कोरोना मरीजों के इलाज में कारगर है Molnupiravir! हेटेरो लैब ने मांगी आपात इस्तेमाल की इजाजत  

हेटेरो लैब (Hetero Labs) ने कहा है कि कोविड-19 की दवा मोलनूपिरावीर के लेने पर कोरोना के हल्के लक्षण वाले मरीज जल्दी ठीक हुए। लैब ने इसके आपात इस्तेमाल की इजाजत मांगी है।

 molnupiravir speed up recovery in Corona mild cases: Hetero Labs
कोरोना की एक और दवा आई सामने। -प्रतीकात्मक तस्वीर  |  तस्वीर साभार: PTI

मुख्य बातें

  • हेटेरो लैब का कहना है कि कोरोना मरीजों पर कारगर है मोलनूपिरावीर दवा
  • लैब ने स्थानीय नियामक से इस एंटी वायरल दवा के आपात इस्तेमाल की इजाजत मांगी
  • कोरोना के हल्के लक्षण वाले मरीजों को दी जाएगी मर्क कंपनी की यह दवा

बेंगलुरु : भारत के हेटेरो लैब ने शुक्रवार को कहा कि उसने मर्क की कोविड-19 दवा मोलनूपिरावीर के आपात इस्तेमाल की इजाजत स्थानीय नियामक से मांगी है। लैब का कहना है कि इस दवा के लंबे समय तक चले परीक्षण में यह बात सामने आई है कि इसे लेने पर मरीज को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत कम पड़ी और कोरोना के हल्के लक्षण वाले मरीज जल्दी ठीक हुए। मोलनूपिरावीर एक एंटीवायरल ड्रग है जिसे मर्क एंड कंपनी रिजबैक बायोथेरापेटिक्स बना रही है। इस दवा का इस्तेमाल कोरोना के ऐसे मरीजों के उपचार में किया जाएगा, जिन्हें अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत नहीं समझी जाएगी।  

कंपनी ने भारतीय दवा कंपनियों के साथ किया है करार
समाचार एजेंसी रायटर के मुताबिक अपनी कोरोना दवा के उत्पादन बढ़ाने एवं इसके परीक्षण के लिए मर्क ने मार्च एवं अप्रैल के बीच सिपला एवं डॉ. रेड्डी की प्रयोगशाला सहित भारत की कई दवा कंपनियों के साथ बात की। कंपनी कोरोना महामारी की दूसरी लहर में अपनी दवा की उपलब्धता बनाने के लिए अपने प्रयास तेज किए। मर्क ने गत अप्रैल में कहा कि इन इस सहभागिता ने कंपनियों को मोलनूपिरावीर बनाने एवं उसकी आपूर्ति भारत में करने का लाइसेंस दिया। स्थानीय नियामकों से दवा के आपात इस्तेमाल की मंजूरी से 100 से ज्यादा निम्न एवं मध्यम आय वाले देशों में इस दवा की आपूर्ति का रास्ता साफ हुआ। 

हल्के लक्षण वाले मरीजों के लिए है यह दवा
हेटेरो ने कहा कि मोलनूपिरावीर का अंतिम चरण का परीक्षण भारत में कोविड-19 के लिए समर्पित अस्पतालों में किया गया। लैब का कहना इस अंतिम चरण के परीक्षण में कोविड-19 के हल्के लक्षण वाले मरीजों में दवा की एफिकेसी एवं सुरक्षा को जांचा-परखा गया। परीक्षण का डाटा बताता है कि एंटीवायरल ड्रग मरीजों पर असरदार साबित हुई। यह पाया गया कि जिन मरीजों को यह दवा दी गई उन्हें अस्पताल में दाखिल होने की जरूरत कम पड़ी और वे संक्रमण से ठीक भी जल्दी हुए। 

देश में तीसरी लहर की है आशंका
भारत में कोरोना महामारी की दूसरी लहर कमजोर पड़ गई है। अप्रैल और मई के महीनों में इस महामारी ने देश में भीषण रूप धारण कर लिया। हालांकि, स्वास्थ्य विशेषज्ञ अब तीसरी लहर की आशंका जता रहे हैं। 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times Now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर