Supreme Court on Commiittee: कमेटी के बारे में जब उठा सवाल तो सीजेआई ने दिया था दिलचस्प जवाब

देश
ललित राय
Updated Jan 13, 2021 | 12:17 IST

सुप्रीम कोर्ट में जब सुनवाई के दौरान समिति के मुद्दे पर पर जब सवाल उठा तो सीजेआई ने साफ कर दिया कि वो किसी के विचारों को सुनने के लिए नहीं बैठे हैं। अदालत इस संबंध में फैसला लेगी।

Supreme Court on Commiittee: कमेटी के बारे में  जब उठा सवाल तो सीजेआई ने दिया था दिलचस्प जवाब
कमेटी गठन के बारे में सीजेआई की थी दिलचस्प टिप्पणी 

मुख्य बातें

  • कृषि कानूनों पर विचार के लिए सुप्रीम कोर्ट की तरफ से एक समिति गठित
  • किसान संगठनों को समिति से सदस्यों के नाम पर ऐतराज
  • कृषि कानून की वजह से उपजे गतिरोध को खत्म कराना हमारी पहली प्राथमिकता

नई दिल्ली। किसान आंदोलन के संबंध में मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में जबरदस्त जिरह हुई। जिरह के दौरान सीजेआई एस एस बोबड़े की पीठ ने सरकार को किसान संगठन के वकीलों को फटकार लगाई और स्पष्ट किया कि इस मसले का समाधान निकलना चाहिए और उस दिशा में दो अहम फैसले किये। पहले फैसले में कृषि कानूनों के अमल पर अंतरिम रोक लगाने का फैसला किया गया और दूसरे फैसले में चार सदस्यों की कमेटी बना दी गई। सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर किसान संगठनों से खुशी का इजहार किया। लेकिन कमेटी के गठन के मुद्दे पर नाखुशी थी। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने सभी तरह के विरोध को दरकिनार करते हुए कमेटी पर मुहर लगा दी। 

कमेटी गठन के सवाल पर सीजेआई का दिलचस्प जवाब
सुनवाई के दौरान जब किसान संगठनों की तरफ से कहा गया कि कमेटी की संरचना इस तरह से की जाए जो हर किसी को मान्य हो तो इस तरह की मांग पर सीजेआई ने दिलचस्प जवाब दिया। एस ए बोबड़े ने कहा कि अदालत अच्छी कमेटी के गठन के बारे में किसी से विचार नहीं मांग रही है। हम एक कमेटी का गठन करेंगे जो कृषि कानूनों के संबंध में जो कुथ भ्रांतियां हैं उसे समझकर दूर करने का सुझाव देगी जिसके बाद हम किसी सार्थक निर्णय पर पहुंच सकेंगे। 

मामले को सुलझाना पहली प्राथमिकता
अदालत ने साफ कर दिया कि नए कृषि कानूनों को लागू किए जाने से पहले एमएसपी की जो व्यवस्था है वो अगले आदेश के आने तक प्रभावी रहेगी। इसके साथ जमीनों पर किसानों के अधिकार को सुरक्षित बनाए रखने की जिम्मेदारी सरकार की होगी। सरकार को यह सुनिश्चित करना होगा कि जमीनों का मालिकाना हक किसी तरह से प्रभावित ना हो। अदालत ने साफ किया कि इस विषय से जुड़े जितने भी पक्ष हैं उनके कंधे पर जिम्मेदारी है। विवाद की वजह से जो हालात पैदा हुए हैं उसे खत्म करने के सिए सभी पक्षों को आगे आने की आवश्यकता है। 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर