मुश्किल-धारदार सवाल पूछें, लेकिन सरकार को जवाब की अनुमति दें, महामारी पर जानकारी देना चाहूंगा: PM मोदी

देश
लव रघुवंशी
Updated Jul 19, 2021 | 11:43 IST

मानसून सत्र आरंभ होने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सभी सांसद सरकार से कठिन और तीखे सवाल पूछें, लेकिन सरकार को भी उनका जवाब देने की अनुमति देनी चाहिए।

narendra modi
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • संसद का मानसून सत्र शुरू हो गया है, ये 13 अगस्त तक चलेगा
  • संसद सत्र की शुरुआत से पहले पीएम मोदी ने मीडिया के सामने आकर बयान दिया
  • उन्होंने कहा कि संसद में महामारी पर सार्थक चर्चा होनी चाहिए

नई दिल्ली: आज से संसद का मानसून सत्र शुरू हो गया है। उससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि मैं सभी सांसदों और सभी दलों से आग्रह करना चाहता हूं कि वे सदनों में सबसे कठिन और तीखे सवाल पूछें, लेकिन सरकार को अनुशासित माहौल में जवाब देने की अनुमति भी देनी चाहिए। यह लोकतंत्र को बढ़ावा देगा, लोगों के विश्वास को मजबूत करेगा और विकास की गति में सुधार करेगा।

पीएम मोदी ने कहा, 'मैंने सभी फ्लोर लीडर्स से आग्रह किया है कि अगर वे कल शाम को कुछ समय निकाल सकते हैं तो मैं उन्हें महामारी के बारे में पूरी जानकारी देना चाहूंगा। हम चाहते हैं कि संसद के अंदर और संसद के बाहर फ्लोर लीडर्स से भी चर्चा हो।'

मोदी ने कहा कि 'बाहु' (बाहों) में टीका दिया जाता है, जो इसे लेता है वह 'बाहुबली' बन जाता है। कोविड के खिलाफ लड़ाई में 40 करोड़ से ज्यादा लोग 'बाहुबली' बन गए हैं। इसे आगे बढ़ाया जा रहा है। महामारी ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है। इसलिए हम चाहते हैं कि इस पर संसद में सार्थक चर्चा हो। हम चाहते हैं कि महामारी पर प्राथमिकता पर चर्चा हो और हमें सभी सांसदों से रचनात्मक सुझाव मिले ताकि कोविड के खिलाफ लड़ाई में एक नया दृष्टिकोण आए और कमियों को ठीक किया जाए ताकि सभी एक साथ लड़ाई में आगे बढ़ सकें। 

हंगामे के बीच लोकसभा में अपने नए मंत्रियों का परिचय कराते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, 'मैंने सोचा था कि संसद में उत्साह होगा क्योंकि इतनी महिलाएं, दलित, आदिवासी मंत्री बन गए हैं। इस बार कृषि और ग्रामीण पृष्ठभूमि के हमारे सहयोगियों, ओबीसी समुदाय को मंत्रिपरिषद में स्थान दिया गया है। अगर देश की महिलाएं, ओबीसी, किसान बेटे मंत्री बनते हैं तो शायद कुछ लोग खुश नहीं होते। इसलिए वे उनका परिचय भी नहीं देते।'

वहीं राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा है कि हमने महंगाई पर नोटिस दिया है, दूसरों ने किसानों के मुद्दों पर दिया है। हम देखेंगे कि बिजनेस एडवाइजरी कमेटी ने क्या मंजूरी दी है। हम वही मुद्दे उठाएंगे। कांग्रेस सांसद प्रताप सिंह बाजवा ने कहा, 'किसानों की समस्या सबसे अहम है। संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान और ईंधन और आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि पर हम प्रस्ताव लाएंगे।'

साथ ही पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की कीमतों में वृद्धि के विरोध में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के सांसद आज साइकिल से संसद पहुंचे।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर