भगवान हनुमान की दुनिया में सबसे ऊंची प्रतिमा कर्नाटक में होगी स्थापित, 1200 करोड़ रुपए होंगे खर्च

भगवान राम के सबसे बड़े भक्त हनुमान की विशालकाय मूर्ति कर्नाटक के बेल्लारी में स्थापित की जाएगी। यह  215 मीटर ऊंची होगी। 

Lord Hanuman's tallest statue in the world to be made in Karnataka; 1200 crore rupees to be spent
भगवान हनुमान की विशालकाय प्रतिमा 

भगवान राम के सबसे बड़े भक्त हनुमान की दुनिया में सबसे ऊंची प्रतिमा कर्नाटक में स्थापित की जाएगी। इसकी ऊंचाई 215 मीटर होगी। यह प्रतिमा 1200 करोड़ रुपए की लागत से बनेगी। हनुमत जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष स्वामी गोविंद आनंद सरस्वती ने आज अयोध्या में यह घोषणा की। स्वामी सरस्वती, राम जन्मभूमि के पूर्व मुख्य पुजारी, स्वामी सतेंद्र दास से मिलने आए थे।

उन्होंने कहा कि भगवान हनुमान की मूर्ति दुनिया भर में सबसे ऊंची प्रतिमा होगी और उनका जन्म स्थान पंपापुर किष्किंधा (कर्नाटक में बेल्लारी जिला) में बनाया जाएगा। स्वामी सरस्वती ने कहा कि इस प्रतिमा के लिए धन राष्ट्रव्यापी रथ यात्रा के माध्यम से एकत्र किया जाएगा।  उन्होंने राम जन्मभूमि के लिए 80 फीट के रथ का भी वादा किया जो अगले दो वर्षों में 2 करोड़ की लागत से तैयार किया जाएगा।

इस महीने की शुरुआत में, श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट ने डिजाइन के लिए लोगों से आइडिया मांगे थे, जिसमें कहा गया कि वह राम मंदिर के निर्माण के लिए अंतिम मास्टरप्लान में शामिल किया जा सकता है। नोटिस जो ट्रस्ट द्वारा दिया गया था। उसमें कहा गया कि आइडिया 'धार्मिक यात्रा, अनुष्ठान, संस्कृति और विज्ञान' जैसे प्रोजेक्ट के प्रमुख तत्वों से जुड़ा होना चाहिए।

ट्रस्ट के एक विज्ञापन के मुताबिक ये (डिजाइन) वास्तु या स्थापत्य वेद पर आधारित होना चाहिए, जिसे भारतीय वास्तुकला विज्ञान के रूप में जाना जाता है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, ट्रस्ट ने गुरुकुल के लिए भी विचार मांगे हैं, जिसमें छात्रों और आचार्यों के लिए आवासीय सुविधाएं होने की उम्मीद है।

गौर हो कि उत्तर प्रदेश के मांझा बरेठा गांव में, अयोध्या में राम मंदिर के लिए 251 मीटर ऊंची प्रतिमा भी बनाई जा रही है। यह चीन में गौतम बौद्ध की मूर्ति से ऊंची दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा होगी। प्रतिमा सरयू नदी के किनारे बनाई जा रही है।

निर्मित 251 मीटर ऊंचा 50 मीटर ऊंचे आधार पर खड़ा होगा और 301 मीटर ऊंचा होगा। आधार एक संग्रहालय होगा, जहां भगवान विष्णु के विभिन्न अवतारों को प्रदर्शित किया जाएगा। एक डिजिटल संग्रहालय का भी निर्माण किया जाएगा।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर