कोविड-19 : कोरोना वायरस से बचाव के लिए आयुष मंत्रालय ने दी ये गुणकारी सलाह

Tips to protect against coronavirus in Hindi: आयुष मंत्रालय ने कोरोना वायरस के मद्देनजर रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए कुछ गाइडलाइंस जारी की है।

 Kovid-19: Ayush Mantralaya Advice to protect against coronavirus
कोरोना से भारत में अबतक 35 लोगों की मौत हो चुकी है।   |  तस्वीर साभार: AP

मुख्य बातें

  • कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में 40 हजार से ज्यादा लोगों की अबतक हुई है मौत
  • देश में कोरोना से अबतक 35 लोगों की हो चुकी है मौत, 1400 से ज्यादा संक्रमित
  • आयुष मंत्रालय ने कोरोना वायरस के मद्देनजर रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए

नई दिल्ली: कोरोना के कहर से पूरी दुनिया परेशान है। इस महामारी से अमेरिका,इटली,स्पेन आदि देश बुरी तरह प्रभावित है जहां 40 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। भारत में भी अबतक 35 लोगों की मौत हो चुकी है और 1400 से ज्यादा लोग संक्रमित है। 

कोरोना से बचाव के लिए आयुष मंत्रालय का निर्देश

आयुष मंत्रालय ने कोरोना वायरस के मद्देनजर रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए एहतियाती स्वास्थ्य उपायों के तौर पर अपनी देखभाल के लिए कुछ दिशा निर्देश मंगलवार को जारी किए। इनमें खासतौर से श्वसन संबंधी उपायों का जिक्र है। उसने कहा कि ये उपाय आयुर्वेदिक साहित्य और वैज्ञानिक प्रकाशनों पर आधारित हैं। मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि कोविड-19 के चलते दुनियाभर में सभी लोग प्रभावित हैं। अच्छा स्वास्थ्य बनाए रखने में शरीर की प्राकृतिक रक्षा प्रणाली को मजबूत करना अहम भूमिका निभाता है। इसमें कहा गया है कि हम सभी जानते हैं कि इलाज से बेहतर रोकथाम है। अभी तक चूंकि कोविड-19 के लिए कोई दवा नहीं है तो अच्छा होगा कि ऐसे एहतियाती कदम उठाए जाए जो इस वक्त में हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएं।

गर्म पानी, योग और प्राणायाम

कुछ सामान्य उपायों को सूचीबद्ध करते हुए मंत्रालय ने दिनभर गर्म पानी पीने, हर दिन कम से कम 30 मिनट योग अभ्यास, प्राणायाम करने और ध्यान लगाने तथा भोजन पकाने के दौरान हल्दी, जीरा और धनिया जैसे मसालों का इस्तेमाल करने की सलाह दी है।उसने रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने के लिए सुबह 10 ग्राम यानी एक चम्मच च्यवनप्राश खाने (मधुमेह रोगियों को बिना र्शकरा वाला) जैसे कुछ आयुर्वेदिक उपायों का जिक्र किया है।

काढ़ा भी है गुणकारी

मंत्रालय ने दिन में एक या दो बार हर्बल चाय पीने या तुलसी, दालचीनी, काली मिर्च, सूखी अदरक और किशमिश का काढ़ा पीने तथा 150 मिलीलीटर गर्म दूध में आधा चम्मच हल्दी डालकर पीने की भी सलाह दी है।उसने सुबह और शाम दोनों नथुने में तिल या नारियल का तेल या घी लगाने जैसे कुछ आसान आयुर्वेदिक उपाय भी सुझाए हैं।

पुदीना और चय्वनप्राश का भी होता है लाभ

सूखी खांसी या गले में सूजन के लिए उसने दिन में एक बार पुदीने की ताजा पत्ती या अजवाइन के साथ भांप लेने की सलाह दी है और खांसी या गले में खराश के लिए दिन में दो-तीन बार प्राकृतिक शक्कर या शहद के साथ लौंग का पाउडर लेने के लिए भी कहा है।मंत्रालय ने कहा कि इन उपायों से आम तौर पर सामान्य सूखी खांसी या गले में सूजन कम होती है। हालांकि अगर लक्षण फिर भी बने रहते हैं तो डॉक्टर की सलाह लेना बेहतर है। उसने कहा कि देशभर के प्रतिष्ठित डॉक्टरों ने इन उपायों का सुझाव दिया है क्योंकि ये संक्रमण के खिलाफ व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा सकते हैं।

(भाषा इनपुट के साथ)
 


 

देश और दुनिया में  कोरोना वायरस पर क्या चल रहा है? पढ़ें कोरोना के लेटेस्ट समाचार. और सभी बड़ी ख़बरों के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें

अगली खबर