पंजाब कांग्रेस की सियासत अब अलग मोड़ पर, अध्यक्ष सुनील जाखड़ का बड़ा बयान

देश
ललित राय
Updated Jun 11, 2021 | 16:28 IST

पंजाब में अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू विवाद में राज्य कांग्रेस के अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने कहा कि अगर उनके हटाने से पार्टी और बेहतर करेगी तो उन्हें हटा दिया जाना चाहिए।

Controversy in Punjab Congress, Punjab Congress President Sunil Jakhar, Captain Amarinder Singh, Navjot Singh Sidhu, Sonia Gandhi, Rahul Gandhi
सुनील जाखड़,पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष 

मुख्य बातें

  • अगर अध्यक्ष पद से हटाने से पार्टी को मिले मजबूती तो पद छोड़ने का तैयार- सुनील जाखड़
  • कांग्रेस आलाकमान द्वारा नियुक्त समिति ने नवजोत सिंह सिद्धू को नजरंदाज ना करने की दी सलाह
  • सिद्धू को पार्टी अध्यक्ष, डिप्टी सीएम या पोल कैंपेन कमेटी का अध्यक्ष बनाने का सुझाव

नई दिल्ली। कैप्टन अमरिंदर सिंह- नवजोत सिंह सिद्धू विवाद (Captain Amrinder singh- Navjot Singh Siddhu dispute) में गुरुवार को कांग्रेस आलाकमान द्वारा नियुक्त समिति (congress high level committee) ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी थी। समिति की रिपोर्ट में जहां एक तरफ कैप्टन की कप्तानी को बरकरार रखने पर बल दिया गया वहीं यह भी सुझाया गया कि नवजोत सिंह सिद्धू को नजरंदाज करना ठीक नहीं होगा। इन सबके बीच पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने कहा कि पार्टी पूरी ताकत के साथ अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव 2020 (punjab assembly election 2020) को लड़ेगी। इसके साथ उन्होंने बड़ी बात यह कही कि अगर किसी दूसरे शख्स को अध्यक्ष बनाए जाने से पार्टी मजबूत होती है तो उन्हें अध्यक्ष पद छोड़ने में किसी तरह की दिक्कत नहीं है। यह होना चाहिए उन्हें हटा दिया जाना चाहिए।

जाखड़ के बयान का मतलब
अब सवाल यह है कि आखिर ऐसा क्या हुआ कि सुनील जाखड़ की तरफ से इस तरह का बयान आया। जानकार कहते हैं कि समिति ने जो सिफारिशें की हैं उससे पूरी तरह ना तो कैप्टन अमरिंदर सिंह सहमति हैं ना ही नवजोत सिंह सिद्धू। बताया जाता है कि सिद्धू चाहते हैं कि पार्टी अध्यक्ष या पोल कैंपेन कमेटी की जिम्मेदारी उन्हें दी जाए। लेकिन कैप्टन अमरिंदर इस तरह की किसी कवायद से इत्तेफाक नहीं रख रहे। 

क्या कहते हैं जानकार
जानकार कहते हैं कि जिस तरह अमरिंदर सरकार में मंत्री परगट सिंह की तरफ से भी कैप्टन अमरिंदर सिंह पर टिप्पणी की थी उसके बाद पंजाब कांग्रेस में झगड़ा बढ़ना तय था। ऐसा कहा जा रहा है कि जानबूझकर इस तरह का बयान दिलवाया गया। लेकिन कुछ जानकार कहते हैं कि अमरिंदर सिंह के साथ उनका संबंध कभी बहुत सहज नहीं रहा। अब जब अगले साल पंजाब में विधानसभा चुनाव होंगे तो कैप्टन अमरिंदर सिंह से खार खाए लोगों को लगता है कि इस समय अगर वो अपनी बात पुख्ता तौर पर नहीं रख पाए तो आगे की राह मुश्किल भरी साबित हो सकती है।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर