अमर्त्य सेन को ममता बनर्जी का खत, विश्व भारती विश्वविद्यालय से क्या है कनेक्शन

विश्व भारती विश्वविद्यालय, अमर्त्य सेन और ममता बनर्जी के खत में क्या रिश्ता है इसके बारे में यहां विस्तार से जानकारी दी जा रही है।

mamta banerjee: अमर्त्य सेन को ममता बनर्जी का खत, विश्व भारती विश्वविद्यालय से क्या है कनेक्शन
ममता बनर्जी, सीएम, पश्चिम बंगाल 

मुख्य बातें

  • ममता बनर्जी ने खत लिखकर अमर्त्य सेन को विश्व भारतीय विश्वविद्यालय के मुद्दे पर समर्थन दिया
  • ममता बनर्जी ने कहा कि बीजेपी ने एक और बंगाली का अपमान किया है।
  • विश्व भारती विश्वविद्यालय की तरफ से अभी अमर्त्य सेन के मुद्दे पर सफाई नहीं आई है।

कोलकाता। नोबेल पुरस्कार विजेता अमर्त्य सेन के इर्द-गिर्द  भूमि विवाद की कड़ी निंदा करने के बाद पश्चिम बंगाल की सीएम ममत बनर्जी ने उन्हें समर्थन का भरोसा दिया और उस संबंध में खत भी लिखा है। इसके साथ ही ममता ने कहा कि जिस तरह अमर्त्य सेन को भू माफिया या अतिक्रमणकारी के तौर पर पेश किया जा रहा है वो बीजेपी द्वारा एक बंगाली के बाद दूसरे बंगाली का अपमान है। प्रतिष्ठित विश्व-भारती विश्वविद्यालय के अधिकारियों द्वारा अमर्त्य सेन सहित विश्वविद्यालय की संपत्ति के कथित अतिक्रमणकारियों के नामों को सूचीबद्ध करने के लिए तैयार किए गए एक कथित नोट के बाद विवाद सामने आया।

ममता बनर्जी ने सेन के जरिए बीजेपी पर साधा निशाना
विश्व भारती एक केंद्रीय विश्वविद्यालय है और पीएम  नरेंद्र मोदी कुलपति हैं। टीएमसी का कहना है कि बीजेपी को बंगाल के बारे में जानकारी नहीं है, आज बीजेपी के नेता एक एक कर हर बंगाली को अपमानित करने का मौका नहीं छोड़ रहे हैं। एक तरह से षड़यंत्र के जरिए बीजेपी बंगाल की तस्वीर गलत ढंग से पेश कर रही है।

विश्वविद्यालय ने साध रखी है चुप्पी
हालांकि विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने एक चुप्पी बनाए रखी है, लेकिन देर से ही सही, ऐसे कई उदाहरण सामने आए हैं जहां विश्व भारती के कुलपति बिद्युत चक्रवर्ती ने ममता बनर्जी की राज्य सरकार के प्रति सौहार्दपूर्ण दृष्टिकोण अपनाया है, जिसमें सदियों पुराना मेला 'पौष मेला' भी शामिल है।कथित सूची में 70 से अधिक नाम शामिल हैं, जिनमें कथित रूप से अतिक्रमण या अवैध रूप से कब्जे वाले विश्वविद्यालय की संपत्ति शामिल है। विश्वविद्यालय के सूत्रों का कहना है कि सेन का घर, 'प्राची' अपने मृत पिता के लिए पट्टे पर दी गई संपत्ति पर है, लेकिन सेन के वर्तमान घर का विस्तार 13 डेसिमल तक है।

अमर्त्य सेन का अपमान, बंगाल का अपमान
ममता बनर्जी ने गुरुवार को बीजेपी पर सवाल उठाते कहा था कि वो अमर्त्य सेन का सम्मान करती हैं. पूरा देश और दुनिया करती है। बंगाल में सभी को उस पर गर्व है। वह एक नोबेल पुरस्कार विजेता हैं। रवींद्रनाथ टैगोर, अमर्त्य सेन, अभिजीत विनायक बनर्जी और मदर टेरेसा हमारे दिग्गज हैं। क्या आप वास्तव में मानते हैं कि अमर्त्य सेन को शांतिनिकेतन में भूमि का अतिक्रमण करना होगा?  

इसी भावना को रखते हुए ममता बनर्जी ने दोहराया है कि सेन के खिलाफ आरोप राज्य का अपमान है। उसने तत्काल माफी की मांग की है और अगर विश्व भारती माफी नहीं मांगती है, तो उसने नागरिक समाज से आग्रह किया है कि वह उन्हें ऐसा करने के लिए मजबूर करने के लिए विरोध प्रदर्शन करे, एक बार फिर बंगाली गौरव का उद्घोष करें। दिलचस्प रूप से सेन को लिखे अपने पत्र में, सुश्री बनर्जी ने थोड़ा बंगाली स्पर्श छोड़ दिया, बंगाली में ठेठ बंगाली आभार के साथ उनके नाम पर हस्ताक्षर किए।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर