खुद को 'सपनों का सौदागर' कहते थे अजीत जोगी, एक नजर पूर्व सीएम के सियासी सफर पर

देश
प्रभाष रावत
Updated May 29, 2020 | 16:21 IST

Ajit Jogi Political career and Journey: छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री अजीत जोगी का अस्पताल में इलाज के दौरान निधन हो चुका है। प्रशासनिक सेवा (IAS) से सियासत तक, उनकी छवि एक जुझारू नेता की रही।

Ajit Jogi Political Carrier
अजीत जोगी का सियासी सफर  |  तस्वीर साभार: BCCL

मुख्य बातें

  • छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद पहले मुख्यमंत्री बने थे अजीत जोगी
  • साल 2000 से 2003 के बीच संभाली थी मुख्यमंत्री की कुर्सी
  • IAS अफसर से जुझारू नेता तक, ऐसा रहा अजीत जोगी का सियासी सफर

नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ 2.5 करोड़ से ज्यादा आबादी के साथ एक मध्य-आकार वाला राज्य, जो साल 2000 में मध्य प्रदेश से निकला। ऐसा कहा जाता है कि इस राज्य पर कोई भी चर्चा इसके दो विद्रोहियों के संदर्भ के बिना पूरी नहीं हुई है - एक सशस्त्र माओवादी और दूसरे कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) हो या कांग्रेस पार्टी, सभी दिग्गज नेताओं ने यह माना कि अजीत जोगी को किसी भी कीमत छत्तीसगढ़ की राजनीति में नजरअंदाज नहीं किया जा सकता।

करीब 9 साल पहले कार दुर्घटना के बाद व्हीलचेयर पर घूमने वाले जोगी छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री थे। वह साल 2000 से 2003 तक छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के तौर पर सेवारत रहे। राज्य के चुनाव के अलावा वह संसद के दोनों सदनों का भी हिस्सा रहे। साल 2000 में उन्होंने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद कहा था, 'हां, मैं सपनों का सौदागर हूं. मैं सपने बेचता हूं'।

आइए एक नजर डालते हैं उनके राजनीतिक सफर के कुछ अहम सालों पर

  • अजीत जोगी 1986 से 1998 के बीच दो बार राज्‍यसभा के सांसद रहे।
  • साल 1998 में वे रायगढ़ से सांसद चुने गए और 1998 से 2000 के बीच कांग्रेस पार्टी के प्रवक्‍ता भी रहे।
  • छत्तीसगढ़ राज्‍य बनने के बाद वे साल 2000 से 2003 के बीच राज्‍य के पहले मुख्‍यमंत्री रहे।
  • साल 2004 से 2008 के बीच जोगी 14वीं लोकसभा के सांसद रहे।
  • साल 2008 में मरवाही विधानसभा सीट से चुन कर विधानसभा पहुंचे।
  • साल 2009 के लोकसभा चुनावों में चुने जाने के बाद जोगी ने लोकसभा सदस्य छत्तीसगढ़ के महासामुंद निर्वाचन क्षेत्र के रूप में काम किया  हालांकि वह 2014 के लोकसभा चुनावों में अपनी सीट बरकरार रखने में असफल रहे।

2016 में बनाई थी अपनी पार्टी: कांग्रेस को अलविदा कहने के बाद अजीत जोगी ने साल 2016 में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जोगी (JCCJ) नाम से अपनी नई पार्टी बनाई थी। छत्तीसगढ़ की राजनीति में 2016 तक दो ही मुख्य पार्टियां थीं- कांग्रेस और बीजेपी, और जमीनी पकड़ रखने वाली कोई क्षेत्री पार्टी मौजूद नहीं थी। अजीत जोगी ने जनता को यही विकल्प देने के लिए अपनी पार्टी का गठन किया था।

राजनीति में आने से पहले थे IAS: राजनीति में आने से पहले अजीत जोगी भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) में रहे हैं, बाद में राजनीति में आने के लिए उन्होंने इसे छोड़ दिया। उन्होंने 'द रोल ऑफ डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर' और 'एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ पेरिफेरल एरियाज' नाम से दो किताबें भी लिखी हैं।

देश और दुनिया में  कोरोना वायरस पर क्या चल रहा है? पढ़ें कोरोना के लेटेस्ट समाचार. और सभी बड़ी ख़बरों के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें

अगली खबर