Oxygen Expresses:महाराष्ट्र और यूपी में कोरोना मरीजों की जरूरत को पूरा करेगी 'ऑक्सीजन एक्सप्रेस'

देश
रवि वैश्य
Updated Apr 22, 2021 | 17:38 IST

Medical Oxygen for Corona Patients: इंडियन रेलवे कोविड -19 के खिलाफ अपनी लड़ाई के जवाब में ऑक्सीजन एक्सप्रेस चला रहा है। ऑक्सीजन एक्सप्रेस आज रात विशाखापत्तनम से मुंबई के लिए अपनी यात्रा शुरू करने जा रही है। 

Oxygen Train
रेल मंत्रालय ने ऑक्‍सीजन टैंकरों को जल्‍द पहुंचाने के लिए रो-रो सेवा शुरू की है 

मुख्य बातें

  • रेल मंत्रालय ने ऑक्‍सीजन टैंकरों को जल्‍द पहुंचाने के लिए रो-रो सेवा शुरू की है
  • लखनऊ से वाराणसी के बीच एक ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया
  • ग्रीन कॉरिडोरआक्सीजन एक्सप्रेस के तेजी से आवागमन में मदद करेगा

नई दिल्ली: विशाखापत्तनम से LMO से भरे टैंकरों को भारतीय रेलवे की रो-रो सेवा के माध्यम से ले जाया जा रहा है। एक अन्य ऑक्सीजन एक्सप्रेस ने उत्तर प्रदेश में मेडिकल ऑक्सीजन की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए लखनऊ से बोकारो तक वाराणसी के माध्यम से अपनी यात्रा शुरू की।

ट्रेन की आवाजाही के लिए लखनऊ से वाराणसी के बीच एक ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया। 270 किमी की दूरी 62.35 किमी प्रति घंटे की औसत गति के साथ 4 घंटे 20 मिनट में ट्रेन द्वारा कवर की गई।

62.35 किमी प्रति घंटे की औसत गति के साथ 4 घंटा 20 मिनट में 270 किमी की दूरी तय करने के लिए लखनऊ से वाराणसी तक एक ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया है,ग्रीन कॉरिडोरआक्सीजन एक्सप्रेस के तेजी से आवागमन में मदद करेगा।  रेल मंत्रालय के अनुसार आने वाले दिनों में इस तरह की कई और ट्रेनों के संचालन की तैयारी की जा रही है।

पहली ऑक्‍सीजन एक्‍सप्रेस महाराष्‍ट्र में शुरू की जा चुकी है

रेल मंत्रालय ने ऑक्‍सीजन टैंकरों को जल्‍द पहुंचाने के लिए रो-रो सेवा शुरू की है, इसमें ट्रेनों में टैंकरों को लादकर एक स्‍थान से दूसरे स्‍थान तक पहुंचाया जाता है, सड़क मार्ग से जो ऑक्सीजन टैंकर 24 घंटे में पहुंचते हैं, उन्हें रो-रो सेवा के जरिये सिर्फ 12 घंटों में गंतव्य स्थान तक पहुंचाया जा सकता है, सबसे पहली ऑक्‍सीजन एक्‍सप्रेस यानी रो-रो सेवा महाराष्‍ट्र में शुरू की जा चुकी है।

ट्रेनों के माध्यम से ऑक्सीजन का ट्रांस्पोर्टेशन आसान है

ट्रेनों के माध्यम से ऑक्सीजन का परिवहन सड़क परिवहन की तुलना में लंबी दूरी पर तेज है। ट्रेनें एक दिन में 24 घंटे चल सकती हैं लेकिन ट्रक ड्राइवरों को हाल्ट आदि लेने की आवश्यकता होती है। यह ध्यान दिया जा सकता है कि फ्लैट वैगनों से / में टैंकरों को लोड करने / उतारने की सुविधा के लिए एक रैंप की आवश्यकता होती है।इसके अलावा, कुछ स्थानों पर रोड ओवर ब्रिज (आरओबी) और ओवर हेड उपकरण (ओएचई) की ऊंचाई पर प्रतिबंध के कारण, सड़क के टैंकरों की विभिन्न विशिष्टताओं में से, 3320 मिमी की ऊंचाई वाले सड़क टैंकर टी 1618 का मॉडल संभव पाया गया।

1290 मिमी की ऊंचाई के साथ फ्लैट वैगनों (DBKM) पर रखा जा सकता है। रेलवे ने आवश्यक वस्तुओं का परिवहन किया और पिछले साल लॉकडाउन के दौरान भी आपूर्ति श्रृंखला को बरकरार रखा और आपात स्थिति में राष्ट्र की सेवा जारी रखी थी।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर