La lina: क्या है ला नीना और क्यों इस बार पड़ सकती है खूब सर्दी, 3 डिग्री तक गिर जाएगा तापमान

La lina: मौसम को लेकर पूर्वानुमान है कि इस बार सर्द मौसम में उत्तर भारत में तीन डिग्री सेल्सियस तक तापमान गिर सकता है क्योंकि ला नीना अपने साथ प्रशांत महासागर से ठंडी हवाएं लाता है।

weather
फाइल फोटो 
मुख्य बातें
  • ला नीना से पूरे उत्तर भारत में तापमान में गिरावट हो सकती है
  • उत्तर भारत तापमान 3 डिग्री सेल्सियस तक गिर सकता है
  • हाल ही में कई जगह ला नीना का असर देखा गया

North India Weather: प्रशांत महासागर में उभर रही ला नीना (La Nina) के कारण उत्तर भारत में अत्यंत ठंड/सर्दी पड़ सकती है। ला नीना मौसम पैटर्न उत्तरी गोलार्ध में सर्द सर्दियों का कारण बनता है। इससे भारत के कुछ हिस्सों में अत्यधिक ठंडी सर्दियां होने की संभावना है। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार, जनवरी और फरवरी में कुछ उत्तरी राज्य विशेष रूप से ठंडे होंगे, जहां तापमान ठीक होने से पहले 3 डिग्री सेल्सियस तक गिर जाएगा।

पैदा हो सकता है ऊर्जा संकट

रिपोर्ट में इस बात पर भी प्रकाश डाला गया है कि कड़ाके की ठंड के कारण कई एशियाई देशों में ऊर्जा संकट भी पैदा हो सकता है, जिसमें चीन को सबसे अधिक परेशानी का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि वह शीर्ष ऊर्जा उपभोक्ता है। यह ऐसे समय में हो रहा है जब डीजल और पेट्रोल के दाम उपभोक्ताओं की जेब में असर डाल रहे हैं। हालांकि, अन्य देशों के विपरीत भारत में ऊर्जा की खपत कम होगी क्योंकि एयर कंडीशनर के उपयोग में काफी कमी आएगी।

हिमाचल प्रदेश में गिर गया तापमान

ला नीना का प्रभाव भारत में पिछले कुछ हफ्तों में बेहद बदले मौसम की स्थिति के रूप में पहले ही देखा जा चुका है। भारी वर्षा और मानसून की देरी से वापसी दोनों ही ला नीना का संकेत हैं, जो प्रशांत जल के ठंडा होने से जुड़ा है और आमतौर पर अच्छी वर्षा गतिविधि का परिणाम होता है। रिपोर्टों के अनुसार, रविवार को हुई बर्फबारी के कारण हिमाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों जैसे लाहौल-स्पीति और किन्नौर में तापमान पहले ही गिर गया है। शिमला में मौसम विभाग के आंकड़ों के अनुसार, उत्तरी राज्य में सर्दी जल्दी आ गई है और लाहौल-स्पीति में केलांग में तापमान शून्य से 5 डिग्री सेल्सियस नीचे रिकॉर्ड किया गया है।

उत्तराखंड-केरल में हुई भारी बारिश

हाल ही में देश के कई हिस्सों में असामान्य भारी बारिश देखी गई है। उत्तर में पहाड़ी राज्य उत्तराखंड और विशेष रूप से दक्षिण में तटीय केरल में खूब बारिश हुई। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार, देश में 1 से 21 अक्टूबर के बीच सामान्य से 41 प्रतिशत अधिक वर्षा हुई थी, अकेले उत्तराखंड में सामान्य से पांच गुना अधिक वर्षा दर्ज की गई थी। आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि अक्टूबर में दो कम दबाव वाले क्षेत्रों का निर्माण हुआ- चक्रवाती परिसंचरण वर्षा और तेज हवाएं लाते हैं। उत्तराखंड में पश्चिमी विक्षोभ और निम्न दबाव के क्षेत्र के बीच परस्पर क्रिया के परिणामस्वरूप इस सप्ताह भारी बारिश हुई।

पिछले साल, उत्तर प्रदेश और पंजाब सहित उत्तर भारत के कई स्थानों पर शीत लहर की स्थिति और घने कोहरे के साथ न्यूनतम तापमान पांच डिग्री सेल्सियस से नीचे दर्ज किया गया था। दिल्ली में भी नवंबर में सामान्य से अधिक ठंड देखी गई और औसत न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहा। पिछले साल औसत न्यूनतम तापमान 12.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।

क्या है ला लीना

प्रशांत महासागर में सामान्य परिस्थितियों में, ट्रेड हवाएं भूमध्य रेखा के साथ पश्चिम से चलती हैं, दक्षिण अमेरिका से गर्म पानी को एशिया की ओर ले जाती हैं और उस गर्म पानी को बदलने के लिए गहराई से ठंडा पानी ऊपर उठता है। ला नीना एल नीनो से ठीक विपरीत प्रभाव रखती है। पश्चिमी प्रशांत महासागर में एल नीनो द्वारा पैदा किए गये सूखे की स्थिति को ला नीना बदल देती है तथा आर्द्र मौसम को जन्म देती है। ला नीना के आविर्भाव के साथ पश्चिमी प्रशांत महासागर के ऊष्ण कटिबंधीय भाग में तापमान में वृद्धि होने से वाष्पीकरण अधिक होने से इण्डोनेशिया एवं समीपवर्ती भागों में सामान्य से अधिक वर्षा होती है। 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर