स्वामी चिन्मयानंद पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली छात्रा भी हुई गिरफ्तार,14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

देश
Updated Sep 25, 2019 | 11:55 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Swami Chinmayanand: पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर आरोप लगाने वाली छात्रा को गिरफ्तार कर लिया गया है, पुलिस ने छात्रा को उसके घर से गिरफ्तार किया है, छात्रा को मेडिकल के लिए ले जाया गया है। 

Chinmayanand
चिन्मयानंद पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली छात्रा को गिरफ्तार कर लिया गया है 

मुख्य बातें

  • स्वामी चिन्मयानंद पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली छात्रा हुई गिरफ्तार
  • उत्तर प्रदेश पुलिस की एसआईटी ने बुधवार की सुबह उसके घर से गिरफ्तार किया
  • एसआईटी ने कथित तौर पर चिन्म्यानंद से पैसे उगाहने की कोशिश करने के आरोप में गिरफ्तार किया है

नई दिल्ली: स्वामी चिन्मयानंद मामले में बड़ा डेवलपमेंट सामने आया है, चिन्मयानंद ( Swami Chinmayanand) पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली कानून की छात्रा (Law Student) को गिरफ्तार कर लिया गया है। उत्तर प्रदेश पुलिस की (SIT) एसआईटी ने बुधवार की सुबह उसके घर से गिरफ्तार किया छात्रा का मेडिकल कराया जाएगा उसके लिए उसे ले जाया गया है।

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ने इस बारे में बताया कि स्वामी चिन्मयानंद पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली कानून की छात्रा को एसआईटी ने कथित तौर पर उनसे पैसे उगाहने की कोशिश करने के आरोप में गिरफ्तार किया है।

 

 

 

बताया जा रहा है कि छात्रा पर चिन्मयानंद से फिरौती मांगने का आरोप था इस घटना की एक वीडियो भी सामने आने की बात कही जा रही थी, जिसके बाद छात्रा और उसके साथियों पर पुलिस ने फिरौती मांगने मामला दर्ज किया था, इस मामले में करीब 5 करोड़ की फिरौती मांगने की बात सामने आ रही है। 

 

 

इससे पहले मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट अदालत ने चिन्मयानंद  की जमानत की अर्जी नामंजूर कर दी थी। चिन्मयानंद को विशेष जांच दल ने विधि की एक छात्रा द्वारा बलात्कार का आरोप लगाए जाने के बाद गिरफ्तार किया था। उनके वकील ने बताया कि चिन्मयानंद की जमानत याचिका को अदालत ने यह कहते हुए नामंजूर कर दिया कि यह अर्जी सत्र अदालत में लगाई जानी चाहिए।

रंगदारी मांगने के मामले में तीन आरोपियों की जमानत याचिका भी नामंजूर
कोर्ट ने भाजपा नेता से रंगदारी मांगने के मामले में तीन आरोपियों-संजय, सचिन और विक्रम की जमानत याचिका भी नामंजूर कर दी। एसआईटी सूत्रों ने बताया कि विशेष जांच दल ने तीनों युवकों में से दो को 95 घंटे के लिए रिमांड पर लिया था। एसआईटी इन दोनों युवकों को रंगदारी की मांग में इस्तेमाल होने वाले मोबाइल फोन की बरामदगी वाली जगह पर ले जाना चाहती थी।

दोनों युवकों ने एसआईटी को बताया कि उन्होंने फोन को राजस्थान में मेहंदीपुर बालाजी के पास फेंक दिया था। इसी फोन से रंगदारी की मांग की गई थी। सूत्रों ने बताया की एसआईटी ने ओम सिंह के मोबाइल फोन की भी पड़ताल की जिस पर रंगदारी की रकम मांगने के लिए मैसेज दिया गया था। चिन्मयानंद को सोमवार को लखनऊ के एसजीपीजीआई में एंजियोग्राफी के लिए भर्ती कराया गया था।

छात्रा ने चिन्मयानंद पर कथित तौर पर रेप का आरोप लगाया था
गौरतलब है कि 20 सितंबर को यौन शोषण के आरोप में विशेष जांच दल (SIT) और यूपी पुलिस ने ने पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद को गिरफ्तार कर लिया था। कानून की छात्रा ने चिन्मयानंद पर कथित तौर पर रेप का आरोप लगाया था। चिन्मयानंद की गिरफ्तारी शांहजहापुर से हुई थी।चिन्मयानंद तीन बार भाजपा के टिकट पर सांसद रह चुके हैं और अटल बिहारी बाजपेयी की सरकार में गृह राज्य मंत्री रह चुके हैं।

दरअसल कानून की पढ़ाई कर रही छात्रा ने कुछ दिन पहले ही एसआईटी को अपने आरोपों को पुख्ता करने के लिए सबूत के तौर पर 43 वीडियो वाली एक पेन ड्राइव दी थी। एसआईटी महिला को चिन्मयानंद के बेडरूम में ले गई थी और सबूत एकत्र किए थे।

वहीं इससे पहले एसआईटी सूत्रों ने बताया था कि चिन्मयानंद मामले में पांच करोड़ रूपये की रंगदारी मांगने वाले आरोपी संजय, विक्रम और सचिन के अलावा ‘मिस ए’ (पीड़िता) भी है लेकिन उच्चतम न्यायालय के निर्देशों के तहत पीड़िता का नाम बताया नहीं जा सकता।

स्वामी चिन्मयानंद को उत्तर प्रदेश पुलिस के विशेष जांच दल (एसआईटी) ने शुक्रवार को शाहजहांपुर स्थित उनके आवास से गिरफ्तार किया था। इससे कुछ सप्ताह पहले उनके एक कॉलेज की विधि की एक छात्रा ने उन पर बलात्कार के आरोप लगाये थे।


 

 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर