सेना के जवानों की बदलेगी लाइफ, मिलेगा बड़ा और सुसज्जित घर, होंगी आधुनिक सुविधाएं, रक्षा मंत्री ने दी मंजूरी

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आवास के नए पैमाने को मंजूरी दे दी है। अब सैन्य अधिकारियों और जवानों को आधुनिक सुविधाओं से लैस बड़ा और सुसज्जित घर मिलेगा। इस आवास परिसर में मल्टीलेवल पार्किंग समेत वर्तमान समय की जरुरतों के हिसाब से सभी सुविधाएं मिलेंगी।

Military officers, soldiers will get bigger and furnished houses, to have modern facilities, Defense Minister Rajnath Singh approved
सेना के जवानों के लिए आधुनिक सुविधाओं वाला आवासीय परिसर तैयार किया जाएगा।  |  तस्वीर साभार: ANI

नई दिल्ली : रक्षा मंत्रालय की मंजूरी के बाद सैन्य अधिकारियों और जवानों को बेहतर और बड़े सुसज्जित घर मिलेंगे जो लेटेस्ट राष्ट्रीय मानकों के साथ बनाए जाएंगे। भारतीय सेना के अधिकारियों ने एएनआई को बताया कि इस सप्ताह की शुरुआत में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की मंजूरी के साथ, सैन्य कर्मियों के लिए नई आवास परियोजनाओं में मल्टीलेवल पार्किंग सुविधाएं, बहुउद्देश्यीय इनडोर कोर्ट, घरों में 10 प्रतिशत अधिक प्लिंथ एरिया और आवासों में अधिक बिजली प्वाइंट प्रदान किए जाएंगे। यह वर्तमान समय की जरुरतों को पूरा करेंगे।

उन्होंने कहा कि आवास के नए पैमानों को 13 साल बाद मंजूरी मिली है क्योंकि पिछली समीक्षा 2009 में ही की गई थी और तब से सभी कर्मियों और उनके परिवारों के लाइफस्टाइल में काफी बदलाव आया है। अधिकारियों ने कहा कि सरकार द्वारा स्वीकृत आवास के नए पैमानों से निश्चित रूप से सैन्य कर्मियों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार होगा जब इसे लागू किया जाएगा।

नए पैमानों के तहत, सैन्य इंजीनियरिंग सेवाएं, जो तीनों रक्षा बलों की निर्माण शाखा है और इंजीनियर-इन-चीफ की अध्यक्षता में भारतीय तट रक्षक, पवन, सोलर, जियोथर्मल, ज्वार और बिजली की जरूरतों को पूरा करने के लिए भूतापीय ऊर्जा जैसे नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों का भी उपयोग करेंगे। सैन्य कर्मियों के आवासीय क्षेत्रों को अतिरिक्त बास्केटबॉल और वॉलीबॉल कोर्ट के साथ नए इनडोर खेल परिसर भी मिलेंगे। मेस (MES) अब मॉड्यूलर किचन के साथ घर भी बनाएगी और सभी विवाहित आवासों में लगेज स्टोरेज स्पेस का भी विस्तार किया जाएगा। दीवारों, छत और फर्श की फिनिशिंग भी अधिक सौंदर्यपूर्ण ढंग से की जाएगी। 

मिलिट्री इंजीनियर सर्विसेज (MES) भारतीय सेना के कोर ऑफ इंजीनियर्स के स्तंभों में से एक है जो सशस्त्र बलों और रक्षा मंत्रालय (एमओडी) के संबद्ध संगठनों को रियर लाइन इंजीनियरिंग सहायता प्रदान करता है। MES सीमावर्ती क्षेत्रों सहित देश भर में सैन्य स्टेशनों/छावनियों जैसे आवासीय और कार्यालय भवनों, अस्पतालों, सड़कों, रनवे और समुद्री संरचनाओं के लिए विविध निर्माण गतिविधियों को अंजाम देता है। पारंपरिक भवनों के अलावा, MES जटिल प्रयोगशालाओं, कारखानों, कार्यशालाओं, हैंगर, गोला-बारूद भंडारण सुविधाओं, डॉकयार्ड, जेटी / घाटों और अन्य परिसरों / विशेष संरचनाओं के निर्माण में भी शामिल है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर