Mann Ki Baat: आजकल, युद्ध केवल सीमाओं पर ही नहीं, देश में भी कई मोर्चों पर लड़ा जाता है- PM मोदी

देश
किशोर जोशी
Updated Jul 26, 2020 | 11:40 IST

पीएम मोदी अपने रेडियो कार्यक्रम मन की बात के जरिए देशवासियों को संबोधित किया। पीएम मोदी ने सबसे पहले कारगिल के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

PM Narendra Modi radio programme Mann Ki Baat Live Updates
मन की बात 

मुख्य बातें

  • पीएम मोदी मन की बात कार्यक्रम के जरिए देशवासियों को किया संबोधित
  • मन की बात कार्यक्रम मे पीएम मोदी ने बाढ़, कोरोना और बोर्ड एग्जाम के रिजल्ट समेत कई मुद्दों को लेकर की बात
  • मन की बात से पहले पीएम मोदी ने कारगिल के वीर शहीदों को दी श्रद्धांजलि

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मन की बात कार्यक्रम के जरिए देशवासियों को संबोधित किया। अपने संबोधन से पहले पीएम मोदी ने कारगिल के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा, 'कारगिल विजय दिवस पर, हम अपने सशस्त्र बलों के साहस और दृढ़ संकल्प को याद करते हैं, जिन्होंने 1999 में हमारे राष्ट्र की लगातार रक्षा की। उनकी वीरता पीढ़ियों को प्रेरित करती है।आज मन की बात के दौरान इसके बारे में अधिक बात करेंगे, जो शीघ्र ही शुरू हो रहा है।'

MANN KI BAAT UPDATES

  1. साथियो, अगली बार, जब हम, ‘मन की बात’ में मिलेंगे, उसके पहले ही, 15 अगस्त भी आने वाला है | इस बार 15 अगस्त भी, अलग परिस्थितियों में होगा - कोरोना महामारी की इस आपदा के बीच होगा।  बिहार और असम में, इस बाढ़ आपदा से प्रभावित सभी लोगों के साथ पूरा देश खड़ा है: पीएम मोदी

  2. मेरे प्यारे देशवासियो, इस समय बारिश का मौसम भी है । पिछली बार भी मैंने आप से कहा था, कि, बरसात में गन्दगी और उनसे होने वाली बीमारी का खतरा बढ़ जाता है, अस्पतालों में भीड़ भी बढ़ जाती है, इसलिए, आप, साफ़-सफ़ाई पर बहुत ज्यादा ध्यान दें। इम्युनिटी बढ़ाने  वाली चीजें, आयुर्वेदिक काढ़ा वगैरह लेते रहें । कोरोना संक्रमण के समय में, हम, अन्य बीमारियों से दूर रहें । हमें, अस्पताल के चक्कर न लगाने पड़ें, इसका पूरा ख्याल रखना होगा- पीएम मोदी

  3. सात समुन्द्र पार, भारत से  हजारों मील दूर एक छोटा सा देश है जिसका नाम है ‘सूरीनाम’आज, सूरीनाम में एक चौथाई से अधिक लोग भारतीय मूल के हैं I क्या आप जानते हैं, वहाँ की आम भाषाओँ में से एक ‘सरनामी’ भी, ‘भोजपुरी’ की ही एक बोली है। सौ साल से भी ज्यादा समय पहले भारत से लोग वहां गए और उसे ही अपना घर बना लिया। आज चौथी और पांचवी पीढ़ी वहां पर है। सूरीनाम में एक चौथाई से अधिक लोग भारतीय मूल के हैं: पीएम मोदी

  4.  हमें अभी हाल ही में जो  बोर्ड एग्जाम के रिजल्ट आये, उसमें भी दिखता है । आज ‘मन की बात’ में हम कुछ ऐसे ही प्रतिभाशाली बेटे-बेटियों से बात करते हैं: पीएम मोदी

  5. साथियो, 7 अगस्त को  नेशनल हैंडलूम डे है। भारत का हैंडलूम, हमारा हैंडीक्राफ्ट, अपने आप में सैकड़ो वर्षों का गौरवमयी इतिहास समेटे हुए है। हम सभी का प्रयास होना चाहिए कि न सिर्फ भारतीय Handloom और Handicraft का ज्यादा-से-ज्यादा उपयोग करें, बल्कि, इसके बारे में, हमें, ज्यादा-से-ज्यादा लोगों को बताना भी चाहिए: पीएम मोदी

  6. सभी देशवासियों को रक्षाबंधन की बहुत-बहुत शुभकामनाएं। साथियो, अभी कुछ दिन बाद रक्षाबंधन का पावन पर्व आ रहा है। मैं, इन दिनों देख रहा हूँ कि कई लोग और संस्थायें इस बार रक्षाबंधन को अलग तरीके से मनाने का अभियान चला रहें हैं। कई लोग इसे वोकल फॉर लोकल से भी जोड़ रहे हैं, और, बात भी सही है: पीएम मोदी

  7. मैं, देश के दो इलाकों के बारे में भी बात करना चाहता हूँ, दोनों ही, एक-दूसरे से सैकड़ों किलोमीटर दूर हैं, और, अपने-अपने तरीक़े से भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कुछ हटकर के काम कर रहे हैं। एक है लद्दाख,  और दूसरा है कच्छ। वहीँ कच्छ का ज़िक्र होते ही रेगिस्तान, दूर-दूर तक रेगिस्तान, कहीं पेड़-पौधा भी नज़र ना आये, ये सब, हमारे सामने आ जाता है। लेह और लद्दाख का नाम सामने आते ही खुबसूरत वादियाँ और ऊँचे-ऊँचे पहाड़ों के दृश्य हमारे सामने आ जाते हैं, ताज़ी हवा के झोंके महसूस होने लगते हैं: पीएम मोदी

  8. मेरे प्यारे देश्वासियो, सही एप्रोच से सकारात्मक एप्रोच से हमेशा आपदा को अवसर में, विपत्ति को विकास में बदलने में, बहुत मदद मिलती है। मधुबनी मास्क! "बिहार में कई महिला स्वंय सहायता समूहों ने मधुबनी  पेंटिंग वाले मास्क बनाना शुरू किया है, और देखते-ही-देखते, ये खूब पॉपुलर हो गये हैं। ये मधुबनी mask एक तरह से अपनी परम्परा का प्रचार तो करते ही हैं, लोगों को, स्वास्थ्य के साथ, रोजगारी भी दे रहे हैं। आप जानते ही हैं पूर्वोत्तर में बांस कितनी बड़ी मात्रा में होता है, अब, इसी बाँस से त्रिपुरा, मणिपुर, असम के कारीगरों ने हाई क्वालिटी की पानी की बोतल और टिफिन बनाना शुरू किया है। छोटे-छोटे स्थानीय उत्पाद से कैसे बड़ी सफलता मिलती है, इसका, एक उदहारण झारखंड से भी मिलता है । झारखंड के बिशुनपुर में इन दिनों 30 से ज्यादा समूह मिलकर के लेमन ग्रास की खेती कर रहे हैं: पीएम मोदी

  9. ऐसे, कितने ही और उदाहरण हैं । पूरे देश में, कोने-कोने में, ऐसी कई प्रेरक घटनाएँ रोज सामने आती हैं, ये सभी, अभिनंदन के अधिकारी हैं । चुनौती आई, लेकिन लोगों ने, उतनी ही ताकत से, उसका सामना भी किया। कश्मीर से एक और प्रेरक घटना है। यहाँ, अनंतनाग में municipal president हैं - श्रीमान मोहम्मद इकबाल, उन्हें, अपने इलाके में sanitization के लिए sprayer की जरूरत थी उन्होंने, जानकारी जुटाई, तो पता चला कि मशीन, दूसरे शहर से लानी पड़ेगी और कीमत भी होगी छ: लाख रूपये, तो, श्रीमान इकबाल जी ने खुद ही प्रयास करके अपने आप sprayer मशीन बना ली और वो भी केवल पचास हज़ार रूपये में- पीएम मोदी
  10. राष्ट्र सर्वोपरी का मंत्र लिए, एकता के सूत्र में बंधे देशवासी, हमारे सैनिकों की ताक़त को कई हज़ार गुणा बढ़ा देते हैं। आजकल, युद्ध, केवल सीमाओं पर ही नहीं लड़े जाते हैं, देश में भी कई मोर्चों पर एक साथ लड़ा जाता है, और, हर एक देशवासी को उसमें अपनी भूमिका तय करनी होती है। कभी-कभी हम इस बात को समझे बिना Social Media पर ऐसी चीजों को बढ़ावा दे देते हैं जो हमारे देश का बहुत नुकसान करती हैं । कभी-कभी जिज्ञासा वश forward करते रहते हैं । पता है गलत है ये - करते रहते हैं- पीएम मोदी
  11. मेरे प्यारे देशवासियो, पिछले कुछ महीनों से पूरे देश ने एकजुट होकर जिस तरह कोरोना से मुकाबला किया है, उसने, अनेक आशंकाओं को गलत साबित कर दिया है। आज, हमारे देश में recovery rate अन्य देशों के मुकाबले बेहतर है, साथ ही, हमारे देश में कोरोना से मृत्यु-दर भी दुनिया के ज्यादातर देशों से काफ़ी कम है- पीएम मोदी
  12. अटल जी ने कहा था, कि, कारगिल युद्ध ने, हमें एक दूसरा मंत्र दिया है - ये मंत्र था, कि, कोई महत्वपूर्ण निर्णय लेने से पहले, हम ये सोचें, कि, क्या हमारा ये कदम, उस सैनिक के सम्मान के अनुरूप है जिसने उन दुर्गम पहाड़ियों में अपने प्राणों की आहुति दी थी। साथियो, कारगिल युद्ध के समय अटल जी ने लालकिले से जो कहा था, वो, आज भी हम सभी के लिए बहुत प्रासंगिक है। अटल जी ने, तब, देश को, गाँधी जी के एक मंत्र की याद दिलायी थी- पीएम मोदी
  13. मैं, साथियो, आपसे एक आग्रह करता हूँ - आज। एक Website है http://gallantryawards.gov.in आप उसको ज़रूर Visit करें। वहां आपको, हमारे वीर पराक्रमी योद्धाओं के बारे में, उनके पराक्रम के बारे में, बहुत सारी जानकारियां प्राप्त होगी, और वो जानकारियां, जब, आप, अपने साथियों के साथ चर्चा करेंगे - उनके लिए भी प्रेरणा का कारण बनेगी। मैं, आज, सभी देशवासियों की तरफ से, हमारे इन वीर जवानों के साथ-साथ, उन वीर माताओं को भी नमन करता हूँ, जिन्होंने, माँ-भारती के सच्चे सपूतों को जन्म दिया: पीएम मोदी
  14. आज, ‘कारगिल विजय दिवस’ है। 21 साल पहले आज के ही दिन कारगिल के युद्ध में हमारी सेना ने भारत की जीत का झंडा फहराया था। साथियो, कारगिल का युद्ध जिन परिस्थितियों में हुआ था, वो, भारत कभी नहीं भूल सकता। पाकिस्तान ने बड़े-बड़े मनसूबे पालकर भारत की भूमि हथियाने और अपने यहाँ चल रहे आन्तरिक कलह से ध्यान भटकाने को लेकर दुस्साहस किया था। भारत तब पाकिस्तान से अच्छे संबंधों के लिए प्रयासरत था। "मैं, देख रहा हूँ कि, आज देश भर में लोग कारगिल विजय को याद कर रहे है । Social Media पर एक hashtag #courageinkargil के साथ लोग अपने वीरों को नमन कर रहें हैं, जो शहीद हुए हैं उन्हें श्रद्धांजलि दे रहें हैं - पीएम मोदी

देश और दुनिया में  कोरोना वायरस पर क्या चल रहा है? पढ़ें कोरोना के लेटेस्ट समाचार. और सभी बड़ी ख़बरों के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें

अगली खबर