्टी नेतृत्व की क्षमता और सभी को साथ लेकर चलने की वैचारिक प्रतिबद्धता में विश्वास है।

चिंतन शिविर आयोजित करेगी कांग्रेस

हालांकि, असंतुष्ट नेताओं के करीबी सूत्रों ने दावा किया कि यह बैठक उनकी वजह से हुई और विवाद को सुलझाने के लिए आगे की बैठकें होंगी। सूत्रों के अनुसार सोनिया गांधी ने कहा कि हम जल्द ही बीजेपी को हराने की रणनीति बनाने के लिए एक 'चिंतन शिविर' आयोजित करेंगे और जनता को मोदी सरकार की विफलताओं के बारे में बताएंगे। लगभग पांच घंटे तक चली बैठक के अंत के बाद मीडिया से बात करते हुए, पृथ्वीराज चौहान ने कहा कि पहली बैठक पार्टी का भविष्य तय करने के लिए आयोजित की गई थी, इस तरह की और भी बैठकें होंगी और पंचगनी या शिमला में पार्टी का चिंतन शिविर आयोजित किया जाएगा। पवन बंसल ने बताया कि सभी नेताओं ने कहा कि पार्टी को राहुल गांधी के नेतृत्व की जरूरत है। संगठन के महासचिव के सी वेणुगोपाल और रणदीप सुरजेवाला भी बैठक में मौजूद नहीं थे

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर